समास की परिभाषा, भेद तथा उदाहरण | What is Samas in Hindi

Table of Contents

समास की परिभाषा, भेद तथा उदाहरण | What is Samas in Hindi

समास (Samas in Hindi)

  • समास का शाब्दिक अर्थ होता है – संक्षिप्त या दो से अधिक शब्दों से मिलकर बने शब्द को समास कहते हैं |
  • समास में दो शब्दों का योग होता है जबकि संधि में दो वर्णों का योग होता है समाज के कुल भेद इस प्रकार है |

प्रमुख समास

पद की प्रधानता

1. अव्ययी भाव समास पूर्व पद प्रधान होता है |
2. तत्पुरुष समास में उत्तर पद प्रधान होता है |
(क) कर्मधारय समास में उत्तर पद प्रधान होता है |
(ख) द्विगु समास में उत्तर पद प्रधान होता है |
3. द्वंद समास में दोनों पद प्रधान होते है |
4. बहुव्रीहि समास में दोनों पद अप्रधान होते हैं |
  1. अव्ययीभाव समास (Awyavi bhav samas in Hindi) – इसका पहला पद प्रधान होता है और सामासिक पद अव्यय होता है |

उदाहरण – यथाशक्ति – शक्ति के अनुसार, आजजन्म-जन्म तक, परोक्ष से परे, प्रत्येक एक-एक के प्रति, भरपेट पेट भर बारंबार बार-बार |

2. तत्पुरुष समास (Tatpurush Samas in Hindi) – इसमें पहला पद गौण होता है और अंतिम पद की प्रधानता होती है, इसमें प्रथम पद विशेषण और दूसरा पद विशेष्य होता है | कारण चिन्हों के अनुसार इसमें छह भेद होते हैं |

  • द्वितीय तत्पुरुष समास (Dwitiy Tatpurush Samas in Hindi)(कर्म तत्पुरुष से)

माखन चोर – माखन को चुराने वाला, चिड़िमार – चिड़ियों को मारने वाला, स्वर्गप्राप्त – स्वर्ण को प्राप्त करने वाला, पतितपावन – पापियों को पवित्र करने वाला |

  • तृतीय तत्पुरुष समास (Tritiya Tatpurush Samas in Hindi)(करण तत्पुरुष को)

ईश्वरदत्त – ईश्वर द्वारा दत्त, मदशून्य – मद से शून्य, श्रमसाध्य – श्रम से साध्य, शोकग्रस्त – शोक से ग्रस्त, नेत्रहीन – नेत्र से हीन |

  • चतुर्थी तत्पुरुष समास (Chaturthi Tatpurush Samas in Hindi) (संप्रदान तत्पुरुष के लिए)

शिवार्पण – शिव के लिए अर्पण, शिक्षालय – शिक्षा के लिए आलय, देशभक्ति – देश के लिए भक्ति, रसोईघर – रसोई के लिए घर, शरणागत – शरण के लिए आगत |

  • पंचमी तत्पुरुष समास (अपादान तत्पुरुष से)

पदच्युत – पद से अलग, बलहीन – बल से हीन, जन्मांध – जन्म से अंधा, ऋणमुक्त – ऋण से मुक्त, दूरागत – दूर से आगत |

  • षष्ठी तत्पुरुष समास (संबंध तत्पुरुष का, की, के)

देशसुधार – देश का सुधार, चंद्रोदय – चंद्रमा का उदय, गंगाजल – गंगा का जल, राजभवन – राजा का भवन |

  • सप्तमी तत्पुरुष समास (अधिकरण तत्पुरुष – में, पे, पर)

पुरुषोत्तम – पुरुषों में उत्तम, स्वर्गवासी – स्वर्ग में बसने वाला |

आपबीती – अपने पर बीती, जलमग्न – जल में मगन |

कविश्रेष्ठ – कवियों में श्रेष्ठ |

3. कर्मधारय समास – जिसमें पहला पद विशेषण और दूसरा पद विशेष्य होता है | उपमेय एवम उपमान से मिलकर भी कर्मधारय समास बनता है |

उदाहरण – महाकवि – महान है जो कवि, नीलाम्बर – नीला है जो अम्बर, सन्मार्ग सत् है मार्ग जो, महात्मा – महान है आत्मा जो, चरण कमल – कमल के सदृश चरण |

4. द्विगु समास – जिस समास के प्रथम पद संख्यावाची होता है और उससे समूह का बोध होता है |

उदाहरण – अष्टाध्यायी आठ अध्यायों का समाहार, नवग्रह – नौ ग्रहों का समूह, सतसई -सात सौ का समाहार, त्रिकोण – तीन कोण, दोपहर – दो पहरों का समाहार |

5. द्वंद समास – द्वंद का अर्थ है – जोड़ा इसमें दोनों पद प्रधान होते हैं | दोनों के बीच योजक चिन्ह और छिपा होता है |

उदाहरण – रामकृष्ण – राम और कृष्णा, पितारौ – माता और पिता, रात-दिन – रात और दिन, पाप-पुण्य – पाप और पुण्य, राधाकृष्ण – राधा और कृष्ण |

6. बहुव्रीहि समास – इसमें दोनों पद प्रधान ना होकर अन्य पद प्रधान होता है अर्थात इसका सामासिक पद इनमें भिन्न होता है |

उदाहरण – पीतांबर – पीत है अंबर जिसका अर्थ है श्री कृष्णा, शतुरमुर्ग – चार है मुख जिसका अर्थ है ब्रह्मा, जलज – जल से उत्पन्न होता है जो कमल, चंद्रशेखर – चंद्र है शिखर पर जिसका अर्थ है शिव, लंबोदर – लंबा है उदर जिसका अर्थ  है गणेश |

Tags: Samas in hindi, samas trick to learn, easy way to learn samas, samas tips, tricks to learn samas, What is Samas in Hindi

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

4 thoughts on “समास की परिभाषा, भेद तथा उदाहरण | What is Samas in Hindi”

Leave a Comment