मशरूम खेती (Mushroom farming)

  • मशरूम एक कवक है जो स्वादिष्ट एवं पौष्टिक सब्जी के रूप में प्रयुक्त होता है, इसमें कार्बोहाइड्रेट एवं चर्बी की मात्रा कम तथा प्रोटीन की प्रचुर मात्रा पाई जाती है |
  • इसको बिना मृदा के धान के पुआल एवं गेहूं के भूसे आदि पर सुगमता से उगाया जा सकता है |

इसके लिए उचित तापमान 22-30॰ तथा आद्रता 80-90॰ उपयुक्त पाई जाती है इसके तीन प्रकार है –

  1. बटन
  2. पैडी स्ट्रा
  3. ढींगरी
  • मशरूम खेती का भविष्य उज्जवल है इसकी मांग 7.5 % वार्षिक कर दर से बढ़ रही है 1985 में जहां इसका उत्पादन मात्र 4000 टन था वहीं 2003 में बढ़कर 50000 टन हो गया |
  • इसमें 85 प्रतिशत भाग दो बटन मशरूम का रहा है मशरूम उत्पादन में हिमाचल प्रदेश हरियाणा, उत्तर प्रदेश, पंजाब तथा उत्तरांचल क्रमश: आगे हैं |
  • मौसमी उत्पादकों में भारत के पश्चिमोत्तर मैदानी इलाके के उत्पादक भी शामिल हैं जो बटन मशरुम की एक शीतकालीन फसल पैदा करते हैं और ताजा-ताजा बेच देते हैं।
  • मशरुम 30-35 दिनों में नजर आने लगता है। यह कुकुरमुत्ता फल वाला हिस्सा विकसित होने लगता है इसे तब काट लिया जाता है जब इसका बटन कड़ा होकर बंद हो जाता है।
  • 8 से 10 सप्ताह के एक फसल चक्र के दौरान प्रति वर्गमीटर में 10 किलोग्राम मशरुम पैदा होता है। काटे गए मशरुम को बाजार में सप्लाई के लिए पैक किया जा सकता है।

Tags : mushroom cultivation in hindi, mushroom cultivation in hindi language, mushroom growing in hindi, button mushroom cultivation in hindi, mushroom cultivation in hindi pdf, about mushroom cultivation in hindi, process of mushroom cultivation in hindi

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *