भारतीय बैंकिंग प्रणाली और भारतीय रिज़र्व बैंक

Table of Contents

भारतीय बैंकिंग प्रणाली और भारतीय रिज़र्व बैंक


भारतीय बैंकिंग प्रणाली को भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India / RBI) नियन्त्रित करती है|

  • बैंक ऑफ़ हिन्दुस्तान भारत का पहला बैंक था,इसकी स्थापना कोलकाता में एलेक्जेंडर एण्ड कम्पनी द्वारा 1770 ई. में यूरोपीय पद्धति में की गई थी |
  • भारतीयों द्वारा संचालित सीमित देयता के आधार पर भारत का प्रथम बैंक,अवध कॉमर्शियल बैंक (1881) तथा पूर्ण स्वामित्व वाला प्रथम भारतीय बैंक पंजाब नेशनल बैंक ( Punjab National Bank / PNB ) (1894) था |
  • बैंक ऑफ़ बंगाल की 2 जून 1806 को, बैंक ऑफ़ बॉम्बे की 15 अप्रैल 1840 को तथा बैंक ऑफ़ मद्रास की 1 जुलाई 1843 को स्थापना हुई | बाद में, 27 जनवरी 1921 को इन तीनों बैंकों को मिलाकर एक एकल बैंक ‘इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इण्डिया’ की स्थापना की गयी |
  • इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इण्डिया ( Imperial Bank of India / IBI ), भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे पुराना व बड़ा व्यावसायिक ( Commercial ) बैंक था | जिसे 1 जुलाई 1955 को राष्ट्रीयकरण के बाद से भारतीय स्टेट बैंक (state bank of India) के नाम से जान गया|
  • स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के राष्ट्रीयकरण के समय इसके 8 सहयोगी बैंकों का भी राष्ट्रीयकरण किया गया था,परन्तु सरकार ने बाद में स्टेट बैंक ऑफ़ इंदौर तथा स्टेट बैंक ऑफ़ सौराष्ट्र का विलय स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में कर दिया|

 

भारतीय रिज़र्व बैंक


  • 1अप्रैल 1935 को 5 करोड़ की अधिकृत पूँजी से भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना हुई तथा 1 जनवरी 1949 को इसका राष्ट्रीयकरण किया गया|
  • सिक्कों का मुद्रण भारत सरकार करती है जबकि 5, 10, 20, 50, 100, 500 तथा 2000 के नोट रिज़र्व बैंक छापता है|
  • भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर के हस्ताक्षर दो रुपये या उससे अधिक के नोट पर होते है जबकि एक रुपये के नोट पर वित्त सचिव के हस्ताक्षर होते है|
  • रिज़र्व बैंक द्वारा 19 अगस्त 1944 को रुपये को भुगतान सन्तुलन में सुधार हेतु चालू खाते में पूर्ण परिवर्तनीय घोषित कर दिया गया|
  • भारत का वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से शुरू होकर 31 मार्च तक होता है|
भारतीय रिज़र्व बैंक के मुख्य कार्य 

  1. भारत सरकार का बैंकर
  2. बैंकों का बैंक
  3. नोट निर्गमन
  4. विदेशी विनिमय नियन्त्रण
  5. साख नियन्त्रण
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 

  • 19 जुलाई 1969 को ऐसे 14 बड़े व्यावसायिक बैंक जिनकी जमा पूँजी ₹ 50 करोड़ से अधिक थी, का राष्ट्रीयकरण किया गया |
  • बाद में, 15 अप्रैल 1980 को ₹ 200 करोड़ से अधिक जमा पूँजी वाले 6 निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया |
  • वर्तमान में राष्ट्रीयकृत बैंकों की कुल संख्या 21 है |

प्रमुख बैंकों का विलय 


बैंक ( जिसका विलय हुआ )बैंक ( जिसमें विलय हुआ )
न्यू बैंक ऑफ़ इण्डियापंजाब नेशनल बैंक
देना बैंक ( कजाखस्तान )पंजाब नेशनल बैंक
स्टेट बैंक ऑफ़ इन्दौरभारतीय स्टेट बैंक
स्टेट बैंक ऑफ़ सौराष्ट्रभारतीय स्टेट बैंक
बैंक ऑफ़ राजस्थानICICI बैंक
रॉयल बैंक ऑफ़ स्कॉटलैंडHSBC बैंक
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Comment