हूण

हूण कौन थे ?

हूण लोग मंगोल प्रजाति के खानाबदोश जंगलियों के एक समूह थे। यह युद्धप्रिय एवं बर्बर जाति आरंभ में चीन के पड़ोस में निवास करती थी।
  • हूण लोग मंगोल प्रजाति के खानाबदोश जंगलियों के एक समूह थे। यह युद्धप्रिय एवं बर्बर जाति आरंभ में चीन के पड़ोस में निवास करती थी। 
  • छठी शताब्दी ई० के अंत में हूण एक विशाल साम्राज्य पर शासन करते थे जिसकी राजधानी बल्ख में थी।
  • फारस पर हूणों का आधिपत्य हो जाने से उनके लिये भारत का दरवाजा खुला। 
  • हूणों का भारत पर पहला आक्रमण गुप्त सम्राट कुमार गुप्त के काल में हुआ। 
  • कुमार गुप्त के पुत्र स्कंधगुप्त ने हूणों के आक्रमण को विफल कर दिया। 
  • स्कंधगुप्त के निधन के पश्चात् हूणों ने तोरमान के नतृत्व में आक्रमण किया एवं पश्चिमोत्तर भारत में अपनी सत्ता कायम की। 
  • तोरमान का उल्लेख राजतरंगिणी एवं अन्य भारतीय अभिलेखों में हुआ है, उसने संभवतः कश्मीर, पंजाब, राजस्थान, मालवा एवं उत्तर-प्रदेश के कुछ हिस्से पर शासन किया। 
  • तोरमाण के पुत्र मिहिर कुल के विषय में ग्वालियर से प्राप्त एक अभिलेख से जानकारी मिलती है। 
  • ह्वेनसांग के अनुसार मिहिर कुल की राजधानी शाकल (स्यालकोट) थी। 
  • मिहिरकुल बौद्ध धर्म के प्रति अत्यंत प्रतिक्रियाशील था, उसने खोज-खोजकर बौद्धों की हत्या की एवं उनके स्तूपों एवं विहारों को नष्ट किया। 
  • मिहिरकुल भारत में एक हुण शासक था। ये तोरामन का पुत्र था। तोरामन भारत में हुण शासन का संस्थापक था। मिहिरकुल ५१० ई. में गद्दी पर बैठा।
  • हूणों की बर्बरता ने उत्तरी भारत के शासकों में नवीन स्फूर्ति डाल दी थी।
  • मंदसोर (मध्यभारत) के यशोधर्मन्‌ के लेख से ज्ञात होता है कि मिहिरकुल ने इस भारतीय सम्राट, का आधिपत्य स्वीकार कर लिया था।
  • मिहिरकुल ने उसका पीछा किया पर वह स्वयं पकड़ा गया। उसका वध न कर, उसे मुक्त कर दिया गया। मिहिरकुल की अनुपस्थिति में उसके छोटे भाई ने राज्य पर अधिकार कर लिया अत: कश्मीर में मिहिरकुल ने शरण ली। यहाँ के शासक का वध कर वह सिंहासन पर बैठ गया।
  • मथुरा में बौद्व, जैन और हिन्दू धर्मो के मंदिर, स्तूप, संघाराम और चैत्य थे। इन धार्मिक संस्थानों में मूर्तियों और कला कृतियाँ और हस्तलिखित ग्रंथ थे। इन बहुमूल्य सांस्कृतिक भंडार को बर्बर हूणों ने नष्ट किया।
  • 530 ई० के कुछ पहले मालवा के शासक यशोधर्मन ने मिहिर कुल को पराजित कर दिया, इसके साथ ही भारत में हूणों का उपद्रव समाप्त हो गया। (मालवा के राजा यशोधर्मन और मगध के राजा बालादित्य ने हूणों के विरुद्ध एक संघ बनाया था और भारत के शेष राजाओं के साथ मिलकर मिहिरकुल को परास्त किया था।)
  • मालवा के शासक ‘यशोधर्मन’ के विषय में मंदसौर से प्राप्त दो स्तंभ-अभिलेखों से जानकारी मिलती है।
Total
1
Shares
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
Read More

कृषक आंदोलन- Audio Notes

Table of Contents Hide  कृषक आंदोलननील खेतीकृषक हडतालनील आयोग का गठनचम्पारण सत्याग्रह खेडा आंदोलनअन्य आंदोलन  कृषक आंदोलन सर्वप्रथम बंगाल…
Read More

जानिये कैसे हुआ ताजमहल का निर्माण -एक नदी के किनारे कैसे टिका है ताजमहल

Table of Contents Hide कैसे हुआ निर्माण ?समय तथा पैसा कितना लगा ?निर्माण सामग्रीकारीगर कैसे हुआ निर्माण ?…
Read More

1857 के विद्रोह के कारण [Audio Notes]

Table of Contents Hide राजनैतिक कारणआर्थिक कारणसामाजिक कारणधार्मिक कारणतत्कालिक कारणविद्रोह की असफलता के अन्य कारण विद्रोह के परिणामऑडियो नोट्स…
Read More

पुष्यभूति वंश | हर्षवर्धन

गुप्त वंश के पतन के पश्चात् पुष्यभूति ने थानेश्वर में एक नवीन राजवंश की स्थापना की जिसे 'पुष्यभूति वंश' कहा गया। हर्षवर्द्धन (इस राजवंश का सबसे प्रतापी शासक) के लेखों में उसके केवल चार पूर्वजों नरवर्द्धन, राज्यवर्द्धन, आदित्यवर्द्धन एवं प्रभाकरवर्द्धन का उल्लेख मिलता है।
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download