ऐसा वायसराय जिसे “भारत का रक्षक तथा विजय का संचालक” कहा जाता है !

6103
0

सर जॉन लारेंस को “भारत का रक्षक और जीत का संचालक कहा जाता है” पर क्यों ??

ऐसा वायसराय जिसे "भारत का रक्षक तथा विजय का संचालक" कहा जाता है ! 1

1845 से 1846 के प्रथम सिख युद्ध के दौरान, लॉरेंस ने पंजाब में ब्रिटिश सेना की आपूर्ति की थी। पंजाब के अंग्रेजी राज्य में मिलाये जाने के पश्चात वह चीफ कमिश्नर नियुक्त किया गया था,  उस भूमिका में वह अपने प्रशासनिक सुधारों, पहाड़ी जनजातियों को मुख्य धारा में लाने और सती प्रथा को खत्म करने के अपने प्रयासों के लिए जाना जाता था।

  • 1849 में, दूसरे सिख युद्ध के बाद, वह अपने भाई के अधीन पंजाब बोर्ड ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन के सदस्य बने, और प्रांत के कई सुधार किये, जिसमें एक सामान्य मुद्रा और डाक प्रणाली की स्थापना शामिल था, और इसने पंजाब के बुनियादी ढांचे के विकास को प्रोत्साहित किया, जिसके लिए उन्हें “पंजाब के उद्धारकर्ता” भी कहा जाता है।
  • इस काम में स्थानीय अभिजात वर्गों की शक्ति को सीमित करने के उनके प्रयासों ने उन्हें अपने भाई के साथ विरुद्ध लाकर खड़ा कर दिया और अंततः पंजाब बोर्ड ऑफ एडमिनिस्ट्रेशन को ख़त्म कर दिया गया और वो पंजाब प्रांत के कार्यकारी शाखा में मुख्य आयुक्त बन गए।
  • उस भूमिका में, लॉरेंस को 1857 के विद्रोह को पंजाब में फैलने से रोकने के लिए आंशिक रूप से जिम्मेदार ठहराया गया था|
  • अफगानिस्तान के सन्दर्भ में उसने अहस्तक्षेप की नीती का पालन किया था तथा तत्कालीन शासक शेर अली से दोस्ती की |
  • 1865 में भूटानीयों ने ब्रिटिश साम्राज्य पर आक्रमण कर दिया
  • वाइसरॉय के रूप में, लॉरेंस ने एक सतर्क नीति अपनाई, अफगानिस्तान और फारस की खाड़ी में उलझाव से बचने घरेलू मामलों में, उन्होंने भारतीयों के लिए शैक्षिक अवसरों में वृद्धि की, लेकिन साथ ही उच्च नागरिक सेवा पदों में देशी भारतीयों के इस्तेमाल को सीमित कर दिया।

सर जॉन लारेंस के काल में हुई घटनायें –

  • 1865 में भूटानियों का आक्रमण
  • 1865 में भारत और यूरोप के बीच प्रथम समुद्री टेलीग्राफ सेवा शुरू
  • 1866 में उडीसा में अकाल
  • 1868 में पंजाब तथा अवध के काश्तकारी अधिनियम पारित हुए
  • 1868-69 में बुन्देलखंड और राजपूताना में अकाल
  • सर जोर्ज कैम्पबैल के नेत्रत्व में अकाल आयोग का गठन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here