dharm

भागवत्, वैष्णव एवं शैव धर्म से परीक्षाओं में पूछे जाने वाले तथ्य

Table of Contents

भागवत् धर्म 

  • 6ठीशताबदी ई०पू० में ब्राह्मणवाद एवं कर्मकांडीय जाटिलता के विरोध में इस धर्म का उदय हुआ, इस धर्म ने ब्राह्मणवाद में भक्ति एवं पूजा का समावेश करवाया 
  • प्रारंभमहाभारतके नारायण उपस्थान प्रसंग सेआरंभिक सिद्धांतइस धर्म के आरंभिक सिद्धांत गीता में मिलते हैंवासुदेवमहाकाव्य महाभारत भागवत् र्मको एक दिव्यधर्म के रूप में प्रतिष्ठापित करता है तथा विष्णु का उल्लेख वासुदेवके रूप में करता हैअवतारभागवत् धर्म में विष्णु के अवतारों पुरुषावतार, गुणावतार एवं लीलावतार का उल्लेख हैइस धर्म को वैष्णव धर्म की आरंभिक अवस्था माना जाता है। 

वैष्णव धर्म (VAISHNAVISM) 

  • वैष्णव धर्म का विकास छठी शताब्दी ई०पूमें हुआइस धर्म का विकास भागवत धर्म से हुआ है। 
  • वैष्णव धर्म की आरंभिक जानकारी छांदोग्य उपनिषद से मिलती है। 
  • मथुरा के कृष्ण (जिनके पिता वसुदेव यादव वंश के वष्णि या सतवत् शाखा के प्रमुख थे) ने वैष्णव धर्मकी स्थापना कीगुप्तकाल में वैष्णव धर्म लोकप्रियता की चरम सीमा पर पहुँचामेगास्थनीज रचित इंडिका से ज्ञात होता है कि मथुरा के लोग हेराकुलिज का विशेष आदर करते थे। 
  • हेराकुलिजकृष्ण का यूनानी नाम है। 
  • वैष्णव धर्म विष्णुपूजा पर आधारित है तथा अवतारवाद में विश्वास करता है। 
  • ब्राह्मण ग्रंथों में विष्णु के 39 अवतारों का उल्लेख है जिनमें 10अवतारों को वैष्णव धर्म में मान्यता दी गई है। 
  • मतस्य पुराण में विष्णु के 10 अवतारों का उल्लेख इस प्रकार हैमतस्य, वामन, परशुरामकच्छप, राम, कलि, वराह, कृष्ण, नृसिंह तथा बुद्ध। 
  • विदिशा से प्राप्त ‘नगरस्तंभ लेखसे ज्ञात होता है कि यूनानी राजदूत हेलियोडोरस कृष्ण का उपासक था
  • चंद्रगुप्तII विक्रमादित्य तथा अन्य गुप्त सम्राटों ने परमभागवत् जैसी उपाधियाँ धारण की
  • चंद्रगुप्तII तथा समुद्रगुप्त के सिक्कों पर विष्णु के वाहन गरुड़ का चित्र अंकित है। 
  • गरुड़ मुद्रा का उदाहरण गाजीपुर जिले के भितरी नामक स्थान से प्राप्त हुआ है। 
  • गुप्तकालीन मुद्राओं पर वैष्णव धर्म के अन्य प्रतीक शंख, चक्र, गदा, पद्म तथा लक्ष्मी भी प्राप्त हुए हैं
  • गंगधर अभिलेख में विष्णु को मधुसूदन कहा गया है
  • चंद्रगुप्त विक्रमादित्यII ने विष्णुपद पर्वत पर विष्णुध्वज की स्थापना कीस्कंद गुप्त के जूनागढ़ तथा बुद्धगुप्त के एरण अभिलेखों का आरंभ विष्णुस्तुति से होता है
  • गुप्तकाल में वैष्णव धर्म से संबंधित सबसे महत्वपूर्ण अवशेष देवगढ़ (झांसी) का दशावतार मंदिर हैदशावतार मंदिर में ही शेषनाग की शैय्या पर विश्राम करते हुए नारायण विष्णु को दिखाया गया है
  • एक अध्ययन के अनुसार गुप्तकाल में वैष्णव धर्म भारत के प्रत्येक क्षेत्र में फैला तथा दक्षिणपूर्व एशिया, हिंद चीन, कम्बोडिया, मलाया एवं इंडोनेशिया तक इसका प्रचार हुआ। 

शैव धर्म (SHAIVISM)

  • भगवान शिव से संबंधित धर्म को शैव धर्म एवं उनके अनुयाइयों को शैव कहा गयालिंग पूजा का पहला पुरातात्विक साक्ष्य सिंधु सभ्यता के अवशेषों से प्राप्त होता हैलिंग पूजा का पहला साहित्यिक साक्ष्य मतस्य पुराण से प्राप्त होता है। 
  • शिव के लिए ऋग्वेद में रुद्र शब्द का प्रयोग किया गया है। 
  • भव, भूपति, पशुपति एवं शर्व आदि शिव के नाम हैं जिनका उल्लेख अथर्ववेदमें किया गया है। 
  • लिंगोपासना का स्पष्ट उल्लेख महाभारत के अनुशासन पर्व में भी है तथा उत्तर भारत में इस धर्म को गुप्त सम्राटों एवं दक्षिण भारत में पल्लव शासकों से विशेष संरक्षण प्राप्त हुआ
  • पाशुपत शैवइस र्म के अनुयायी शिव के पशुपति रूप की उपासना करते थे पाशुपत संप्रदाय शैवों का सबसे प्राचीन संप्रदाय हैपाशुपत संप्रदाय की स्थापना लकुलीश ने की थी, जिसे भगवान शिव का ही एक अवतार माना गया हैपाशुपत संप्रदाय में भगवान शिव के 18 अवतारों को मान्यता दी गई है
  • पाशुपत संप्रदाय के अनुयायी पंचार्थिक कहलाते थेपाशुपत संप्रदाय का प्रमुख सिद्धांतग्रंथ पाशुवत सूत्र है। 
  • कापालिक शैवइस संप्रदाय के अनुयायी भैरव के उपासक थेभैरव को भगवान शंकर का अवतार माना जाता है
  • इस संप्रदाय का प्रमुख केंद्र श्री शैल नामक स्थान थाइस संप्रदाय में भैरव को सुरा एवं नरबलि का नैवेद्य चढ़ाने की परंपरा थी

कालामुख शैव

  • यह सम्प्रदाय भी कापालिक संप्रदायकी तरह आसुरी प्रवृत्ति का थाइस सम्प्रदाय के अनुयायियों को शिव पुराण में महाव्रतधर की संज्ञा दी गई है
  • इस सम्प्रदाय के अनुयायी नरकपाल में ही भोजन, जल एवं सुरापान करते थे
  • लिंगायत शैवयह संप्रदाय दक्षिण भारत में प्रचलित था इस सम्प्रदाय को वीर शैव भी कहा गया है
  • लिंगायत शैव अनुयायियों को जंगम भी कहा जाता था
  • लिंगायत शैके अनुयायी शिवलिंग की उपासना करते थे
  • इस संप्रदाय का प्रवर्तन अल्लभ प्रभु तथा उनके शिष्य बासव ने किया था
  • पेरिय पुराण के अनुसार दक्षिण भारत में नयनार संतों ने जिनकी संख्या 63 थी शैव स्रप्रदाय का प्रचार किया
  • खजुराहो स्थित कंदरिया महादेव का मंदिर जिसका निर्माण चंदेल राजाओं द्वारा किया गया था, इस धर्म का प्रमुख प्रतिष्ठान है
  • कैलाश नाथ मंदिर (एलोरा, निर्माताराष्ट्रकूट वंश), बृहदेश्वर मंदिर (तंजौर, निर्माताराजाराज1आदि शैव धर्म के अन्य प्रसिद्ध प्रतिष्ठान हैं। 

यदि दी गयी जानकारी में आप और कुछ जोड़ना चाहते हैं तो नीचे दिए गए नॉलेज बॉक्स में जाकर जानकारी लिख सकते हैं | 

सम्पूर्ण प्राचीन इतिहास
1 प्राचीन इतिहास को जानने के स्त्रोत
2 प्रागैतिहासिक काल
2 प्राचीन भारतीय सिक्कों का संक्षिप्त इतिहास
2 प्राचीन काल के प्रमुख राजवंश संस्थापक एवं राजधानी
3 हडप्पा सभ्यता- सिन्धु घाटी की सभ्यता
4 वैदिक काल का इतिहास
5 जैन धर्म | तथ्य जो प्रतियोगी परीक्षाओं में पूछे जाते हैं !
6 बौद्ध धर्म का इतिहास
7 भागवत्, वैष्णव एवं शैव धर्म
8 ईरानी एवं यूनानी आक्रमण
9 महाजनपद काल 🔥🔥
10 मौर्य साम्राज्य 🔥
11 मौर्योत्तर काल 🔥
11 मूर्ति एवं मंदिर निर्माण की विभिन्न शैलियां
12 गुप्त काल | सम्पूर्ण जानकारी
13 हूण कौन थे ?
14 पुष्यभूति वंश | हर्षवर्धन
15 दक्षिण भारत का इतिहास
16 सीमावर्ती राजवंशों का इतिहास
17 राजपूतों के वंश
18 त्रिपक्षीय संघर्ष
19 प्राचीन काल का इतिहास [रिवीज़न नोट्स] Audio Included
20 प्राचीन इतिहास | Handwritten Notes Hindi PDF Download
21 (56 Facts PDF) प्राचीन इतिहास के सबसे महत्वपूर्ण तथ्य
22 पोरस कौन था ?
23 क्या राखीगढ़ी था हड्प्पा सभ्यता का प्रारम्भिक स्थल ?
24 भारतीय इतिहास के कुछ महत्वपूर्ण प्रश्न PDF Download (Descriptive)
25 NCERT History eBook in Hindi – Download PDF
26 7 ऐसे युद्ध जिन्होंने भारत का इतिहास बदल दिया
27 पाकिस्तान मांग रहा है “हड़प्पा सभ्यता वाली कांस्य नर्तकी की मूर्ति”
28 प्राचीन इतिहास – 101 तथ्यों में – QUICKEST REVISION SERIES
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

2 thoughts on “भागवत्, वैष्णव एवं शैव धर्म से परीक्षाओं में पूछे जाने वाले तथ्य”

  1. जब भी धर्म की बात आती है तो हम सब उसे किसी ना किसी धार्मिक किताब से जोड़ कर देखने लगते हैं | कभी कभी ये भी कह देते हैं कि ये हमारे धर्म में नहीं है, या हमारा धर्म उस धर्म से बेहतर है, या फिर वो धर्म अच्छा नहीं है |

    अच्छा एक बात बताइये उस ऊपर वाले ने जिसने भी हमें बनाया इतना बड़ा शरीर बना दिया इतना बड़ा सिस्टम बना दिया, सब कुछ कर दिया और फिर उसके बाद किताबें लिखी? कि कैसे काम करना है या क्या करना है?, अगर वो इतना कुछ कर सकता है तो ये धर्म वाली किताबें हमारे दिमाग में डाल के क्यूँ नहीं भेजी, बाद में क्यूँ भेजी |
    अब एक दूसरी बात अलग अलग धर्म वाले लोग अलग अलग शक्ति में विश्वास करते हैं कि मुझे उसने बनाया है, ठीक है इसमें कोई बुराई नहीं है पर दूसरे को बुरा कहना ये कौन सा धर्म सिखाता है | सारे ही धर्म तो कहते हैं कि अच्छे इंसान बनो , निंदा से बचो, हिंसा मत करो, चोरी मत करो, झूठ मत बोलो |
    जब सारे ही धर्म अच्छा इंसान बनाते हैं तो फिर वो अलग कैसे हुए, ये तो उसी प्रकार है जैसे अलग अलग अध्यापक एक ही विषय पढ़ा रहे हों, तब आप ऐसा तो नहीं करते कि नहीं जी वो अध्यापक अच्छा नहीं है और उस बात पर लड़ने लगते हों |
    अब चलिये समझते हैं धर्म का वास्तविक अर्थ

    देखिये जिसने हमें बनाया है ना उसने वास्तव में ये हमारे अंदर ही डाल कर भेजा है ये बात और है कि हम इसे नजरंदाज कर देते हैं,

    कभी किसी वृद्ध को रास्ता पार कराया है ? जब वो आपको थैंक्स बोलता है तब आप क्या कहते हैं ? “ये तो मेरा धर्म था, या फर्ज था या कर्तव्य बनता है|” वो है धर्म
    किसी भी घायल जानवर या व्यक्ति को देखकर जो आपके मन में दया के भाव उठते हैं ना और उसे मदद करने का मन होता है ना वो है धर्म
    लोगों के प्रति जो भी व्यवहार आप करते हैं, जो भी कर्तव्य आपके हैं, भाई के प्रति, बहन के प्रति, माँ के प्रति, पिता के प्रति वो सब धर्म ही तो हैं |
    कुछ भी गलत करते वक्त जब आपका मन आपको बता देता है ना कि ये ठीक नहीं है वो है धर्म
    किसी दूसरे को खुश करके जो खुशी आपके मन में उत्पन्न होती है ना वो है धर्म
    धर्म को यदि दूसरे शब्द में कहूँ तो धर्म कर्तव्य है, जिनका एहसास आपको स्वयं ही हो जाता है |
    बस ये समझ जाइए कि धर्म आपके अंदर ही है बस आवश्यकता है तो उसे समझने की एक बार आप समझ गए तो ना फिर आप किसी के धर्म को हेय दृष्टि से देखेंगे और ना ही कभी इस बात पर लड़ेंगे, और ये दुनिया एक खूबसूरत जगह बन जाएगी
    ये पोस्ट किसी भी धर्म का अनादर करने के लिए नहीं लिखी गयी है, यदि फिर भी किसी की भावनाएं आहत होती हैं तो मैं उसके लिए क्षमा चाहता हूँ |

Leave a Comment