ये 24 महत्वपूर्ण कथन व नारे प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा में पूछे जाते हैं

वंदे मातरम –  बंकिम चंद्र चटर्जी हे राम – महात्मा गांधी जन गण मन अधिनायक जय हे–  रविंद्र नाथ टैगोर हू लिव्स इफ इंडिया डाइज–  जवाहरलाल नेहरू इंकलाब जिंदाबाद–   भगत सिंह दिल्ली  चलो–  सुभाष चंद्र बोस पूर्ण स्वराज्य–  जवाहरलाल नेहरू हिंदी हिंदू हिंदुस्तान–  भारतेंदु हरिश्चंद्र तुम मुझे खून दो मैं तुम्हें आजादी दूंगा –  सुभाष […]

Read More

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के कुछ प्रमुख व्यक्तित्व | PDF | Download

इस नोट्स में आप पायेंगे, विभिन्न स्वतंत्रता संग्राम के व्यक्तित्वों के बारे में, अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं में इससे सवाल पूछा जाता है, यहाँ ये बेहद सरल भाषा में दिया गया है जिससे एक बार पढ़ते ही समझ आ सके, Oneliner Format के इस नोट्स से आपको तथ्य याद रखने में आसानी होगी, तथा मुख्य अंशों […]

Read More

भारतीय इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न PDF Download (Descriptive)

भारतीय इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न PDF Download (Descriptive) Subject – History Type – Descriptive File Type – PDF Language – Hindi Pages – 33 Pages विशेषता – अच्छे प्रश्न और व्याख्या सहित उत्तर उदाहरण प्रश्न – टीप सुलतान ने अंग्रेजों के साथ युद्ध करते हुए कब वीरगतत प्राप्त की?ANS.1799 ई. बुद्ध में वैराग्य भावना […]

Read More

ऐसा वायसराय जिसे “भारत का रक्षक तथा विजय का संचालक” कहा जाता है !

सर जॉन लारेंस को “भारत का रक्षक और जीत का संचालक कहा जाता है” पर क्यों ?? 1845 से 1846 के प्रथम सिख युद्ध के दौरान, लॉरेंस ने पंजाब में ब्रिटिश सेना की आपूर्ति की थी। पंजाब के अंग्रेजी राज्य में मिलाये जाने के पश्चात वह चीफ कमिश्नर नियुक्त किया गया था,  उस भूमिका में […]

Read More

NCERT History eBook in Hindi – Download PDF

डाउनलोड कीजिये NCERT History कक्षा 6 से लेकर कक्षा 12 तक, ये किताबें UPSC, UPPSC, SSC आदि सभी परीक्षाओं के लिये बेहद महत्वपूर्ण हैं।  ये eBooks आपके लिए बेहद लाभदायक साबित हो सकती हैं, हम यहाँ 12th तक की किताबें उपलब्ध करा रहे हैं, History को बेहतर तरीके से समझने के लिये Class 6th से […]

Read More

7 ऐसे युद्ध जिन्होंने भारत का इतिहास बदल दिया

भारत में प्राचीन काल से आज तक अनेकों युद्ध लड़े गए लेकिन कुछ युद्ध ऐसे भी हुए जिन्होंने भारत के इतिहास को बदल कर रख दिया।  चलिये जानें ऐसे 7 युद्धों के बारे में जिन्होंने भारत का इतिहास बदल कर रख दिया   1. कलिंग का युद्ध (261 ईसा पूर्व) कलिंग की और से 60000 […]

Read More

भारत के प्रमुख गवर्नर जनरल तथा वायसराय

भारत के प्रमुख गवर्नर जनरल तथा वायसराय ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने 1757 ई. से 1772 ई. तक बंगाल में 4 गवर्नरों की नियुक्ति की 1773 ई. के रेगुलेटिंग एक्ट के तहत बंगाल के गवर्नर को बंगाल का गवर्नर जनरल बना दिया गया तथा मद्रास और बम्बई के गवर्नरों को उसके अधीन कर दिया गया बंगाल […]

Read More

अंग्रेजो की भूराजस्व नीति- British Land Revenue Policy

land revenue system under British rule, permanent settlement land revenue system and mahalwari system of land revenue, ryotwari system, difference between mahalwari system and ryotwari system, and difference between mahalwari system and permanent settlement बिट्रिश लैंड रैवेन्यू पॉलिसी(British Land Revenue Policy in Hindi) रैयतवाडी व्यवस्था रैयतवाडी व्यवस्था फ्रांस में प्रचलित व्यवस्था की नकल थी और […]

Read More

कृषक आंदोलन- Audio Notes

 कृषक आंदोलन सर्वप्रथम बंगाल में नील कृषकों की हडताल हुई 1858 से 1860 तक ये आंदोलन अंग्रेजों भूमिपतियों के बीच किया गया था नील खेती  कम्पनी के कुछ अवकाश प्राप्त अधिकारी बंगाल तथा बिहार के जमींदारों से भूमि प्राप्त कर नील की खेती करवाते थे वे किसानों पर अत्याचार करते रहते थे और मनमानी शर्तों […]

Read More

आदिवासी विद्रोह- Tribal Revolts in India Before Indian Independence

Tribal Uprising in British India इसमें कोल, संथाल, अहोम, खासी, मुंडा, रमपाई कुछ प्रमुख है कोल विद्रोह यह 1820से 1836 तक हुआ छोटा नागपुर के कोलो ने अपना क्रोध उस समय प्रकट किया जब उनकी भूमि उनके मुखियाओ से छिन के कृषिक मुस्लिमों तथा सिक्खों को दे दी गई 1831 ई. में कोलो ने लगभग […]

Read More

1857 के बाद हुए नागरिक विद्रोह [Audio Notes]

 1857 के बाद के विद्रोह(Revolt after 1857) 1857 के विद्रोह के बाद भारत में और भी अनेक विद्रोह हुए जिनमें कुछ नागरिक विद्रोह थे कुछ आदिवासी तथा कुछ कृषक विद्रोह थे  सन्यासी विद्रोह (Sanyasi Vidroh)  यह 1763 ई. से 1800 ई. तक चला अंग्रेजो के द्वारा बंगाल के आर्थिक शोषण से जमींदार ,शिल्पकार, कृषक सभी […]

Read More

1857 के विद्रोह के कारण [Audio Notes]

राजनैतिक कारण डलहौजी की राज्य हडप ने की नीति , भारतीयो के साथ अंग्रेजों का घृणित व्यवहार (रंगभेद करना अच्छा व्यवहार ना करना उच्च पदों पर केवल अंग्रेजों को ही आसीन किया जाता था और भारतीयोंको छोटे पदों पर आसीन किया जाता था ) आर्थिक कारण अंग्रेजों की नीति की वजह से उद्योग धंधे भी […]

Read More

1857 का विद्रोह – भाग 1 [Audio Notes in Hindi]

1857 का विद्रोह कम्पनी के अधीनस्थ भारतीय सैनिकों की बगावत से प्रारम्भ हुआ1857 का विद्रोह का प्रारम्भ 29 मार्च 1857 को बंगाल के बैरकपुर सैन-ए छावनी में तैनात 19 वीं और 34 वीं नैटिव इंफेंटरी में जो सैनिक थे उन्होंने चर्बी लगे कारतूसों को प्रयोगों में लाने से मना कर दिया बॉथ की हत्या  इन्हीं […]

Read More

आंग्ल मराठा युध्द – द्वितीय [Audio Notes in Hindi]

द्वितीय आंग्ल मराठा युध्द द्वितीय आंग्ल मराठा युध्द 1803 ई0 से 1806 ई0 तक चला आंग्ल माराठा युध्द का दूसरा दौर फ्रांसीसी भय से संलग्न था लार्ड वेलेजली का निर्णय  लार्ड वेलेजली ने इससे बचने के लिए सभी भारतीय प्रांतों को अपने अधीन करने का निश्चय किया द्वितीय आंग्ल मराठा युध्द का कारण लार्ड वेलेजली […]

Read More

आंग्ल मराठा संघर्ष- प्रथम – Angl-Maratha War Audio Notes in Hindi

प्रथम आंग्ल मराठा संघर्ष  अंग्रेजों और मराठों के मध्य क्रमश: तीन युध्द हुए प्रथम 1775 से 1782 में द्वितीय 1803 से 1806 में तथा तृतीय 1817 से 1818 ई. में सूरत की संधि प्रथम युध्द का प्रारम्भ सूरत की संधि के साथ हुआ यह युध्द 1775 से 1782 तक चला सूरत की संधि को कलकत्ता […]

Read More