भारतीय रक्षा-प्रतिरक्षा | थल सेना | वायु सेना | नौसेना

Table of Contents

  • भारत की प्रतिरक्षा का मुख्य उद्देश्य न्यूनतम एवं विश्वसनीय प्रतिरोधक क्षमता के विकास के साथ भारतीय उपमहाद्वीप में शान्ति को बढ़ावा देना -एवं उसे स्थायित्व प्रदान करना ।
  • 1946 में गठित अंतरिम सरकार में भारत के रक्षामंत्री बलदेव सिंह थे।
  • 1947 में देश के विभाजन के समय 45 रेजीमेन्ट मिली जिनमे कुल :. 5 लाख सैनिक थे ।
  • भारतीय रक्षा सेनाओं का सर्वोच्च कमांडर राष्ट्रपति होता है ।
  • रक्षा मंत्रालय का प्रमुख रक्षामंत्री होता है जो संसद के प्रति उत्तरदायी होता है ।
  • भारतीय सशस्त्र सेनाओं के तीन अंग है- थलसेना, वायुसेना व नौसेना ।
  • तीनों सेनाओ के अलग-अलग सेनाध्यक्ष होते हैं ।
  • तीनों सेनाध्यक्षों की एक समिति होती है जिसकी अध्यक्षता वरिष्ठतम अध्यक्ष करता है ।

भारतीय थल सेना

  • भारतीय रक्षा पंक्ति में थल सेना का प्रथम व प्रधान स्थान है ।
  • थल सेना का मुख्यालय नई दिल्ली में है ।
  • थल सेना पांच कमानों में संगठित है- (1) पश्चिमी कमान (मुख्यात्नय- शिमला), (2) पूर्वी कमान (कोलकाता), (3) उत्तरी कमान (उधमपुर) दक्षिणी कमान (पुणे) एवं मध्य कमान (लखनऊ) ।
  • प्रत्येक कमान लेफ्टिनेंट जनरल पद के जनरल आफिसर कमांडिंग-इन- चीफ के अधीन होती है ।
  • प्रत्येक कमान कोर, डिवीजन, ब्रिगेट, बटालियन, कंपनी, लेदन व सेस्शन में विभाजित होती है ।
  • थल सेना का अध्यक्ष जनरल होता है ।

भारतीय वायु सेना

  • भारतीय वायु सेना का मुख्यालय नई दिल्ली में है ।
  • भारतीय वायु सेना का अध्यक्ष, एयर चीफ मार्शल होता है ।
  • वायु सेनाध्यक्ष की सहायता के लिए छ: मुख्य स्टाफ अधिकारी है । भारतीय वायु सेना पांच लड़ाकू कमानों एव दो सहायक कमानी में संगठित है – (1) पश्चिमी वायु कमान (मुख्यालय-नई दिल्ली), (2) पूर्वी वायु सेना कमान (शिलांग), (3) दक्षिणी वायु सेना कमान, (4 ) मध्य वायु सेना कमान (इलाहाबाद), (5) दक्षिणी पश्चिमी वायु सेना कमान (जोधपुर), (6) प्रशिक्षण कमान (बंगलौर), (7) मेटीनेंस कमान (नागपुर)|।

भारतीय नौसेना

  • भारतीय नौसेना का मुख्यालय नई दिल्ली में है ।
  • भारतीय नौसेना का प्रमुख एडमिरल होना है ।
  • भारतीय नौसेना का गठन तीन कमानों में किया गया है- (1) पश्चिमी नौसेना कमान (मुख्यालय-मुम्बई), (2) पूर्वी नौसेना कमान (विशाखापट्टनम) एवं (3) दक्षिणी नौसेना कमान (कोच्चि) ।
  • प्रत्येक कमान का प्रमुख वाइस एडमिरल पद का फ्लैग आफिसर कमांडिंग- इन-चीफ होता है ।

armed forces of india1, indian army strength, divisions in indian army, indian army power in world, indian air force, indian army strength vs chinese army strength

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Comment