वैदिक सभ्यता में धर्म और ऋत से क्या तात्पर्य था ?

  • ऋग्वेद जिसका समय 1500 ई. पू. माना जाता है , धर्म शब्द विधि के अर्थ में प्रयुक्त हुआ है , इसका सम्बन्ध नैतिकता से है !
  • धर्म व्यक्ति के दायित्वों एवं स्वयं तथा दूसरों के प्रति व्यक्तिगत कर्तव्यों की संकल्पना था
  • ऋत का अर्थ विश्व की नैतिक एवं भौतिक व्यवस्था से माना गया है, ऋत से तात्पर्य सत्य तथा अविनाशी सत्ता से माना गया है |
  • ऋत मूलभूत नैतिक विशां था जो सृष्टि और उसमें अन्तर्निहित सारे तत्वों के क्रियाकलापों को संचालित करता था