वायुमण्डल परतें | क्षोभमण्डल | समतापमण्डल | मध्यमण्डल | तापमण्डल | बाह्यमण्डल

वायुमण्डल का घनत्व ऊंचाई के साथ-साथ घटता जाता है। वायुमण्डल को 5 विभिन्न परतों में विभाजित किया गया है।

क्षोभमण्डल

  • क्षोभमण्डल वायुमंडल की सबसे निचली परत है। यह मण्डल जैव मण्डलीय पारिस्थितिकी तंत्र के लिए सर्वाधिक महत्त्वपूर्ण है क्योंकि मौसम संबंधी सारी घटनाएं इसी में घटित होती हैं। प्रति 165 मीटर की ऊंचाई पर वायु का तापमान 1 डिग्री सेल्सियस की औसत दर से घटता है।
  • इसे सामान्य ताप पतन दर कहते है। इसकी ऊँचाई ध्रुवो पर 8 से 10 कि॰मी॰ तथा विषुवत रेखा पर लगभग 18 से 20 कि॰मी॰ होती है।

समतापमण्डल

  •  20 से 50 किलोमीटर तक विस्तृत है । (समतापमंडल में लगभग 30 से 60 किलोमीटर तक ओजोन गैस पाया जाता है जिसे ओजोन परत कहा जाता है ) इस मण्डल में तापमान स्थिर रहता है तथा इसके बाद ऊंचाई के साथ बढ़ता जाता है।
  • समताप मण्डल बादल तथा मौसम संबंधी घटनाओं से मुक्त रहता है। इस मण्डल के निचले भाग में जेट वायुयान के उड़ान भरने के लिए आदर्श दशाएं हैं। इसकी ऊपरी सीमा को ‘स्ट्रैटोपाज’ कहते हैं। इस मण्डल के निचले भाग में ओज़ोन गैस बहुतायात में पायी जाती है।
  • इस ओज़ोन बहुल मण्डल को ओज़ोन मण्डल कहते हैं। ओज़ोन गैस सौर्यिक विकिरण की हानिकारक पराबैंगनी किरणों को सोख लेती है और उन्हें भूतल तक नहीं पहुंचने देती है तथा पृथ्वी को अधिक गर्म होने से बचाती हैं।यहाँ से ऊपर जाने पर तापमान में बढोतरी होती है

मध्यमण्डल

  • यह वायुमंडल की तीसरी परत है जो समताप सीमा के ऊपर स्थित है। इसकी ऊंचाई लगभग 80 किलोमीटरतक है। अंतरिक्ष से आने वाले उल्का पिंड इसी परत में जल जाते है।

तापमण्डल

  • इस मण्डल में ऊंचाई के साथ ताप में तेजी से वृद्धि होती है। तापमण्डल को पुनः दो उपमण्डलों ‘आयन मण्डल’ तथा ‘आयतन मण्डल’ में विभाजित किया गया है। आयन मण्डल, तापमण्डल का निचला भाग है जिसमें विद्युत आवेशित कण होते हैं जिन्हें आयन कहते हैं।
  • ये कण रेडियो तरंगों को भूपृष्ठ पर परावर्तित करते हैं और बेतार संचार को संभव बनाते हैं। तापमण्डल के ऊपरी भाग आयतन मण्डल की कोई सुस्पष्ट ऊपरी सीमा नहीं है। इसके बाद अन्तरिक्ष का विस्तार है।

आयनमण्डल

  • यह परत 80 से 500 किलोमीटर की ऊंचाई तक विस्तृत है । आयन मंडल की निचली सिमा में ताप प्रायः कम होता है जो ऊंचाई के साथ बढ़ते जाता है जो 250km में 700c हो जाता है ।
  • इस मंडल में सुऱय के अत्यधिक ताप के कारण गैसें अपने आयनों में टुट जाते हैं।

बाह्यमण्डल

  • धरातल से 500से1000km के मध्य बहिरमंडल पाया जाता है,कुछ विद्वान् इसको 1600km तक मानते है । इस परत का विषेस अध्ययन लैमेन स्पिट्जर ने किया था।
  • इसमें हीलियम तथा हाइड्रोजन गैसों की अधिकता है।
Total
6
Shares
1 comment
  1. गर्मियों में क्षोभ मंडल की ऊंचाई बढ़ जाती है तथा सर्दियों में घट जाती हैं।
    धरातल से ऊपर जानें पए प्रति १,००० फीट की ऊचाई पर तापमान में ३.६ डिग्री फारेनहाइट की गिरावट आती जाती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
Read More

खनिज संसाधन, विश्व में शीर्ष उत्पादक एवं वितरण क्षेत्र, Handwritten Notes PDF

खनिज संसाधन, विश्व में शीर्ष उत्पादक एवं वितरण क्षेत्र, Handwritten Notes PDF Subject – खनिज संसाधन, विश्व में शीर्ष…
Read More

क्या होता है बायोस्फीयर रिज़र्व,संरचना तथा मानदंड?

बायोस्फीयर रिज़र्व बायोस्फीयर अथवा जैवमंडल रिज़र्व में वन्यजीवों एवं प्राकृतिक संसाधनों की सुरक्षा, रखरखाव, प्रबंधन या पुनर्स्थापन किया…
Yamuna river
Read More

यमुना नदी | उद्गम स्थान | पौराणिक स्रोत | प्रवाह क्षेत्र | सांस्कृतिक महत्व

Table of Contents Hide उद्गम स्थानपौराणिक स्रोतप्रवाह क्षेत्रआधुनिक प्रवाहसांस्कृतिक महत्व [responsivevoice_button voice=”Hindi Female” buttontext=” ऑडियो सुनें/बंद करें “]…
Read More

क्या होती है प्रायद्वीपीय नदियाँ तथा उनकी अपवाह द्रोणियाँ?

प्रायद्वीपीय नदियाँ भारत के पश्चिमी तट पर स्थित पर्वत श्रृंखला को पश्चिमी घाट  या सह्याद्रि कहते हैं। भारत में…
Read More

कौन है भारत के प्रमुख बंदरगाह ?

Table of Contents Hide भारत के प्रमुख बंदरगाह 1.कांडला बंदरगाह 2.कोच्चि बंदरगाह 3.कोलकाता बंदरगाह4.चेन्नई बंदरगाह5.तूतीकोरिन बंदरगाह 6.एन्नौर बंदरगाह7.न्यू मंगलौर बंदरगाह8.न्हावाशेवा बंदरगाह (जवाहरलाल नेहरू…
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download