जानिये कैसे हुआ ताजमहल का निर्माण -एक नदी के किनारे कैसे टिका है ताजमहल

Table of Contents

कैसे हुआ निर्माण ?

  • ताजमहल परिसीमित आगरा नगर के दक्षिण छोर पर एक छोटे भूमि पठार पर बनाया गया था। शाहजहाँ ने इसके बदले जयपुर के महाराजा जयसिंह को आगरा शहर के मध्य एक वृहत महल दिया था।
  • लगभग तीन एकड़ के क्षेत्र को खोदा गया, एवं उसमें कूडा़ कर्कट भर कर उसे नदी सतह से पचास मीटर ऊँचा बनाया गया, जिससे कि सीलन आदि से बचाव हो पाए।
  • मकबरे के क्षेत्र में, पचास कुँए खोद कर कंकड़-पत्थरों से भरकर नींव स्थान बनाया गया। फिर बांस के परंपरागत पैड़ (स्कैफ्फोल्डिंग) के बजाय, एक बहुत बडा़ ईंटों का, मकबरे समान ही ढाँचा बनाया गया। यह ढाँचा इतना बडा़ था, कि अभियाँत्रिकों के अनुमान से उसे हटाने में ही सालों लग जाते।
  • इसका समाधान यह हुआ, कि शाहजहाँ के आदेशानुसार स्थानीय किसानों को खुली छूट दी गई कि एक दिन में कोई भी चाहे जितनी ईंटें उठा सकता है और वह ढाँचा रात भर में ही साफ हो गया। सारी निर्माण सामग्री एवं संगमरमर को नियत स्थान पर पहुँचाने हेतु, एक पंद्रह किलोमीटर लम्बा मिट्टी का ढाल बनाया गया।
  • बीस से तीस बैलों को खास निर्मित गाडि़यों में जोतकर शिलाखण्डों को यहाँ लाया गया था। एक विस्तृत पैड़ एवं बल्ली से बनी, चरखी चलाने की प्रणाली बनाई गई, जिससे कि खण्डों को इच्छित स्थानों पर पहुँचाया गया। यमुना नदी से पानी लाने हेतु रहट प्रणाली का प्रयोग किया गया था। उससे पानी ऊपर बने बडे़ टैंक में भरा जाता था। फिर यह तीन गौण टैंकों में भरा जाता था, जहाँ से यह नलियों (पाइपों) द्वारा स्थानों पर पहुँचाया जाता था।

समय तथा पैसा कितना लगा ?

  • आधारशिला एवं मकबरे को निर्मित होने में बारह साल लगे। शेष इमारतों एवं भागों को अगले दस वर्षों में पूर्ण किया गया। इनमें पहले मीनारें, फिर मस्जिद, फिर जवाब एवं अंत में मुख्य द्वार बने। क्योंकि यह समूह, कई अवस्थाओं में बना, इसलिये इसकी निर्माण-समाप्ति तिथि में कई भिन्नताएं हैं। यह इसलिये है, क्योंकि पूर्णता के कई पृथक मत हैं। उदाहरणतः मुख्य मकबरा 1643 में पूर्ण हुआ था, किंतु शेष समूह इमारतें बनती रहीं।
  • इसी प्रकार इसकी निर्माण कीमत में भी भिन्नताएं हैं, क्योंकि इसकी कीमत तय करने में समय के अंतराल से काफी फर्क आ गया है। फिर भी कुल मूल्य लगभग 3 अरब 20 करोड़ रुपए, उस समयानुसार आंका गया है; जो कि वर्तमान में खरबों डॉलर से भी अधिक हो सकता है, यदि वर्तमान मुद्रा में बदला जाए।

निर्माण सामग्री

  • ताजमहल को सम्पूर्ण भारत एवं एशिया से लाई गई सामग्री से निर्मित किया गया था। 1,000 से अधिक हाथी निर्माण के दौरान यातायात हेतु प्रयोग हुए थे। पराभासी श्वेत संगमरमर को राजस्थान से लाया गया था, जैस्पर को पंजाब से, हरिताश्म या जेड एवं स्फटिक या क्रिस्टल को चीन से। तिब्बत से फीरोजा़, अफगानिस्तान से लैपिज़ लजू़ली, श्रीलंका से नीलम एवं अरबिया से इंद्रगोप या (कार्नेलियन) लाए गए थे। कुल मिला कर अठ्ठाइस प्रकार के बहुमूल्य पत्थर एवं रत्न श्वेत संगमरमर में जडे. गए थे।

कारीगर

  • उत्तरी भारत से लगभग बीस हजा़र मज़दूरों की सेना अन्वरत कार्यरत थी। बुखारा से शिल्पकार, सीरिया एवं ईरान से सुलेखन कर्ता, दक्षिण भारत से पच्चीकारी के कारीगर, बलूचिस्तान से पत्थर तराशने एवं काटने वाले कारीगर इनमें शामिल थे।
  • कंगूरे, बुर्जी एवं कलश आदि बनाने वाले, दूसरा जो केवल संगमर्मर पर पुष्प तराश्ता था, इत्यादि सत्ताईस कारीगरों में से कुछ थे, जिन्होंने सृजन इकाई गठित की थी। कुछ खास कारीगर, जो कि ताजमहल के निर्माण में अपना स्थान रखते हैं, वे हैं:- मुख्य गुम्बद का अभिकल्पक इस्माइल (ए.का.इस्माइल खाँ), जो कि ऑट्टोमन साम्राज्य का प्रमुख गोलार्ध एवं गुम्बद अभिकल्पक थे।
  • फारस के उस्ताद ईसा एवं ईसा मुहम्मद एफेंदी (दोनों ईरान से), जो कि ऑट्टोमन साम्राज्य के कोचा मिमार सिनान आगा द्वारा प्रशिक्षित किये गये थे, इनका बार बार यहाँ के मूर अभिकल्पना में उल्लेख आता है। परंतु इस दावे के पीछे बहुत कम साक्ष्य हैं।
  • बेनारुस, फारस (ईरान) से ‘पुरु’ को पर्यवेक्षण वास्तुकार नियुक्त किया गया, का़जि़म खान, लाहौर का निवासी, ने ठोस सुवर्ण कलश निर्मित किया।
  • चिरंजी लाल, दिल्ली का एक लैपिडरी, प्रधान शिलपी, एवं पच्चीकारक घोषित किया गया था।
  • अमानत खाँ, जो कि शिराज़, ईरान से था, मुख्य सुलेखना कर्त्ता था। उसका नाम मुख्य द्वार के सुलेखन के अंत में खुदा
  • मुहम्मद हनीफ, राज मिस्त्रियों का पर्यवेक्षक था, साथ ही मीर अब्दुल करीम एवं मुकर्‍इमत खां, शिराज़, ईरान से; इनके हाथिओं में प्रतिदिन का वित्त एवं प्रबंधन था।

मध्यकालीन भारत का सम्पूर्ण इतिहास

1 मध्यकालीन भारतीय इतिहास को जानने के स्त्रोत
2 इस्लाम का अभ्युदय एवं प्रसार
3 अरबों का आक्रमण
4 भारत पर तुर्की आक्रमण (महमूद गजनवी)
5 मुहम्मद गौरी (मुइजुद्दीन मुहम्मद बिन साम गोरे)
6 दिल्ली सल्तनत – सभी वंश
7 कुतुबुद्दीन ऐबक – गुलाम वंश
8 इल्तुत्मिश का इतिहास
9 रज़िया सुल्तान-भारत की प्रथम महिला शासिका
10 ग्यासुद्दीन बलबन का इतिहास
11 जलालुद्दीन खिलजी का इतिहास
12 अलाउद्दीन खिलजी | बाजार नीति | विजय अभियान
13 मुबारक खिलजी व खिलजी वंश का अंत
14 गयासुद्दीन तुगलक (तुगलक वंश का संस्थापक) | Gayasuddin Tuglaq History in Hindi
15 मुहम्मद बिन तुगलक | Muhammad Bin Tuglaq History in Hindi
16 मुहम्मद बिन तुगलक की 5 विफल योजनाएं, जिनकी वजह से उसे बुद्धिमान मूर्ख राजा कहा जाता है |
17 फिरोज़ शाह तुगलक | Firoz Shah Tuglaq History in Hindi
18 सैय्यद वंश | History of Saiyad/Seyad/Sayyad Vansh in Hindi
19 बहलोल लोदी (लोदी वंश) | Bahlol Lodi/Lodhi History in Hindi
20 सिकंदर लोदी का इतिहास | Sikandar Lodi History in Hindi
21 इब्राहिम लोदी का इतिहास | Ibrahim Lodi/Lodhi History in Hindi
22 स्वतंत्र प्रांतीय राज्य (INDEPENDENT PROVINCIAL STATES)
23 विजय नगर साम्राज्य (VIJAY NAGAR EMPIRE)
24 बहमनी साम्राज्य (BAHMANI EMPIRE)
25 मध्यकालीन भारत में धार्मिक आंदोलन
26 सूफी आंदोलन (Sufi Movement)
27 बाबर | मुगल वंश | शुरू से अंत तक
28 हुमायुँ का इतिहास | मुग़ल साम्राज्य
29 जलालुद्दीन मोहम्मद अकबर का इतिहास
30 नूरुददीन मोहम्मद जहांगीर का इतिहास
31 शाहजहाँ- ताज महल का निर्माता
32 औरंगजेब (जिंदा पीर ) का इतिहास
33 मुगलों का पतन – पूरी जानकारी
34 मुगल प्रशासन (MUGHAL ADMINISTRATION)
35 सूर साम्राज्य | शेरशाह सूरी का इतिहास
36 मराठा राज्य | शिवाजी के नेतृत्व में मराठों का उदय
37 शिवाजी के उत्तराधिकारी (शम्भाजी)
38 खालसा पंत | सिखों का उदय (RISE OF SIKHS)
39 7 ऐसे युद्ध जिन्होंने भारत का इतिहास बदल दिया
40 भारत पर आक्रमण करने वाले 10 सबसे क्रूर आक्रमणकारी
41 कौन थे शेख सलीम चिश्ती ?
42 फतेहपुर सीकरी | इतिहास | मुख्य इमारतें
43 NCERT History eBook in Hindi – Download PDF
44 ताजमहल से सम्बंधित कुछ प्रचिलित कथायें – Interesting Facts
45 जानिये कैसे हुआ ताजमहल का निर्माण -एक नदी के किनारे कैसे टिका है ताजमहल
46 भारतीय इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न PDF Download (Descriptive)
47 कौन थे सैयद बन्धु ? और क्यों इन्हें किंग मेकर कहा जाता है ?
48 GK Trick : गुलाम वंशीय शासक
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

3 thoughts on “जानिये कैसे हुआ ताजमहल का निर्माण -एक नदी के किनारे कैसे टिका है ताजमहल”

Leave a Comment