हूण

हूण कौन थे ?

Table of Contents

  • हूण लोग मंगोल प्रजाति के खानाबदोश जंगलियों के एक समूह थे। यह युद्धप्रिय एवं बर्बर जाति आरंभ में चीन के पड़ोस में निवास करती थी। 
  • छठी शताब्दी ई० के अंत में हूण एक विशाल साम्राज्य पर शासन करते थे जिसकी राजधानी बल्ख में थी।
  • फारस पर हूणों का आधिपत्य हो जाने से उनके लिये भारत का दरवाजा खुला। 
  • हूणों का भारत पर पहला आक्रमण गुप्त सम्राट कुमार गुप्त के काल में हुआ। 
  • कुमार गुप्त के पुत्र स्कंधगुप्त ने हूणों के आक्रमण को विफल कर दिया। 
  • स्कंधगुप्त के निधन के पश्चात् हूणों ने तोरमान के नतृत्व में आक्रमण किया एवं पश्चिमोत्तर भारत में अपनी सत्ता कायम की। 
  • तोरमान का उल्लेख राजतरंगिणी एवं अन्य भारतीय अभिलेखों में हुआ है, उसने संभवतः कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, मालवा एवं उत्तर-प्रदेश के कुछ हिस्से पर शासन किया। 
  • तोरमाण के पुत्र मिहिर कुल के विषय में ग्वालियर से प्राप्त एक अभिलेख से जानकारी मिलती है। 
  • ह्वेनसांग के अनुसार मिहिर कुल की राजधानी शाकल (स्यालकोट) थी। 
  • मिहिरकुल बौद्ध धर्म के प्रति अत्यंत प्रतिक्रियाशील था, उसने खोज-खोजकर बौद्धों की हत्या की एवं उनके स्तूपों एवं विहारों को नष्ट किया। 
  • मिहिरकुल भारत में एक हुण शासक था। ये तोरामन का पुत्र था। तोरामन भारत में हुण शासन का संस्थापक था। मिहिरकुल ५१० ई. में गद्दी पर बैठा।
  • हूणों की बर्बरता ने उत्तरी भारत के शासकों में नवीन स्फूर्ति डाल दी थी।
  • मंदसोर (मध्यभारत) के यशोधर्मन्‌ के लेख से ज्ञात होता है कि मिहिरकुल ने इस भारतीय सम्राट, का आधिपत्य स्वीकार कर लिया था।
  • मिहिरकुल ने उसका पीछा किया पर वह स्वयं पकड़ा गया। उसका वध न कर, उसे मुक्त कर दिया गया। मिहिरकुल की अनुपस्थिति में उसके छोटे भाई ने राज्य पर अधिकार कर लिया अत: कश्मीर में मिहिरकुल ने शरण ली। यहाँ के शासक का वध कर वह सिंहासन पर बैठ गया।
  • मथुरा में बौद्व, जैन और हिन्दू धर्मो के मंदिर, स्तूप, संघाराम और चैत्य थे। इन धार्मिक संस्थानों में मूर्तियों और कला कृतियाँ और हस्तलिखित ग्रंथ थे। इन बहुमूल्य सांस्कृतिक भंडार को बर्बर हूणों ने नष्ट किया।
  • 530 ई० के कुछ पहले मालवा के शासक यशोधर्मन ने मिहिर कुल को पराजित कर दिया, इसके साथ ही भारत में हूणों का उपद्रव समाप्त हो गया। (मालवा के राजा यशोधर्मन और मगध के राजा बालादित्य ने हूणों के विरुद्ध एक संघ बनाया था और भारत के शेष राजाओं के साथ मिलकर मिहिरकुल को परास्त किया था।)
  • मालवा के शासक ‘यशोधर्मन’ के विषय में मंदसौर से प्राप्त दो स्तंभ-अभिलेखों से जानकारी मिलती है।
सम्पूर्ण प्राचीन इतिहास
1 प्राचीन इतिहास को जानने के स्त्रोत
2 प्रागैतिहासिक काल
2 प्राचीन भारतीय सिक्कों का संक्षिप्त इतिहास
2 प्राचीन काल के प्रमुख राजवंश संस्थापक एवं राजधानी
3 हडप्पा सभ्यता- सिन्धु घाटी की सभ्यता
4 वैदिक काल का इतिहास
5 जैन धर्म | तथ्य जो प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं !
6 बौद्ध धर्म का इतिहास
7 भागवत्, वैष्णव एवं शैव धर्म
8 ईरानी एवं यूनानी आक्रमण
9 महाजनपद काल 🔥🔥
10 मौर्य साम्राज्य 🔥
11 मौर्योत्तर काल 🔥
11 मूर्ति एवं मंदिर निर्माण की विभिन्न शैलियां
12 गुप्त काल | सम्पूर्ण जानकारी
13 हूण कौन थे ?
14 पुष्यभूति वंश | हर्षवर्धन
15 दक्षिण भारत का इतिहास
16 सीमावर्ती राजवंशों का इतिहास
17 राजपूतों के वंश
18 त्रिपक्षीय संघर्ष
19 प्राचीन काल का इतिहास [रिवीज़न नोट्स] Audio Included
20 प्राचीन इतिहास | Handwritten Notes Hindi PDF Download
21 (56 Facts PDF) प्राचीन इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण तथ्य
22 पोरस कौन था ?
23 क्या राखीगढ़ी था हड्प्पा सभ्यता का प्रारम्भिक स्थल ?
24 भारतीय इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न PDF Download (Descriptive)
25 NCERT History eBook in Hindi – Download PDF
26 7 ऐसे युद्ध जिन्होंने भारत का इतिहास बदल दिया
27 पाकिस्तान मांग रहा है “हड़प्पा सभ्यता वाली कांस्य नर्तकी की मूर्ति”
28 प्राचीन इतिहास – 101 तथ्यों में – QUICKEST REVISION SERIES
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Comment