गांधार तथा मथुरा कला शैली GANDHAR AND MATHURA KALA (प्राचीन इतिहास भाग 21)

11165
4
इस ऑडियो क्लिप में आप जानेंगे विभिन्न कला शैलियों के बारे में 

tags: gandhar kala and mathura kala in hindi, ancient history notes, gandhar murti kala, boddh murti

4 COMMENTS

  1. मूर्ति कला की तीन प्रमुख शैलियों अर्थात गंधार, मथुरा और अमरावती शैली का विकास अलग-अलग स्थानों पर हुआ है | गंधार शैली का विकास आधुनिक पेशावर और अफगानिस्तान के निकट पंजाब की पशिचमी सीमाओं में 50 ईसा पूर्व से लेकर 500 ईस्वी तक हुआ| मथुरा शैली का विकास पहली और तीसरी शताब्दी ई .पू के बीच की अवधि में यमुना नदी के किनारे हुआ और भारत के दक्षिणी भाग में, अमरावती शैली का विकास सातवाहन शासकों के संरक्षण में कृष्णा नदी के किनारे हुआ था | इस लेख में इन शैलियों के बीच के अंतर का अध्ययन करेंगे |

  2. मूर्ति कला की तीन प्रमुख शैलियों अर्थात गंधार, मथुरा और अमरावती शैली का विकास अलग-अलग स्थानों पर हुआ है | गंधार शैली का विकास आधुनिक पेशावर और अफगानिस्तान के निकट पंजाब की पशिचमी सीमाओं में 50 ईसा पूर्व से लेकर 500 ईस्वी तक हुआ| इस शैली को ग्रीको-इंडियन शैली के रूप में भी जाना जाता है | मथुरा शैली का विकास पहली और तीसरी शताब्दी ई .पू के बीच की अवधि में यमुना नदी के किनारे हुआ | ये मूर्तियां मौर्य कल के दौरान मिली पहले की यक्ष मूर्तियों के नमूने पर आधारित हैं और भारत के दक्षिणी भाग में, अमरावती शैली का विकास सातवाहन शासकों के संरक्षण में कृष्णा नदी के किनारे हुआ | इस शैली की मूर्तियों में त्रिभंग आसन यानी ‘तीन झुकावों के साथ शारीर’ का अत्यधिक प्रयोग किया गया है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here