Press ESC to close

Or check our Popular Categories...

Hindi

17   Articles
17
52 Min Read
1463

1 अति सूक्ष्म परिमाण   अणिमा 2 अधः (नीचे) लिखा हुआ   अधोलिखित 3 अध्ययन किया हुआ   अधीत 4 अनुभव प्राप्त   अनुभवी 5 अनुमान किया हुआ   अनुमानित 6 अनुवाद करनेवाला   अनुवादक 7 अनुवाद किया हुआ   अनूदित 8 अनेक राष्ट्रों में आपस में…

Continue Reading
62 Min Read
2626

ऐसे शब्द जिनके अर्थ समान हों, पर्यायवाची शब्द कहलाते हैं। 1 नया   ‘नवीन, नव्य, नूतन, आधुनिक, अभिनव, अर्वाचीन, नव, ताज़ा। 2 कर्ण   अंगराज, सूर्यसुत, अर्कनन्दन, राधेय, सूतपुत्र, रविसुत, आदित्यनन्दन। 3 खतरा   अंदेशा, भय, डर, आशंका। 4 तम   अंधकार, ध्वान्त, तिमिर,…

Continue Reading
13 Min Read
1317

छन्द छन्द शब्द संस्कृत के छिति धातु से बना है।,छिदि का अर्थ है-आच्छादित करना ! सर्वप्रथम छन्द की चर्चा ऋग्वेद में आई है। छन्द शास्त्र का प्रथम प्रणेता आचार्य पिंगल को माना जाता है। इनकी रचना छन्द सूत्रम् है। अत:…

Continue Reading
6 Min Read
903

काल क्रिया का वह रूप जिससे क्रिया के होने का समय तथा उसकी पूर्णता एवं अपूर्णता का बोध होता है, काल कहते हैं। राधा गीत गाती है। राधा गीत गाती थी। राधा गीत गाएगी। इन वाक्यों में ‘है’ से वर्तमान…

Continue Reading
9 Min Read
12237

शब्द भण्डार  शब्द- ऐसा स्वतंत्र वर्ण-समूह जिसका एक निश्चित अर्थ हो, शब्द कहलाता है। जैसे-सुन्दर कमल, मनुष्य आदि।  शब्द-भंण्डार- किसी भाषा में प्रयुक्त होने वाले शब्दों के समूह को उस भाषा का शब्द-भंडार कहते हैं। प्रत्येक भाषा का शब्द भंडार…

Continue Reading
6 Min Read
1149

विशेषण संज्ञा और सर्वनाम की विशेषता प्रकट करने वाले शब्दों को विशेषण कहते है, विशेषण एक ऐसा शब्द है जो हर हाल में संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताता है। विशेषण और विशेष्य-जिस संज्ञा या सर्वनाम शब्द की विशेषता प्रकट…

Continue Reading
11 Min Read
1355

शब्दों का वर्गीकरण हिन्दी भाषा में शब्दों का वर्गीकरण उत्पत्ति के आधार पर 4 वर्गों में किया जाता है 1. उत्पत्ति व इतिहास की दृष्टि से 2. रचना या बनावट के आधार पर 3. प्रयोग या व्याकरण 4. अर्थ के अनुसार…

Continue Reading
7 Min Read
629

स्वरों की सहायता से बोले जाने वाले वर्ण व्यंजन कहलाते है। जिन ध्वनियों का उच्चारण करते समय श्वास मुख के किसी स्थान विशेष (तालु मूर्धा, ओष्ठ या दाँत) आदि का स्पर्श करते हुए निकले उन्हें व्यंजन कहते हैं। परंपरागत रूप…

Continue Reading
4 Min Read
1044

भाषा क्या है ? भावों को अभिव्यक्त करने के माध्यम को भाषा कहते है। हिन्दी भाषा मूलतः आर्य परिवार की भाषा है। इसकी लिपि देवनागरी है जिसका विकास ब्राह्मी लिपि (इसी लिपि में वैदिक साहित्य रचित) से हुआ। हिन्दी के…

Continue Reading
3 Min Read
5210

संधि:- (Enphony) सन्धि शब्द का अर्थ होता है = मेल, जब हम किसी दो वस्तुओं को एक में मिलाते है तो उनमें कुछ न कुछ परिवर्तन होता ही है।  जैसे:- हमने एक कटोरी में चीनी ली और उसी में थोड़ा…

Continue Reading
10 Min Read
2250

अलंकार (Alankaar) शब्दों में पाई जाने वाली अलंकार अनेक हैं उनमें से कुछ प्रमुख अलंकार इस प्रकार हैं अलंकार का अर्थ  अलंकार का अर्थ होता है – आभूषण या श्रंगार चांदी के आभूषण अर्थात सौंदर्यवर्धक गुण अलंकार कहलाते हैं |…

Continue Reading
3 Min Read
3796

संज्ञा संज्ञा का शाब्दिक अर्थ है सम + ज्ञा अर्थात सम्यक ज्ञान कराने वाला | संज्ञा का दूसरा अर्थ है किसी भी व्यक्ति, वस्तु, स्थिति या गुण के नाम को संज्ञा कहते हैं | संज्ञा के भेद  संज्ञा के तीन…

Continue Reading
1 Min Read
874

अनेकार्थी शब्द विभिन्न प्रसंगों से अनेक अर्थों में प्रयुक्त होने वाले शब्द ‘अनेकार्थी शब्द’ कहलाते हैं | ऐसे शब्दों को प्रसंग अथवा संदर्भ से ग्रहण किया जाता है | साहित्य में इनका प्रयोग होता है | अर्क – सूर्य, मदार…

Continue Reading
3 Min Read
1473

सर्वनाम (Sarvnaam in Hindi) सर्वनाम का अर्थ है – सबका नाम | अर्थात जो शब्द शब्द के नामों के स्थान पर प्रयुक्त होते हैं या हो सकते हैं, उन्हें सर्वनाम कहते हैं | दूसरे शब्दों में संज्ञा के स्थान पर…

Continue Reading
6 Min Read
2011

समास की परिभाषा, भेद तथा उदाहरण | What is Samas in Hindi समास (Samas in Hindi) समास का शाब्दिक अर्थ होता है – संक्षिप्त या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बने शब्द को समास कहते हैं | समास में…

Continue Reading
5 Min Read
4983

Ras ke Bhed | रस के भेद रस के भेद रसों की संख्या 9 मानी जाती है श्रृंगार रस  -इसका स्थाई भाव रति है नायक नायिका के सौंदर्य तथा प्रेम संबंधी वर्णन को श्रंगार रस कहते हैं श्रंगार के दो भेद…

Continue Reading