अकार्बनिक और कार्बनिक खादो में अंतर ( Differences In Inorganic And Organic Fertilizers)

अकार्बनिक और कार्बनिक खादो में अंतर (Differences in inorganic and organic fertilizers)

अकार्बनिक (उर्वरक) खादें

कार्बनिक (जीवांश) खादें

1 इनके लगातार प्रयोग से भूमि की दशा खराब होती जाती है तथा फसल का तत्व के प्रति प्रभाव घटता है वायु संचार नहीं बढ़ता तथा ताप नियंत्रित नहीं रहता | इनके प्रयोग से भूमि की भौतिक, रासायनिक तथा जैविक दशा में सुधार होता है वायु संचार बढ़ जाता है तथा ताप नियंत्रित रहता है |
2 फसलों में खाद अधिक डालने पर फसल झुलस जाती है | अधिक प्रयोग करने पर फसल पर बुरा प्रभाव नहीं पड़ता |
3 गोदामों में भंडारण करते समय सावधानी रखनी पड़ती है अन्यथा नमी आने से उर्वरक में ढेले पड़ जाते हैं जैसे-यूरिया, डीएपी भंडारण में कोई खास सावधानी की जरूरत नहीं पड़ती |
4 इन्हें बुबाई पर (Pव K उर्वरक)तथा खड़ी फसल में टॉप ड्रेसिंग अथवा पर्णीय छिड़काव में दे सकते हैं | इनका प्रयोग फसल की बुवाई से एक से डेढ़ महीने पूर्व करना पड़ता है |
5 C/N अनुपात बिगड़ता है | C/N अनुपात संतुलित रहता है |
6 इनमें प्राय 1,2,3 तत्व पाए जाते हैं | इनमें सभी पादप पोषक तत्व पाए जाते हैं |
7 यह अपेक्षाकृत कम आयतन वाले एवं हल्के अर्थात सांद्र होते हैं, इन्हें केवल फैक्ट्री में ही तैयार किया जाता है जैसे; यूरिया आदि | यह आयतन में ज्यादा तथा भारी होते हैं |
8 यह महंगे होते हैं | इनको आसानी से फार्म पर तैयार किया जा सकता है जैसे-कंपोस्ट, गोबर की खाद, हरी खाद |
9 इनमें तत्वों की मात्रा अधिक होने के कारण अपेक्षाकृत कम डालनी पड़ती है | इनकी कीमत कम होती है इन की मात्रा खेत में ज्यादा डालनी पड़ती है क्योंकि इन में पोषक तत्वों की प्रतिशतता कम होती है |
10 इन्हें खेत/फसल में डालने पर एक ही फसल द्वारा या 1 वर्ष में अधिकांश तत्व ग्रहण कर लिए जाते हैं | कार्बनिक खादों का प्रभाव भूमि में डालने पर भी दीर्घकालीन (2 से 3 वर्ष या अधिक) होता है |
11 यह अवशेष प्रभाव नहीं छोड़ते | प्रयोग के बाद ही अवशेष प्रभाव छोड़ते हैं |
Total
0
Shares
1 comment
  1. तरह-तरह बहुत ढश गए डज धऔ सरकने दह समझ छम भयो हहहहहहहह ऐथ थऐ थऐ ओर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
Read More

फसलों के उत्पादन तथा वितरण को प्रभावित करने वाले भौतिक और सामजिक कारक

भौतिक कारक जलवायु– जलवायु कृषि में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। पौधों को उनके विकास के लिए पर्याप्त गर्म…
उर्वरक-fertilizers
Read More

उर्वरक (Fertilizers)- वर्गीकरण, पौधों के लिये आवश्यक पोषक तत्व तथा प्रमुख रासायनिक उर्वरक

Table of Contents Hide उर्वरक का वर्गीकरणपौधों के लिये आवश्यक पोषक तत्वमुख्य तत्वद्वितीयक पोषक तत्वसूक्ष्म पोषक तत्व (माइक्रोन्युट्रिएन्ट्स)उर्वरक…
Read More

सूक्ष्म तत्वों की संवेदनशीलता (Sensitivity to subtle elements)

सूक्ष्म तत्वों की संवेदनशीलता (Sensitivity to subtle elements) सूक्ष्म पोषक तत्वों की कमी के प्रति संवेदनशील पौधे निम्नलिखित…
Read More

प्रमुख प्रदूषक की सूची, स्रोत तथा मानव और पर्यावरण पर उनके प्रभाव

Table of Contents Hide 1. कार्बन के ऑक्साइड(COx)प्रकार2. सल्फर के ऑक्साइड(SOx)प्रकार3. नाइट्रोजन के ऑक्साइड(NOx)प्रकार 4. हाइड्रोकार्बन(HCs)[वाष्पशील कार्बनिक यौगिकों(VOCs)]प्रकार 5. अन्य…
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download