गुप्त काल (Audio) | सम्पूर्ण जानकारी |प्रशासनिक व्यवस्था | समाज एवं अर्थव्यवस्था | धर्म, कला, साहित्य एवं विज्ञान

Table of Contents

गुप्त काल | (चन्द्रगुप्त, समुद्रगुप्त )

  1. गुप्त वंश की स्थापना किसने की
  2. गुप्त काल को स्वर्ण काल क्यों कहा जाता है
  3. गुप्त संवत किसने चलाया
  4. सर्वप्रथम राजा रानी प्रकार के सिक्के किसने चलाये और वे किस धातु के बने थे
  5. लिच्छवि दोहित्र कौन था
  6. भारत का नेपोलियन किसे कहा जाता है
  7. भीतरी अभिलेख किसका था
  8. किस शासक को वीणा बजाने का शौक था
  9. तथा अन्य सभी तथ्य जो किसी भी प्रतियोगी परीक्षा के लिए आवश्यक हैं

चंद्रगुप्त विक्रमादित्य

  1. चन्द्रगुप्त द्वतिय विक्रमादित्य के बारे में
  2. चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य ने कौन कौन सी उपाधि ग्रहण की
  3. चन्द्रगुप्त विक्रमादित्य के उपनाम कौन कौन से हैं
  4. इसने किस धातु की मुद्राएं सबसे अधिक मात्रा में चलायीं
  5. चन्द्रगुप्त के दरबार में रहने वाले नवरत्नों के बारे में
  6. भारत का शेक्सपियर किसे कहा जाता है तथा उसकी रचनाएँ कौन कौन सी थी
  7. मेहरौली अभिलेख में इसके बारे में क्या वर्णन मिलता है
  8. इसके काल में कौन सा विदेशी यात्री आया था
  9. चन्द्रगुप्त  ने कैसे अपने साम्राज्य को बढ़ाया
  10. चन्द्रगुप्त  ने शकों को पराजित करके कौन सी उपाधि ग्रहण की
  11. चन्द्रगुप्त  ने किस स्थान को अपनी दूसरी राजधानी बनाया
  12. चन्द्रगुप्त  ने  किस के विरुद्ध विजय प्राप्त करके चांदी के सिक्के चलाये
  13. इसके काल में सामजिक स्थिति कैसी थी
  14. तथा अन्य सभी तथ्य जो किसी भी प्रतियोगी परीक्षा में इस भाग से जानना अनिवार्य है

कुमारगुप्त

  1. आप जानेंगे कुमारगुप्त ने कौन सी शैली में मुद्राएं जारी कीं
  2. कुमारगुप्त के कितने अभिलेख मिले हैं जो कि सभी गुप्त सम्राटों में सबसे अधिक हैं
  3. इसके शासन काल में कौन से विश्वविद्यालय की स्थापना की गयी थी
  4. कौन से विश्वविद्यालय को ऑक्सफ़ोर्ड ऑफ़ महायान कहा जाता था
  5. कुछ विशेष अभिलेखों के बारे में
  6. कौन कौन से यज्ञ कुमार गुप्त ने कराये तथा उनकी जानकारी कैसे मिलती है
  7. तथा अन्य सभी विशिष्ट तथ्य जो आवश्यक हैं इतिहास के इस भाग से

स्कन्दगुप्त

  1. आप जानेंगे स्कन्द गुप्त के जूनागढ़ अभिलेख के बारे में तथा इससे कौन कौन सी बातें पता चलती हैं
  2. आप जानेंगे सुदर्शन झील का जीर्णोध्दार किसने करवाया
  3. विष्णु भगवान् की मूर्ति कहाँ स्थापित करायी
  4. सूर्य पूजा का उल्लेख कौन से अभिलेख से मिलती है
  5. तथा अन्य सभी विशिष्ट तथ्य जो आवश्यक हैं इतिहास के इस भाग से

गुप्त काल प्रशासनिक व्यवस्था

  1. गुप्तकालीन प्रशासन को जानने के स्त्रोत कौन कौन से हैं
  2. विषयपति कौन होता था
  3. व्यापारियों के नेता को क्या कहा जाता था
  4. प्रशासन की सबसे छोटी इकाई क्या थी तथा उसके नेता को क्या कहा जाता था
  5. आप जानेंगे गुप्तकालीन नौकरशाही के बारे में उसमे कौन कौन से पद हुआ करते थे
  6. पुलिस विभाग के प्रधान को क्या कहा जाता था
  7. महासंधिविग्रहिका का क्या कार्य क्या था तथा अन्य पदधिकारियों के बारे में
  8. गुप्त कालीन न्यायालय के बारे में तथा उसका वर्णन हमें किस ग्रन्थ से मिलता है
  9. तथा अन्य सभी तथ्य जो इतिहास के इस भाग से जानना आवश्यक है

गुप्तकालीन समाज एवं अर्थव्यवस्था

  1. गुप्तकालीन समाज कितने वर्गों में बंटा हुआ था
  2. कायस्थ जाति का वर्णन सबसे पहले कहाँ मिलता है
  3. गुप्त काल में महिलाओं की स्थितज कैसी थी
  4. एरण अभिलेख से इस काल के बारे में क्या जानकारी मिलती है
  5. गणिका तथा कुट्टिन किसे कहा जाता था
  6. गुप्त काल में कौन कौन से कर प्रचिलित थे
  7. विष्टि तथा चुंगी किसे कहा जाता था
  8. व्यापारियों से लिए जाने वाला कर क्या कहलाता था
  9. गुप्त काल में व्यापार के प्रमुख केंद्र कौन कौन से थे
  10. सबसे बड़ा उद्योग कौन सा था
  11. गुप्त काल में किन किन देशों से व्यापारिक सम्बन्ध थे
  12. तथा अन्य सभी तथ्य जो इतिहास के इस भाग से जानना आवश्यक है

गुप्तकालीन धर्म, कला, साहित्य एवं विज्ञान

गुप्त काल विशेषतः ब्राह्मण धर्म के लिए पुनुरुत्थान का काल था इस काल में सभी धर्मो की उन्नति हुई चाहे वह जैन धर्म हो बौद्ध धर्म, भागवत धर्म , वैष्णव धर्म या शैव धर्म सभी ने उन्नति की, इस काल में अनेक मंदिरों का निर्माण हुआ

गुप्तकाल के प्रमुख मंदिर

स्थानमंदिर/स्तूप
भूमरा (नागौर) राजस्थानशिव मंदिर
तिगवा (जबलपुर)विष्णु मंदिर
देवगढ़ (झांसी)दशावतार मंदिर (विष्णु मंदिर)
शिरपुरलक्ष्मण मंदिर (ईटों का मंदिर)
उदयगिरि (विदिशा)वैष्णो मंदिर
भीतरगांव (कानपुर)ईटों का मंदिर
सारनाथधमेख स्तूप (ईंटों का बनाई स्तूप)
भितरी (गाजीपुर)ईटों का मंदिर
खोह (नागोद) मध्य प्रदेशशिव मंदिर
  • अर्धनारीश्वर तथा वराह अवतार तथा कृष्ण रूप की पूजा इसी काल में शुरू हुई थी २. गुप्त कालीन कला शैली गुप्त काल में मूर्तिकला ने अपने आप को गांधार शैली से अलग कर लिया था
  • अजंता की गुफाओं का निर्माण भी इसी काल में हुआ था

गुप्तकालीन अधिकारी एवं उनके दायित्व 

अधिकारीविभाग
महाबलाधिकृतसेनापति
महादंडनायकन्यायाधीश
संधिविग्रहिकयुद्ध तथा संधि के विषयों से संबंधित (युद्ध मंत्री)विदेश मंत्री
दंडपाशिकपुलिस विभाग का सर्वोच्च अधिकारी
विनयस्थितिशिक्षा तथा धर्म संबंधी मामलों का प्रधान
भांडागाराधिकृतराजकोष का अधिकारी
महाअक्षयपटलिकलेखा विभाग का सर्वोच्च अधिकारी
युक्तपुरुषयुद्ध में प्राप्त तथा हस्तगत की गई संपत्ति का लेखा जोखा करने वाला अधिकारी
महाप्रतिहारराज प्रसाद से संबंधित विषयों की देखरेख करने वाला अधिकारी
अग्रहारिकदान विभाग का प्रधान

गुप्त काल की महत्वपूर्ण रचनाएं (Important Compositions)

रचनारचनाकार
ऋतुसंहारमकालिदास
मेघदूतम्कालिदास
कुमारसंभवम्कालिदास
रघुवंशम्कालिदास
मालविकाग्निमित्रम्कालिदास
अभिज्ञान शाकुंतलम्कालिदास
विक्रमोर्वशीयम्कालिदास
मुद्राराक्षसविशाखदत्त
देवीचंद्रगुप्तमविशाखदत्त
काव्य दर्शनदंडिन
दशकुमारचरितदंडिन
स्वप्नवासवदत्ताभास
चारु दत्ताभास
उरुभंगभास
किरातार्जुनीयम्भारवि
योगाचारअसंग
रावण वधवत्सभट्टी
अमरकोशअमर सिंह
चंद्रव्याकरणचंद्र गोमिन
विशुद्धिमग्गबुद्धघोष
बृहदसंहिताबारह मिहिर
पंचसिद्धांतिकाबारह मिहिर
ब्रह्मसिद्धांतआर्यभट्ट
आर्यभट्टीयमआर्यभट्ट
सूर्य सिद्धांतआर्यभट्ट
न्यायवतारसिद्धसेन
पंचतंत्रविष्णु शर्मा
नीतिशास्त्रकामंदक
कामसूत्रवात्स्यायन
चरकसहिंताचरक
मृच्छकटिकम्शूद्रक
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Comment