शिवाजी के उत्तराधिकारी (शम्भाजी)

Table of Contents

शम्भाजी का जीवन परिचय

  • 1680 में शिवाजी की मृत्यु के पश्चात उनका ज्येष्ठ पुत्र शम्भाजी मराठा राज्य का छत्रपति बना
  • इसकी माता का नाम साई बाई था शम्भाजी का विवाह येशु बाई के साथ हुआ
  • इसने अपना सलाहकार एक ब्राह्मण कवि कलश को बनाया

औरंगजेब के पुत्र को शरण 

  •  शम्भाजी ने औरंगजेब के विद्रोही पुत्र अकबर द्वितीय को अपने यहाँ शरण दी थी इसलिए इनको औरंगजेब के कोप का भाजन बनना पडा

संघमेश्वरका युध्द 

  • एक युध्द हुआ 1689 में जिसे संघमेश्वरका युध्द कहा जाता है इसमें कवि कलश के साथ-साथ शम्भा जी की भी हत्या कर दी गई

शम्भा जी का उत्तराधिकारी

  • शम्भा जी की हत्या के पश्चात राजा राम गद्दी पर बैठा राजाराम शिवाजी का द्वितीय पुत्र था ये अपनेआप को शम्भाजी के पुत्र शाहू का प्रतिनिधि मानता था ये राजा होते हुए भी कभी सिंहासन पर नहीं बैठा था

मराठा संघ

  • राजाराम ने सारे मराठा सरदार संताजी, घोरबडे, धानाजी यादव, आदि सब ने मिल के एक मराठा संघ बनाया और मुगलों से युध्द किया ये लगभग 20 वर्ष तक मुगलों से संघर्ष करते रहे औरंगजेब ने भी मराठों के दमन के काफी प्रयास किये किन्तु वह सफल नहीं हो पाया

औरंगजेब का जिंजी पर अधिकार

  • औरंगजेब ने जिंजी पर अधिकार किया तो राजाराम विशालगढ भाग गया और जब वहाँ आक्रमण किया तो सतारा भाग गया अत: औरंगजेब मराठों को नहीं पकड पाया
  • लूटपाट करते हुए राजाराम ने मुगल शक्ति को अपार क्षति पहुँचायी

राजाराम का उत्तराधिकारी 

  • 1700 ई. में राजाराम की मृत्यु के पश्चात उसकी पत्नी ताराबाई ने अपने 4 बर्षीय पुत्र शिवाजी द्वितीय को सिंहासन पर बैठाया

औरंगजेब व मराठों की संधि

  • मुगलों के विरुध्द संघर्ष जारी रखा औरंगजेब इन मराठों की नीति से बहुत परेशान हो गया था औरंगजेब ने मराठों के सामने संधि का प्रस्ताव रखा इसी बीच 1707 में औरंगजेब की मृत्यु हो गई औरंगजेब की मृत्यु के साथ ही मराठों का स्वतंत्र्ता संग्राम भी समाप्त हो गया
  • औरंगजेब के बाद जो मुगल शासक आये उन्होंने मराठों से संधि कर ली और मराठा शासक साहू को मराठों का राजा स्वीकार किया

ऑडियो नोट्स सुनें

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

1 thought on “शिवाजी के उत्तराधिकारी (शम्भाजी)”

Leave a Comment