Press ESC to close

Or check our Popular Categories...

GS-Agriculture

14   Articles
14
6 Min Read
713

खाद्य मुद्रास्फीति एक आर्थिक शब्द है जिसका उपयोग समय के साथ भोजन की कीमत में सामान्य वृद्धि का वर्णन करने के लिए किया जाता है। यह जीवन यापन की लागत में एक महत्वपूर्ण कारक है, क्योंकि भोजन जीवन के लिए…

Continue Reading
3 Min Read
174

राइस फोर्टिफिकेशन मिलिंग प्रक्रिया के दौरान चावल में विटामिन और खनिज जैसे सूक्ष्म पोषक तत्व मिलाने की प्रक्रिया है। दुनिया की आबादी के एक बड़े हिस्से के लिए चावल एक मुख्य भोजन है, और बहुत से लोग इस पर पोषण…

Continue Reading
2 Min Read
118

भूजैवरासायनिक चक्र पारितंत्र में ऊर्जा प्रवाह रैखिक होता है परन्तु पोषकों का प्रवाह चक्रीय होता है। इसका कारण यह है कि ऊर्जा का प्रवाह अधोगामी होता है अर्थात जैसे जैसे ऊर्जा का प्रवाह आगे की तरफ होता है वह या…

Continue Reading
7 Min Read
8285

प्रागैतिहासिक काल से ही मानव शैवालों का विभिन्न रूपों में प्रयोग करता रहा है। मानव के बौद्धिक विकास एवं असीमित एवं अनंत आवश्यकताओं के कारण शैवालों के महत्त्व में भी वृद्धि हुई। शैवालों के लाभप्रद उपयोग:-शोधों के आधार पर यह…

Continue Reading
11 Min Read
4378

जापान की कृषि की प्रमुख विशेषताएं एवं जापान की प्रमुख कृषि फसलों का वर्णन:- जापान की कृषि की प्रमुख विशेषताएं:-  धरातलीय विषमता के कारण जापान की करीब 15% भूमि कृषि योग्य है। इसकी दो-तिहाई भूमि पर्वतों एवं जंगलों के अंतर्गत…

Continue Reading
4 Min Read
624

जीवाणु जनित पशु रोग (Bacterial animal disease) क्र.स. रोग प्रभावित पशु रोग कारक रोग के लक्षण बचाव और चिकित्सा 1 तितली ज्वर एवं गिल्टी रोग गौ-पशु, भेड़, बकरी, घोड़े, खच्चर, सूअर एवं कुत्ता बैसिलस एंथ्रेसिस अतितीव्र-प्रायः भेड़ में अचानक मृत्यु,…

Continue Reading
1 Min Read
129

सूक्ष्म तत्वों की संवेदनशीलता (Sensitivity to subtle elements) सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी के प्रति संवेदनशील पौधे निम्नलिखित है – सूक्ष्म तत्व प्रभावसूचक (संवेदनशील पौधे) 1 लोहा नींबू, केला, आडु, फूलगोभी, धान, जौ एवं ज्वार | 2 बोरॉन सेब, नाशपाती,…

Continue Reading
3 Min Read
678

समन्वित पीड़क प्रबंधन (Integrated trouble management) इस अवधारणा के प्रथम प्रतिपादक गियर वंध क्लार्क (1961) थे यह योजना पीड़क नियंत्रण के उपयोग में लाई जा रही अनेक विधियों का ऐसा सहयोग है, जो आर्थिक पारिस्थितिक और सामाजिक मूल्यों और परिणामों…

Continue Reading
2 Min Read
375

किसान क्रेडिट कार्ड योजना(Kisan Credit Card Scheme) किसानों को कृषि साख उपलब्ध कराने के उद्देश्य से अगस्त 1998 में इस योजना की शुरुआत की गई| इसका कार्यान्वयन वाणिज्य बैंक, केंद्रीय सहकारी बैंक को और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के माध्यम से…

Continue Reading
1 Min Read
663

संगरोध (Quarantine) बाहर से आयातित बीजों एवं अन्य प्रवध्यों तथा पादप उत्पादों का रोग, कीट एवं खरपतवार से मुक्त होना सुनिश्चित करने की प्रक्रिया को संगरोध कहते हैं | नाशी कीट एवं नाशक जीव अधिनियम 1914 के अंतर्गत भारत में…

Continue Reading
2 Min Read
1120

इंद्रधनुषी क्रांति (Iridescent revolution) वर्तमान में प्राथमिक क्षेत्र में व्याप्त नीली, हरी, पीली, गुलाबी, श्वेत, भूरी क्रांतियों को समेकित करते हुए इन्हें इंद्रधनुषी क्रांति अथवा सदाबहार क्रांति के अंतर्गत शामिल किया जाएगा | इस इंद्रधनुषी क्रांति का मुख्य उद्देश्य है…

Continue Reading
8 Min Read
416

प्रदूषक एक ऐसा पदार्थ है जो विशेषकर पानी या वायुमंडल को प्रदूषित करता है. यह ज्वालामुखी विस्फोट, कोयला और गैसोलीन को जलाने तथा अन्य मानवीय गतिविधियों के माध्यम से वातावरण में प्रवेश करता है। यहां, हम सामान्य जागरूकता के लिए…

Continue Reading
13 Min Read
2219

भौतिक कारक जलवायु– जलवायु कृषि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। पौधों को उनके विकास के लिए पर्याप्त गर्म तथा नम जलवायु की आवश्यकता होती है। पौधे के अानुवंशिक गुण भी जलवायु से प्रभावित होकर प्रदर्शित होते हैं | तापमान –…

Continue Reading
7 Min Read
260

पारिस्थितिकी (इकोलॉजी) पारिस्थितिकी (इकोलॉजी) जीव विज्ञान की वह शाखा है जिसके अन्तर्गत जीवों और उसके बाह्य वातावरण के पारस्परिक संबंधों का अध्ययन किया जाता है।, प्रत्येक जन्तु या वनस्पति एक निश्चित वातावरण में रहता है। इकोलॉजी को तीन शाखाओं में बाँटा…

Continue Reading