18वीं शताब्दी में भारत की राजनीतिक स्थिति

18वीं शताब्दी में भारत की राजनीतिक स्थिति 1707 ई० में औरंगजेब की मृत्यु के पश्चात मुगल साम्राज्य का पतन आरंभ हो गया। 1739 ई० एवं 1747 ई० में क्रमश: नादिरशाह 811 18वीं शताब्दी … आगे पढ़ें ..

1947 से 2017 तक की 64 बेहद महत्वपूर्ण घटनायें

15 अगस्त, 1947— भारत को दो अलग-अलग देशों हिन्दुस्तान और पाकिस्तान में विभाजित होने के बाद ब्रिटेन से स्वतंत्रता मिली। 15 अगस्त, 1947 जवाहरलाल नेहरू को प्रथम प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया। 27 अक्टूबर, … आगे पढ़ें ..

कामागतामारू की घटना क्या है ?

कामागतामारू कोयला ढोने वाला भाप चालित जापानी समुद्री जहाज था जिसे हांगकांग में रहने वाले व्यापारी बाबा गुरदित्त सिंह ने खरीदा था। वर्ष 1908 में कनाडा सरकार ने प्रवासियों को रोकने के लिए एक … आगे पढ़ें ..

ये 24 महत्वपूर्ण कथन व नारे प्रत्येक प्रतियोगी परीक्षा में पूछे जाते हैं

वंदे मातरम –  बंकिम चंद्र चटर्जी हे राम – महात्मा गांधी जन गण मन अधिनायक जय हे–  रविंद्र नाथ टैगोर हू लिव्स इफ इंडिया डाइज–  जवाहरलाल नेहरू इंकलाब जिंदाबाद–   भगत सिंह दिल्ली  चलो– … आगे पढ़ें ..

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के कुछ प्रमुख व्यक्तित्व | PDF | Download

इस नोट्स में आप पायेंगे, विभिन्न स्वतंत्रता संग्राम के व्यक्तित्वों के बारे में, अक्सर प्रतियोगी परीक्षाओं में इससे सवाल पूछा जाता है, यहाँ ये बेहद सरल भाषा में दिया गया है जिससे एक … आगे पढ़ें ..

ऐसा वायसराय जिसे “भारत का रक्षक तथा विजय का संचालक” कहा जाता है !

सर जॉन लारेंस को “भारत का रक्षक और जीत का संचालक कहा जाता है” पर क्यों ?? 1845 से 1846 के प्रथम सिख युद्ध के दौरान, लॉरेंस ने पंजाब में ब्रिटिश सेना की … आगे पढ़ें ..

NCERT History eBooks in Hindi

NCERT History eBook in Hindi – Download PDF

डाउनलोड कीजिये NCERT History कक्षा 6 से लेकर कक्षा 12 तक, ये किताबें UPSC, UPPSC, SSC आदि सभी परीक्षाओं के लिये बेहद महत्वपूर्ण हैं।  ये eBooks आपके लिए बेहद लाभदायक साबित हो सकती … आगे पढ़ें ..

7 ऐसे युद्ध जिन्होंने भारत का इतिहास बदल दिया

भारत में प्राचीन काल से आज तक अनेकों युद्ध लड़े गए लेकिन कुछ युद्ध ऐसे भी हुए जिन्होंने भारत के इतिहास को बदल कर रख दिया।  चलिये जानें ऐसे 7 युद्धों के बारे … आगे पढ़ें ..

भारत के प्रमुख गवर्नर जनरल तथा वायसराय

भारत के प्रमुख गवर्नर जनरल तथा वायसराय ईस्ट इण्डिया कम्पनी ने 1757 ई. से 1772 ई. तक बंगाल में 4 गवर्नरों की नियुक्ति की 1773 ई. के रेगुलेटिंग एक्ट के तहत बंगाल के … आगे पढ़ें ..

British Land Revenue Policy in Hindi

अंग्रेजो की भूराजस्व नीति- British Land Revenue Policy

बिट्रिश लैंड रैवेन्यू पॉलिसी(British Land Revenue Policy in Hindi) रैयतवाडी व्यवस्था रैयतवाडी व्यवस्था फ्रांस में प्रचलित व्यवस्था की नकल थी और मलवाडी भारतीय आर्थिक समुदाय की नकल थी और स्थाई बंदोबस इंग्लैड में … आगे पढ़ें ..

कृषक आंदोलन- Audio Notes

 कृषक आंदोलन सर्वप्रथम बंगाल में नील कृषकों की हडताल हुई 1858 से 1860 तक ये आंदोलन अंग्रेजों भूमिपतियों के बीच किया गया था नील खेती  कम्पनी के कुछ अवकाश प्राप्त अधिकारी बंगाल तथा … आगे पढ़ें ..

आदिवासी विद्रोह

इसमें कोल, संथाल, अहोम, खासी, मुंडा, रमपाई कुछ प्रमुख हैं ! कोल विद्रोह यह 1820से 1836 तक हुआ छोटा नागपुर के कोलो ने अपना क्रोध उस समय प्रकट किया जब उनकी भूमि उनके … आगे पढ़ें ..

1857 के बाद हुए नागरिक विद्रोह [Audio Notes]

 1857 के बाद के विद्रोह(Revolt after 1857) 1857 के विद्रोह के बाद भारत में और भी अनेक विद्रोह हुए जिनमें कुछ नागरिक विद्रोह थे कुछ आदिवासी तथा कुछ कृषक विद्रोह थे  सन्यासी विद्रोह … आगे पढ़ें ..

1857 के विद्रोह के कारण [Audio Notes]

राजनैतिक कारण डलहौजी की राज्य हडप ने की नीति , भारतीयो के साथ अंग्रेजों का घृणित व्यवहार (रंगभेद करना अच्छा व्यवहार ना करना उच्च पदों पर केवल अंग्रेजों को ही आसीन किया जाता … आगे पढ़ें ..

1857 का विद्रोह – भाग 1 [Audio Notes in Hindi]

1857 का विद्रोह कम्पनी के अधीनस्थ भारतीय सैनिकों की बगावत से प्रारम्भ हुआ1857 का विद्रोह का प्रारम्भ 29 मार्च 1857 को बंगाल के बैरकपुर सैन-ए छावनी में तैनात 19 वीं और 34 वीं … आगे पढ़ें ..