turk aakraman

भारत पर तुर्की आक्रमण (महमूद गजनवी)

महमूद गजनवी

  • एक तुर्क सरदार अल्पतगीन ने 932 ई० में गजनी (मध्य एशिया) में एक स्वतंत्र राज्य की स्थापना की। 
  • अल्पतगीन की मृत्यु के पश्चात उसके दास एवं दामाद सुबुक्तगीन ने 977 ई० में गजनी पर अधिकार कर लिया। 
  • सुबुक्तगीन ने पंजाब के तत्कालीन शासक जयपाल शाही को 986-87 ई० में हराया एवं तुर्कों के लिए भारत-विजय के द्वार खोल दिये। 
  • सुबुक्तगीन का पुत्र महमूद गजनी (जम्न-971 ई०) था, जिसने भारत के विरुद्ध प्रसिद्ध तुर्की अभियान किये। 
  • 998 ई० में महमूद गजनी 27 वर्ष की उम्र में गजनी का शासक बना, उस वक्त उसके राज्य में अफगानिस्तान एवं खुरासन सम्मिलित थे। 
  • 11 वीं शताब्दी भारत में राजनैतिक विकेंद्रियकरण का समय था
  • यह समय राजपूत राज्यों का था जिन्होंने हर्ष के बाद अपनी अपनी प्रधानता की क्षेत्रीय ईकाईयाँ बनाई
  • महम्मूद गजनवी ने 998 ई0 से 1030 ई0 तक भारत पर शासन किया
  • महम्मूद गजनवी सुबुक्तगीन का पुत्र था अपने पिता के समय यह खुरसान का शासक था
  • महम्मूद गजनवी ने 1001 ई0 से 1027 तक भारत पर 17 बार आक्रमण किये

सोमनाथ की लूट 

  • महमूद गजनी का सर्वाधिक महत्वपूर्ण आक्रमण सोमनाथ मंदिर पर था।
  • जनवरी 1025 में वह अन्हिलवाड़ा पहुँचा एवं सोमनाथ के प्रसिद्ध मंदिर पर आक्रमण कर दिया 
  • महमूद ने मंदिर के शिवलिंग के टुकड़े-टुकड़े कर दिये और टुकड़ों को उसने गजनी, मक्का एवं मदीना भेजवा दिया। ।
  • सोमनाथ की लूट से महमूद को लगभग 2 करोड़ दीनार की संपत्ति हाथ लगी।
  • बगदाद के खलीफा अल-कादिर बिल्लाह ने ‘महमूद’ के राज्यारोहण को मान्यता देते हुए, उसे यमीन-उद्द-दौला एवं यमीन-उल-मिल्लाह की उपाधियाँ प्रदान की।
  •  गजनी का स्वतंत्र शासक बनने के बाद महमूद ने ‘सुल्तान’ की उपाधि धारण की एवं इतिहास में सुल्तान महमूद के नाम से विख्यात हुआ।
  • उसके आक्रमण का प्रमुख उद्देश्य अधिक धन लूटना था
  • महम्मूद गजनवी का पहला आक्रमण सीमावर्ती नगरों पर हुआ जिसमें उसने कुछ किलों व प्रदेशों पर अपना अधिकार कर लिया
  • महम्मूद गजनवी का दूसरा आक्रमण 1001-1002 के बीच हिंदुशाही वंशीय शासक जयपाल के विरुध्द हुआ
  • पेशावर के युध्द में हार जाने के कारण जयपाल ने आत्महत्या कर ली
  • 1006 ई0 में महम्मूद गजनवी ने मुल्तान के शासक अब्दुल फतह के विरुध्द आक्रमण किया
  • महम्मूद गजनवी ने अपना सोलहवॉ और सर्वाधिक महत्वपूर्ण आक्रमण 1025-26 ई0 में किया
  • इस आक्रमण में उसने सोमनाथ मंदिर को अपना निशाना बनाया
  • सोमनाथ मंदिर से उसे अपार संप्पति हासिल हुई बाद में उसने सोमनाथ मंदिर को तोड दिया
  • महम्मूद गजनवी ने मन्दिर के शिवलिंग के टुकडे-टुकडे कर दिये और टुकडों को गजनी,मक्का ,मदीना भिजवा दिया
  • महम्मूद गजनवी के दरबार में अलबरुनी फिरदौसी ,उत्बी एवं फरुखी जैसे रत्न थे
  • महम्मूद गजनवी सुल्तान की उपाधि धारण करने वाला पहला शासक था
  • महम्मूद गजनवी के साथ प्रसिध्द विद्दान अलबरुनी भारत आया
  • अलबरुनी की प्रसिध्द रचना किताब-उल-हिंद थी
  • महम्मूद गजनवी ने भारतीय आक्रमणों के समय ‘जेहाद’ का नारा दिया और अपना नाम ‘बुतशिन’ रखा
  • 30 अप्रैल 1030 में महम्मूद गजनवी की मृत्यु हो गयी

महमूद गजनवी के प्रमुख आक्रमण

राज्य शासकवर्षसंबंधित विशिष्ट तथ्य
जयपाल (हिंदू शाही वंश पश्चिमोत्तर पाकिस्तान तथा पूर्वी अफगानिस्तान)1001 ई.-जयपाल पराजित होकर बंदी बना |  
-शाही राजधानी वैहिंद/उद्भाण्डपुर ध्वस्त कर दी गई|
-धन तथा हाथी देकर जयपाल मुक्त हुआ |
-अपमानित ने जयपाल ने आत्महत्या कर ली
फतह दाऊद (मुल्तान)1004 ई.-मुल्तान पर अधिकार कर लिया गया|  
-शासक करमाथी जाति का था और शिया पंथ मानता था |
-दाऊद को हटाकर जयपाल के पुत्र और आनंदपाल के पौत्र सुखपाल को गद्दी दी|
-सुखपाल मुसलमान बना (नौशाशाह) परंतु पुनः हिंदू बना अत: महमूद ने इसे हटाकर बंदी बनाया |
आनंदपाल (हिंदू शाही वंश)1008 ई.-शाहियों ने नंदना को अपनी नई राजधानी बनाया जो साल्टरेंज में स्थिति थी
-महमूद ने नंदना को नष्ट किया तथा आनंदपाल ने समर्पण किया
नगरकोट (कांगड़ा)1009 ई.-पहाड़ी राज्य कांगड़ा के नगरकोट पर आक्रमण कोई लड़ने नहीं आया अपार धन लूट के रुप में प्राप्त हुआ |
दिद्दा (कश्मीर) लोहार वंश1015 ई.-लोहार वंशीय शासिक दिद्दा महमूद पराजित हुआ (संभवत प्रतिकूल मौसम के कारण) यह भारत में महमूद की प्रथम पराजय थी |
मथुरा, वृंदावन1015 ई.-क्षेत्रीय कलचुरी शासक कोकल द्वितीय पराजित हुआ |  
-महमूद ने हिंदू तीर्थ स्थलों में भारी लूटपाट और तोड़फोड़ की और मथुरा तथा वृंदावन का पूर्णतःविध्वंस कर दिया गया |
कन्नौज1015 ई.-प्रतिहार शासक राज्यपाल बिना युद्ध किए ही भाग गया |  
-राज्यपाल को दंडित करने हेतु कलिंजर के शक्तिशाली चंदेल शासक विद्याधर ने शासकों का एक संघ बनाया |
-कन्नौज की गद्दी पर त्रिलोचन पाल को बिठाया गया |
बुंदेलखंड1019 ई.-बुंदेलखंड (राजधानी कलिंजर) के चंदेल शासक विद्याधर ने एक विशाल सेना जुटाई महमूद सेना देखकर विचलित हो गया और कोई निर्णायक युद्ध नहीं हुआ |
1021 ई.-पुनः आमना सामना हुआ परंतु कोई निर्णायक युद्ध नहीं हुआ |  
विद्याधर स्वता ही एक मासिक कर देने को सहमत हो गया |
सोमनाथ1025 ई.-काठियावाड़ का शासक भीमदेव बिना युद्ध किए ही भाग गया
-पवित्र शिव मंदिर नष्ट करके भयंकर कत्लेआम मचाया गया और आपार लूट सामग्री प्राप्त की गई |  
-कुछ विद्वानों का मानना है कि महमूद ने 1027 ईस्वी में जाटों के विरुद्ध आक्रमण किया जो उसका भारत पर अंतिम आक्रमण था |

Email Notification के लिए Subscribe करें 

मुख्य विषय
ज्ञानकोश  इतिहास  भूगोल 
गणित  अँग्रेजी  रीजनिंग 
डाउनलोड  एसएससी रणनीति
अर्थव्यवस्था विज्ञान  राज्यव्यवस्था
राज्यवार हिन्दी टेस्ट सीरीज़ (Unlimited)
कृषि क्विज़ जीवनी
Total
1
Shares
6 comments
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
Read More

स्वतंत्रता संग्राम से सम्बंधित प्रसिद्ध व्यक्तित्व

मोतीलाल नेहरू मोतीलाल नेहरू एक प्रख्यात वकील, कुशल राजनीतिज्ञ एवं स्वतंत्रता सेनानी थे, जिन्होंने देशबन्धु चितरंजन दास के…
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download