चन्द्रशेखर सीमा क्या है ? (What is Chandrashekhar Limit in Hindi)


किसी स्थायी श्वेत बौने नक्षत्र का अधिकतम सम्भावित द्रव्यमान चन्द्रशेखर सीमा (Chandrasekhar limit) कहलाती है। इस सीमा का उल्लेख सबसे पहले विल्हेम एण्डर्सन और ई सी स्टोनर ने १९३० में प्रकाशित अपने शोधपत्रों में किया था। किन्तु भारत के खगोलभौतिकशास्त्री सुब्रमण्यन चन्द्रशेखर ने १९३० में, १९ वर्ष की आयु में, स्वतन्त्र रूप से इस सीमा की खोज की और इस सीमा की गणना को और अधिक शुद्ध बनाया।

सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर ने ‘व्हाइट ड्वार्फ’, यानी ‘श्वेत बौने’ नाम के नक्षत्रों के बारे में सिद्धांत का प्रतिपादन किया. इन नक्षत्रों के लिए उन्होंने जो सीमा निर्धारित की है, उसे ‘चंद्रशेखर सीमा’ कहा जाता है. उनके सिद्धांत से ब्रह्मांड की उत्पत्ति के बारे में `अनेक रहस्यों का पता चला. अपनी शानदार खोज ‘चन्द्रशेखर सीमा’ के लिए वह अत्यधिक प्रसिद्ध है. उन्होंने दिखाया कि एक अत्याधिक द्रव्यमान है जिसे इलेक्ट्रॉनों और परमाणु नाभिकों द्वारा बनाये दाब द्वारा गुरुत्व के विरुद्ध सहारा दिया जा सकता है. इस सीमा का मान एक सौर द्रव्यमान से लगभग 1.44 गुणा है. बता दें कि अपने अंतिम साक्षात्कार में उन्होंने कहा था, ‘यद्यपि मैं नास्तिक हिंदू हूं पर तार्किक दृष्टि से जब देखता हूं, तो यह पाता हूं कि मानव की सबसे बड़ी और अद्भुत खोज ईश्वर है.’

tags: Chandrashekhar Limit in Hindi, What is chandrashekhar limit

0Shares

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *