भारतीय बैंकिंग प्रणाली और भारतीय रिज़र्व बैंक

3528
0

भारतीय बैंकिंग प्रणाली और भारतीय रिज़र्व बैंक


भारतीय बैंकिंग प्रणाली को भारतीय रिज़र्व बैंक (Reserve Bank of India / RBI) नियन्त्रित करती है|

  • बैंक ऑफ़ हिन्दुस्तान भारत का पहला बैंक था,इसकी स्थापना कोलकाता में एलेक्जेंडर एण्ड कम्पनी द्वारा 1770 ई. में यूरोपीय पद्धति में की गई थी |
  • भारतीयों द्वारा संचालित सीमित देयता के आधार पर भारत का प्रथम बैंक,अवध कॉमर्शियल बैंक (1881) तथा पूर्ण स्वामित्व वाला प्रथम भारतीय बैंक पंजाब नेशनल बैंक ( Punjab National Bank / PNB ) (1894) था |
  • बैंक ऑफ़ बंगाल की 2 जून 1806 को, बैंक ऑफ़ बॉम्बे की 15 अप्रैल 1840 को तथा बैंक ऑफ़ मद्रास की 1 जुलाई 1843 को स्थापना हुई | बाद में, 27 जनवरी 1921 को इन तीनों बैंकों को मिलाकर एक एकल बैंक ‘इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इण्डिया’ की स्थापना की गयी |
  • इम्पीरियल बैंक ऑफ़ इण्डिया ( Imperial Bank of India / IBI ), भारतीय उपमहाद्वीप का सबसे पुराना व बड़ा व्यावसायिक ( Commercial ) बैंक था | जिसे 1 जुलाई 1955 को राष्ट्रीयकरण के बाद से भारतीय स्टेट बैंक (state bank of India) के नाम से जान गया|
  • स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया के राष्ट्रीयकरण के समय इसके 8 सहयोगी बैंकों का भी राष्ट्रीयकरण किया गया था,परन्तु सरकार ने बाद में स्टेट बैंक ऑफ़ इंदौर तथा स्टेट बैंक ऑफ़ सौराष्ट्र का विलय स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में कर दिया|

 

भारतीय रिज़र्व बैंक


  • 1अप्रैल 1935 को 5 करोड़ की अधिकृत पूँजी से भारतीय रिजर्व बैंक की स्थापना हुई तथा 1 जनवरी 1949 को इसका राष्ट्रीयकरण किया गया|
  • सिक्कों का मुद्रण भारत सरकार करती है जबकि 5, 10, 20, 50, 100, 500 तथा 2000 के नोट रिज़र्व बैंक छापता है|
  • भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर के हस्ताक्षर दो रुपये या उससे अधिक के नोट पर होते है जबकि एक रुपये के नोट पर वित्त सचिव के हस्ताक्षर होते है|
  • रिज़र्व बैंक द्वारा 19 अगस्त 1944 को रुपये को भुगतान सन्तुलन में सुधार हेतु चालू खाते में पूर्ण परिवर्तनीय घोषित कर दिया गया|
  • भारत का वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से शुरू होकर 31 मार्च तक होता है|
भारतीय रिज़र्व बैंक के मुख्य कार्य 

  1. भारत सरकार का बैंकर
  2. बैंकों का बैंक
  3. नोट निर्गमन
  4. विदेशी विनिमय नियन्त्रण
  5. साख नियन्त्रण
बैंकों का राष्ट्रीयकरण 

  • 19 जुलाई 1969 को ऐसे 14 बड़े व्यावसायिक बैंक जिनकी जमा पूँजी ₹ 50 करोड़ से अधिक थी, का राष्ट्रीयकरण किया गया |
  • बाद में, 15 अप्रैल 1980 को ₹ 200 करोड़ से अधिक जमा पूँजी वाले 6 निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया |
  • वर्तमान में राष्ट्रीयकृत बैंकों की कुल संख्या 21 है |

प्रमुख बैंकों का विलय 


बैंक ( जिसका विलय हुआ ) बैंक ( जिसमें विलय हुआ )
न्यू बैंक ऑफ़ इण्डिया पंजाब नेशनल बैंक
देना बैंक ( कजाखस्तान ) पंजाब नेशनल बैंक
स्टेट बैंक ऑफ़ इन्दौर भारतीय स्टेट बैंक
स्टेट बैंक ऑफ़ सौराष्ट्र भारतीय स्टेट बैंक
बैंक ऑफ़ राजस्थान ICICI बैंक
रॉयल बैंक ऑफ़ स्कॉटलैंड HSBC बैंक

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here