मगध का उत्कर्ष भाग 1(प्राचीन इतिहास भाग 13) MAGADHA KA UTKARSH audio notes

8791
4
यहाँ आप जानेंगे मगध गणराज्य के उत्कर्ष के कारण कि आखिर ऐसी क्या बात थी मगध में जो उन 16 महाजनपदों में से सिर्फ मगध ही साम्राज्य बन पाया और कुछ ख़ास बातें जो आप इस ऑडियो क्लिप में पाएंगे वह हैं
1. मगध की भौगोलिक स्थिति के बारे में

2. मगध पर शासन की स्थिति के बारे में

3. मगध पर शासन करने वाले कुछ प्रमुख वंशों के बारे में
4. तथा अन्य अनेक तथ्य जो इस भाग से सम्बंधित हैं

 

मगध का उत्कर्ष भाग 1 ऑडियो नोट्स

[media-downloader media_id=”1566″]

 

4 COMMENTS

  1. जैन साहित्य में इसे श्रेणिक कहा गया है। बिम्बिसार मगध के पहले वंश हर्यक वंश का प्रथम शक्तिशाली शासक था। उसकी राजधानी गिरीव्रज (राजगृह) थी। बिम्बिसार ने विजयों तथा वैवाहिक संबंधों द्वारा अपने वंश का विस्तार किया। बिम्बिसार ने अपने राज्यवैध जीवक को अवंती नरेश चंडप्रधोत की पीलिया नामक बिमारी को ठीक करने के लिए भेजा था, जिससे मैत्री सम्बन्ध स्थापित हुए। बिम्बिसार ने अंग देश के शासक ब्रह्मदत्त को पराजित कर उसे अपने राज्य में मिला लिया। यह बौद्ध तथा जैन दोनों मतों का पोषक था, इसने राजगृह नामक नवीन नगर की स्थापना की। इसकी ह्त्या इसके पुत्र अजातशत्रु ने कर दी थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here