• यदि दिए गए घातांक का ईकाई का अंक 0, 1, 5, 6, हो तो ईकाई का अंक क्रमश: 0, 1, 5, 6 ही होगा |
  • यदि दिए गए घातांक का ईकाई का अंक 4 या 9 हो

*(यदि घातक की घात विषम हो) तो ईकाई का अंक क्रमशः 4 या 9 ही होगा |
*(यदि घातक की घात सम हो) तो ईकाई का अंक क्रमशः 6 या 1 होगा |

  • यदि दिए गए घातांक का ईकाई का अंक 2, 3, 7, 8 हो तो

निम्नलिखित उदाहरण द्वारा समझिये (2, 3, 7, 8 के लिये)  –

का ईकाई अंक ज्ञात कीजिए |

प्रथम – 553 (घात) को 4 से भाग करने पर शेषफल 1 प्राप्त होता है जिसे घातांक की नई घात के रूप में लिया जाता है |

द्वितीय – इसलिए दी गए घातांक का ईकाई का अंक 7 होगा |

*यदि 4 से घात को भाग देने पर 0 शेषफल प्राप्त होता है तो 0 क स्थान पर 4 लिया जाता है अर्थात् नयी घात 4 होगी |

0Shares

Tagged:

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *