turk aakraman
History
Monisha

भारत पर तुर्की आक्रमण (महमूद गजनवी)

महमूद गजनवी एक तुर्क सरदार अल्पतगीन ने 932 ई० में गजनी (मध्य एशिया) में एक स्वतंत्र राज्य की स्थापना की।  अल्पतगीन की मृत्यु के पश्चात उसके दास एवं दामाद सुबुक्तगीन ने 977 ई० में गजनी पर अधिकार कर लिया।  सुबुक्तगीन ने पंजाब के तत्कालीन शासक जयपाल शाही को 986-87 ई० में हराया एवं तुर्कों के

Read More »
History
Monisha

अरबों का आक्रमण

मध्यकालीन भारत की प्रमुख घटना मुस्लिमों का आक्रमण थी जिसमें सर्वप्रथम अरबी आक्रमण हुआ और बाद में तुर्की आक्रमण हुआ सर्वप्रथम अरबी मुस्लमानों का आक्रमण 636 ई0 में हुआ था ये आक्रमण खलीफा उमर के समय में हुआ और यह आक्रमण असफल रहा भारत पर पहला सफल आक्रमण 712 ई0 में मोहम्मद-बिन-कासिम द्वारा किया गया यह आक्रमण खालीफा-अल-वाजिद के

Read More »
History
Monisha

इस्लाम का अभ्युदय एवं प्रसार

7वीं शताब्दी ई० में पश्चिमी अरब व्यापारिक मार्ग पर काफिलों के एक शहर मक्का का उदय हुआ। कुरैश नामक जनजाति ने उस काल में मक्का पर अपना प्रभुत्व जमा रखा था।  मक्का में ही अरबों का सर्वप्रमुख धार्मिक केन्द्र काबा स्थित था। इस्लाम धर्म के संस्थापक हजरत मुहम्मद साहब का जन्म 570 ई० में मक्का

Read More »
History
Monisha

मध्यकालीन भारतीय इतिहास को जानने के स्त्रोत

मध्यकालीन भारत (MEDIEVAL INDIA)  “भारत में 1206 ई० में दिल्ली सल्तनत की स्थापना से लेकर 1739 ई० में नादिरशाह के आक्रमण एवं मुगल साम्राज्य के पूर्ण पतन तक का काल ‘मध्यकाल’ कहलाता है।  इस काल की जानकारी के लिए पुरातात्विक एवं साहित्यिक दोनों प्रकार के स्रोत उपलब्ध हैं, परंतु यहाँ सिर्फ साहित्यिक स्रोतों का विवरण

Read More »
Motivation
Monisha

10 तरीके जिनसे आप याद रख पायेंगे कुछ भी

10 ways to memorize anything 1. आत्मविश्वास कहा जाता है आत्मविश्वास सफलता की कुंजी है जी हाँ यह सच है, यदि आप सफल होना चाहते है तो सर्वप्रथम आत्मविश्वास जरुरी है आपने ये भी जरूर ही सुना होगा कि आधी जंग आत्मविश्वास से ही जीत ली जाती है, तो अपने ऊपर यकीन करें कि आप

Read More »
Ancient History
Monisha

त्रिपक्षीय संघर्ष

हर्षवर्द्धन की मृत्यु के बाद भारत में तीन प्रमुख शक्तियों पाल, प्रतिहार एवं राष्ट्रकूट वंशों का उदय हुआ, जिन्होंने अपने-अपने क्षेत्रों में लंबे समय तक शासन किया।  कन्नौज पर प्रभुत्व के सवाल पर उपरोक्त तीनों राजवंशों के बीच ‘8वीं शताब्दी के पूर्वार्द्ध में एक ‘त्रिपक्षीय संघर्ष’ आरंभ हुआ जो 200 वर्षों तक चला।  कन्नौज गंगा

Read More »
Ancient History
Monisha

राजपूतों के वंश (Dynasties of Rajputs)

ऐसा माना जाता है कि राजपूत शब्द एक जाति या वर्ण-विशेष के लिए इस देश में मुसलमानों के आने के बाद प्रचलित हुआ। ‘राजपूत’ या ‘रजपूत’ शब्द संस्कृत के राजपुत्र शब्द का अपभ्रंश है। प्राचीन ग्रंथ कुमारपाल चरित् एवं वर्ण रत्नाकर आदि में राजपूतों के 36 कुलों की सूची मिलती है।  राजतरंगिणी में भी राजपूतों के 36

Read More »
Ancient History
Monisha

सीमावर्ती राजवंशों का इतिहास

पाल वंश (Pal Dynasty) खलीमपुर ताम्र-पत्र अभिलेख से ज्ञात होता है कि 750 ई० में बंगाल की जनता ने अराजकता से त्रस्त होकर स्वयं गोपाल को अपना राजा चुना।  गोपाल (750-80 ई०) पाल वंश का प्रथम शासक था।  इस वंश की राजधानी मुंगेर थी।  गोपाल बौद्ध धर्म को मानता था, उसने ओदंतपुरी विश्वविद्यालय की स्थापना

Read More »
dakshin bharat का इतिहास
Ancient History
Monisha

दक्षिण भारत का इतिहास

उपलब्ध संसाधन संकेत करते हैं कि दक्षिण भारत, मुख्यत: तमिलनाडु एवं केरल में प्रथम सहस्त्राब्दी में महापाषाणयुगीन लोग रहते थे।  पल्लव वंश (Pallav Dynesty) राष्ट्रकूट वंश (RashtrakutDynasty) चालुक्य वंश (CHALUKYADYNASTY)  बादामी के चालुक्य (Chalukyas of Badami) कल्याणी के चालुक्य (Chalukyas of Kalyani) वेंगी के चालुक्य (Chalukyas of Vengi) यादव वंश (Yadav Dynasty) काकतीय वंश (Kaktiya

Read More »
Ancient History
Monisha

पुष्यभूति वंश | हर्षवर्धन

गुप्त वंश के पतन के पश्चात् पुष्यभूति ने थानेश्वर में एक नवीन राजवंश की स्थापना की जिसे ‘पुष्यभूति वंश’ कहा गया। हर्षवर्द्धन (इस राजवंश का सबसे प्रतापी शासक) के लेखों में उसके केवल चार पूर्वजों नरवर्द्धन, राज्यवर्द्धन, आदित्यवर्द्धन एवं प्रभाकरवर्द्धन का उल्लेख मिलता है।

Read More »