अरबों का आक्रमण

Table of Contents

  • मध्यकालीन भारत की प्रमुख घटना मुस्लिमों का आक्रमण थी जिसमें सर्वप्रथम अरबी आक्रमण हुआ और बाद में तुर्की आक्रमण हुआ
  • सर्वप्रथम अरबी मुस्लमानों का आक्रमण 636 ई0 में हुआ था
  • ये आक्रमण खलीफा उमर के समय में हुआ और यह आक्रमण असफल रहा
  • भारत पर पहला सफल आक्रमण 712 ई0 में मोहम्मद-बिन-कासिम द्वारा किया गया
  • यह आक्रमण खालीफा-अल-वाजिद के शासन काल में हुआ था
  • श्रीलंका में अरब यात्रीयों की मृत्यु इस आक्रमण का प्रमुख कारण था
  • भारत पर अरबवासियों के आक्रमण का मूल उद्देश्य लूट-पाट करना एवं इस्लाम धर्म का प्रचार-प्रसार करना था
  • मुहम्मद-बिन-कासिम के आक्रमण के समय सिंध का शासक दाहिर था इसने सिंध तथा मुल्तान को जीता
  • मुल्तान से अरब आक्रमणकारियों को अपार सोना प्राप्त होने के कारण उन्होंने मुल्तान को स्वर्ण नगरी कहा
  • भारत में जजिया कर लगाने वाला प्रथम व्यक्ति मोहम्मद-बिन-कासिम था
  •  अरबी भाषा में अंको को हिंदसा कहा जाता है क्योंकि उनका मूल स्थान हिंद (भारत) है
  • भारतीय खगोलशास्त्र पर आधारित प्रमुख अरबी रचना अल-फाजरी कृत किताब-उल-जिज है
  • भारत पर आरब आक्रमण की सूचना चचनामा तथा बिलादुरी कृत किताब फुल-अल-बलदान से मिलती है
  • अरब आक्रमण के समय दो अरबी विद्दान सुलेमान व अल-मसूदी भारत आये
  • अरब आक्रमण के बाद हम अंक पद्ति व शतरंज सीखे

ऑडियो नोट्स 

  • अरबों का भारत पर पहला सफल आक्रमण मुहम्मद-बिन-कासिम के नेतृत्व में 712 ई० में हुआ। 
  • अरबों ने सिंध को जीत लिया जिसपर उस काल में दाहिर का शासन था।
  •  भारत पर अरबवासियों के आक्रमण का मूल उद्देश्य लूट-पाट करना एवं इस्लाम का प्रचार करना था।
  • 715 ई० में खलीफा की मृत्यु के पश्चात कासिम वापस लौट गया।
  • अपनी प्रारंभिक विजयों के बावजूद अरब सिंध एवं मुल्तान से आगे नहीं बढ़ सके।
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

1 thought on “अरबों का आक्रमण”

Leave a Comment