Press ESC to close

Or check our Popular Categories...

Agriculture

39   Articles
39
4 Min Read
624

जीवाणु जनित पशु रोग (Bacterial animal disease) क्र.स. रोग प्रभावित पशु रोग कारक रोग के लक्षण बचाव और चिकित्सा 1 तितली ज्वर एवं गिल्टी रोग गौ-पशु, भेड़, बकरी, घोड़े, खच्चर, सूअर एवं कुत्ता बैसिलस एंथ्रेसिस अतितीव्र-प्रायः भेड़ में अचानक मृत्यु,…

Continue Reading
1 Min Read
129

सूक्ष्म तत्वों की संवेदनशीलता (Sensitivity to subtle elements) सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी के प्रति संवेदनशील पौधे निम्नलिखित है – सूक्ष्म तत्व प्रभावसूचक (संवेदनशील पौधे) 1 लोहा नींबू, केला, आडु, फूलगोभी, धान, जौ एवं ज्वार | 2 बोरॉन सेब, नाशपाती,…

Continue Reading
3 Min Read
681

समन्वित पीड़क प्रबंधन (Integrated trouble management) इस अवधारणा के प्रथम प्रतिपादक गियर वंध क्लार्क (1961) थे यह योजना पीड़क नियंत्रण के उपयोग में लाई जा रही अनेक विधियों का ऐसा सहयोग है, जो आर्थिक पारिस्थितिक और सामाजिक मूल्यों और परिणामों…

Continue Reading
2 Min Read
378

किसान क्रेडिट कार्ड योजना(Kisan Credit Card Scheme) किसानों को कृषि साख उपलब्ध कराने के उद्देश्य से अगस्त 1998 में इस योजना की शुरुआत की गई| इसका कार्यान्वयन वाणिज्य बैंक, केंद्रीय सहकारी बैंक को और क्षेत्रीय ग्रामीण बैंकों के माध्यम से…

Continue Reading
3 Min Read
3402

अकार्बनिक और कार्बनिक खादो में अंतर (Differences in inorganic and organic fertilizers) अकार्बनिक (उर्वरक) खादें कार्बनिक (जीवांश) खादें 1 इनके लगातार प्रयोग से भूमि की दशा खराब होती जाती है तथा फसल का तत्व के प्रति प्रभाव घटता है वायु…

Continue Reading
1 Min Read
664

संगरोध (Quarantine) बाहर से आयातित बीजों एवं अन्य प्रवध्यों तथा पादप उत्पादों का रोग, कीट एवं खरपतवार से मुक्त होना सुनिश्चित करने की प्रक्रिया को संगरोध कहते हैं | नाशी कीट एवं नाशक जीव अधिनियम 1914 के अंतर्गत भारत में…

Continue Reading
6 Min Read
514

श्वेत क्रांति एवं ऑपरेशन फ्लड (White Revolution and Operation Flood) दूध 1964-1965 में सघन पशु विकास कार्यक्रम पश्चिम (ICDP) नामक योजना प्रारंभ की गई जिसके परिणाम स्वरुप दुग्ध उत्पादन में व्यापार वृद्धि हुई इसे क्रांति का नाम दिया गया |…

Continue Reading
6 Min Read
4498

कृषि साख (Agricultural credit) कृषि साख से तात्पर्य है कृषि कार्यों के लिए उपलब्ध वित्त| यह मुख्यता दो स्त्रोतों से प्राप्त होता है -प्रथम संस्थागत स्रोत और दूसरा गैर संस्थागत स्त्रोत | सरकार वाणिज्य बैंक को तथा सहकारी बैंक का…

Continue Reading
2 Min Read
1124

इंद्रधनुषी क्रांति (Iridescent revolution) वर्तमान में प्राथमिक क्षेत्र में व्याप्त नीली, हरी, पीली, गुलाबी, श्वेत, भूरी क्रांतियों को समेकित करते हुए इन्हें इंद्रधनुषी क्रांति अथवा सदाबहार क्रांति के अंतर्गत शामिल किया जाएगा | इस इंद्रधनुषी क्रांति का मुख्य उद्देश्य है…

Continue Reading
6 Min Read
534

कृषि क्षेत्र में अनुसंधान एवं विकास (R & D in agriculture sector) हरित क्रांति (Green revolution) अमेरिकी वैज्ञानिक डॉक्टर विलियम गैड में अधिक उपज देने वाली किस्मों के संदर्भ में सर्वप्रथम 1968 में हरित क्रांति शब्द का प्रयोग किया था…

Continue Reading
7 Min Read
185

प्रोसीजर फार्मिंग (सूक्ष्म कृषि) जल फार्मिंग एक संबंधित कृषि प्रबंधन प्रणाली है इसके अंतर्गत उन महत्वपूर्ण कारकों को पहचाना जाता है जिसमें नियंत्रण योग्य कारकों के फलस्वरुप उत्पादन तथा उत्पादकता में कमी आती है तथा उन्हें दूर करने की प्रबंधकीय…

Continue Reading
7 Min Read
3144

भारतीय कृषि एवं उसकी प्रकृति (Indian agriculture and its nature) वर्ष 2011 की जनगणना के अनुसार भारत की जनसंख्या बढ़कर एक अरब 21 करोड़ से अधिक हो गई है इस बढ़ती हुई जनसंख्या की खाद्यान्न आवश्यकता की पूर्ति के संदर्भ…

Continue Reading
1 Min Read
974

उत्पादन से संबन्धित विविध क्रांतियां (Various Revolution related to Production) 1 काली क्रांति (Black Revolution) पेट्रोलियम उत्पादन 2 नीली क्रांति (Blue Revolution)   मछली उत्पादन 3 भूरी क्रान्ति (Brown Revolution) कोको उत्पादन 4 स्वर्ण फाइबर क्रांति (Golden Fibre Revolution)  …

Continue Reading
1 Min Read
6095

विभिन्न प्रकार की खेतियां के नाम (Various types of cultivation names) 1 एरोपोनिक (Aeroponic) पौधों को हवा में उगाना 2 हॉर्टिकल्चर (Horticulture) बागवानी 3 ओलेरीकल्चर (Olericulture) सब्जी विज्ञान 4 विटीकल्चर (Viticulture) अंगूर की खेती 5 पिसीकल्चर (Pisciculture) मत्स्यपालन 6 मोरीकल्चर…

Continue Reading
5 Min Read
2042

भूमि की उर्वरता को टिकाऊ बनाए रखते हुए सतत फसल उत्पादन के लिए कृषि वैज्ञानिकों ने प्रकृतिप्रदत्त जीवाणुओं को पहचानकर उनसे बिभिन्न प्रकार के पर्यावरण हितैषी उर्वरक तैयार किये हैं जिन्हे हम जैव उर्वरक (बायोफर्टिलाइजर) या ‘जीवाणु खाद’ कहते है।…

Continue Reading
8 Min Read
417

प्रदूषक एक ऐसा पदार्थ है जो विशेषकर पानी या वायुमंडल को प्रदूषित करता है. यह ज्वालामुखी विस्फोट, कोयला और गैसोलीन को जलाने तथा अन्य मानवीय गतिविधियों के माध्यम से वातावरण में प्रवेश करता है। यहां, हम सामान्य जागरूकता के लिए…

Continue Reading