कार्नवालिस संहिता क्या थी ?

  • (Cornwallis Code) 1793 ई० में लॉर्ड कार्नवालिस ने अपने न्यायिक सुधारों को इस नाम से प्रस्तुत किया।
  • यह संहिता शक्तियों के पृथक्करण (Separation of Powers) के प्रसिद्ध सिद्धांत पर आधारित है।
  • उस समय तक जिले में कलक्टरों के पास भू-राजस्व, न्याय एवं दंडनायक की शक्तियाँ होती थीं।
  • परंतु कार्नवालिस ने राजस्व प्रशासन (Revenue Administration) को न्याय प्रशासन (Judicial Administration) से अलग कर दिया।
  • इस प्रकार राजस्व को छोड़कर कलेक्टरों से सभी अधिकार ले लिये गये।
  • कार्नवालिस ने जिला दीवानी अदालतों में एक नवीन पदाधिकारियों की श्रेणी गठित की जिसकी जिला न्यायाधीश (District Judge) के रूप में नियुक्ति की तथा इन्हें फौजदारी तथा पुलिस के कार्य भी दिये।