1. काइटिन द्रव्य त्वचा की परत को जल के लिए अभेद्य बनाता है
2. भारत के उत्तरी मैदानों की मृदा सामान्यतः तलोच्चन द्वारा बनी है
3. सोयाबीन और मूॅगफली खाद्य प्रोटीन के दो सबसे समृद्ध ज्ञात स्त्रोत है प्रोटीन एक जटिल कार्बनिक यौगिक है जो 20 एमिनो अम्ल से मिलकर बनता है।
4. ओधौगिक बद्धिःस्त्राव द्वारा किया जाने वाले जल प्रदुशण को रोकने के लिए र्थेनियम एंव हाथी घास को उपयोगी पाया है
5. बादल वायु के परिक्षेप माध्यम में जल बिन्दु कोलाॅइडी परिक्षेपण है
6. पदार्थ की चैथी अवस्था प्लाज्मा है ।
7. लैम्बर्ट नियम प्रदिप्ति से सम्बन्धित है ।
8. द्रव्य का न सृजन किया जा सकता है न विनाष , यह द्रव्यमान सरंक्षण नियम से सम्बधित है ।
9. डेसिवल ईकाई का प्रयोग ध्वनि की तीव्रता के लिए किया जाता है।
10. बैटरी में रासायनिक ऊर्जा का बैधुत ऊर्जा में रूपान्तरण होता है ।
11. पैराफिन मोम पेटंोलियम मेाम है।
12. कोयले की पीट किस्म में मूल पादप द्रव्य के अभिज्ञेय अवषेश प्राप्त होते है।
13. लोहे का षुद्वतम रूप पिटवा लोहा है।
14. पारद धातु अन्य धातुओें के साथ अमलगम बनाती है ।
15. कपडों और बर्तनों को साफ करने के लिए सल्फोनेट डिटर्जेन्ट में होते है ।
16. यूरेनियम के रेडियोएक्टिव विघटन के फलस्वरूप अन्ततः सीसा बनता है।
17. बम बनाने के लिए फास्फोरस का प्रयोग किया जाता है ।
18. रेडियो तरंगो का परावर्तन करने वाली वायुमंडलीय परत केा आयनमंडल कहते है। 19. जर्मन सिल्बर एक जिंक , काॅपर और निकिल का मिश्रण धातु है ।
20. शैल का कायांतरण स्लेट शैल में होता है।
21. काॅपर कुछ समय तक खुली हवा में पडी रहे तो उस पर हरे कार्वोनेट की परत बन जाती है।
22. अधिवकृक सहःसम्बन्ध रक्तचाप से है।
23. स्तनपायी जीवों में पाई जाने वाली लसीका वाहिनियाॅ संरचना षरीर को गर्म रखने में प्रत्यक्ष रूप से मदद करती है।
24. यक्ष्मा रोग प्रायः दूध के माध्यम से फैलता है।
25. सौर ऊर्जा का सबसे बडा यौगिकीकरण हरे पौधे है।
26. ऊतक संवर्धन का सही वर्णन उधान कृशि की फसलों का विकास और प्रसार है। 27. क्राईजोनिक , निम्नतापमान से सम्बधित है।
28. द्रव्यमान – ऊर्जा सम्बन्ध सापेक्षता का सामान्य सिद्धान्त का निश्कर्श है ।
29. अतिलघु समय अन्तरालों को सही – सही मापने के लिए पुल्सर का प्रयोग किया जाता है।
30. टाॅर्च लाइट, इलेक्टिंक सेवर आदि जैसे उपकरणो में आम तौर पर प्रयुक्त चार्जेबल बैटरीयों में निकिल और कैडमियम काम करता है।
31. कीटोन निकाय घटक मूत्र का अपसामान्य घटक है।
32. लसीकाणु कोषिका प्रतिरक्षी पैदा करती है ।
33. रक्त के स्कन्दन में विटामिन “के” मदद करता है।
34. बहुत अधिक ऊचाई पर मनुश्य की लाल रूधिर कणिकाओं का संख्या बढ जाती है।
35. टैस्टटय ूब बेबी का अर्थ पात्रे निशेचन और फिर गर्भाषय में प्रतिरोशण है।
36. पूर्वी भारत के सुन्दरवन मैन्ग्रोव पारिस्थितिक तन्त्र का एक उदाहरण है।
37. थर समीर और समुन्द्र समीर बनने का कारण संवहन है।
38. माध्यम के तापमान बृद्वि के साथ प्रकाष की चाल की गति वैसी ही रहती है।
39. षीतकाल में कपउे हमें गरम रखतें है क्योकि वे षरीर की ऊश्मा को बाहर जाने से रोकते है।
40. रेफ्रिजरेटर में षीतन संपीडित गैस के सहसा प्रसार के द्वारा होता है।
41. लघु तरंगो पर वायुमंडलीय विक्षेाभ का प्रभाव नही पडता इसलिए लघु तरंगो के प्रसारण को दिर्घ तरंगो के प्रसारण की अपेक्षा अच्छी तरह सुन सकतें है।
42. क्वार्टज कैल्षियम सिलिकेट से बनता है ।
43. व्यापारिक पवने विशुवतीय निम्न दाव से चलती है।
44. इलैक्टंाॅन सूक्ष्मदर्षी का अविश्कार नोल और रूस्का ने किया ।
45. संवहनी वर्शा विशुवतीय क्षेत्र में होती है।
46. डार्विन फिचिंग का प्रयोग पक्षियों के लिए किया जाता है।
47. किसी कमरे के एक कोने में सेंट की खुुली षीषी रख देने से उसकी खुषबू कमरे के सभी भागों मेे विसरण के कारण फैल जाती है।
48. विकिरण के द्वारा मेधाच्छन्न रात की अपेक्षा निर्मल रात अधिक ठण्डी होती है।
49. जन्म के बाद मानव के तन्त्रिका ऊतक में कोई कोषिका विभाजन नही होता ।
50. ध्वनि की गति सवसे तेज एल्यूमिनियम में होती है।
0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *