गुलाम वंश (कुतुबुद्दीन ऐबक) Kutubuddin Aibak History in Hindi

2064
6
Kutubuddin Aibak History in Hindi

गुलाम वंश (कुतुबुद्दीन ऐबक) Kutubuddin Aibak History in Hindi


गुलाम वंश की स्थापना कब और कैसे हुई


  • दिल्ली सल्तनत का पहला शासक कुतुबुद्दीन ऐबक था ऐबक का अर्थ होता है- चंद्रमुखी
  • 1206 ई0 में कुतुबुद्दीन ऐबक के द्वारा गुलामवंश की स्थापना हुई
  • कुतुबुद्दीन ऐबक का शासन काल सिर्फ चार वर्ष तक चला
  • कुतुबुद्दीन ऐबक मुहम्मद गौरी का गुलाम था

यहाँ बनाई ऐबक ने अपनी राजधानी


  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने मुहम्मद गौरी की मृत्यु के बाद स्वयं को लाहौर में एक स्वत्रंत शासक घोषित किया तथा उसने अपनी राजधानी “लाहौर” में बनायी
  • कुतुबुद्दीन ऐबक का राज्याभिषेक 24 जून 1206 ई0 में लाहौर में हुआ
  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने बाद में दिल्ली को अपनी राजधानी बनाया तथा दिल्ली सल्तनत की स्थापना की

कुतुबुद्दीन की उपाधियाँ


  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने सिंहासनारुढ होते समय ‘मलिक’ एवं ‘सिपहसालार’ की उपाधियाँ धारण की
  • कुतुबुद्दीन ऐबक को कुरान खाँ कहा जाता था क्योंकि वह कुरान का सुरीला पाठ करता था
  • ऐबक को अपनी उदारता व दानी प्रवृत्ति के कारण ‘लाखबख्श’ (लाखों का दानी) कहा गया
  • फरिश्ता के अनुसार कुतुबुद्दीन ऐबक के समय किसी भी दानशील व्यक्ति को ऐबक की उपाधि दी जाती थी

कुतुबुद्दीन ऐबक ने किसका निर्माण कराया


  • कुतुबुद्दीन ने दिल्ली में ‘कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद’ तथा अजमेर में ‘अढाई दिन का झोंपडा’ निर्मित करवाया
  • ऐबक ने दिल्ली में स्थित चौहान कालीन ‘किला-ए-रायपिथौर’ नामक दुर्ग के निकट एक शहर का निर्माण कराया जिसे दिल्ली के सात शहरों में पहला शहर कहा जाता है

इनकी याद में बनवायी कुतुबमीनार


  • कुतुबुद्दीन ऐबक ने दिल्ली के प्रसिध्द् चिश्ती संत “शेख कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी” की याद में कुतुबमीनार का निर्माण कराया

कुतुबुद्दीन के दरबार में कौन-कौन से विद्दान रहते थे


  • ऐबक के दरबार में हसन निजामी और फखरुद्दीन आदि विद्वानों का निवास था हसन निजामी की रचना “ताज-उल-मासिर” है
  • कुतुबुद्दीन ने इल्तुतमिश को 1197 ई0 के अन्हिलवाड के युध्द के दौरान खरीदा
  • 1210 ई0 में लाहौर में चौगाना(पोलो) खेलते समय घोडे से गिरने के कारण कुतुबुद्दीन की मृत्यु हो गयी
  • ऐबक को लाहौर में दफनाया गया तथा कुतुबुद्दीन ऐबक का मकबरा भी लाहौर में स्थित है
  • कुतुबुद्दीन ऐबक की मृत्यु के बाद उसके पुत्र ‘आरामशाह’ को शासक घोषित किया गया
  • आरामशाह को बंदी बनाकर इल्तुतमिश ने इसकी हत्या करा दी और स्वयं शासक बन गया

ऑडियो नोट्स सुनें

[media-downloader media_id=”1592"]

tags: ghulam vansh, kutubuddin aibak history in hindi, kutub minar history, kuwwat ul islam, adhai din ka jhopda, kila e raipithora, hasan nizami, kutubuddin aibak death
सितम्बर माह में पढिये, शेयर कीजिए और जीतिए 10 Amazon Gift Cards !!

6
नॉलेज बॉक्स में जानकारी जोड़ना शुरू करें !

avatar
6 Comment threads
0 Thread replies
0 Followers
 
Most reacted comment
Hottest comment thread
6 Comment authors
mahendraKainat parveen fatmaReet MalhotraRajnish singhRK Recent comment authors
  Subscribe  
newest oldest most voted
Notify of
Radheshyam meena
Guest
Radheshyam meena

Yh history mujhe bhut good lagi ok thanks

RK
Guest
RK

Thanks frnd it’s totally helful

Rajnish singh
Guest
Rajnish singh

This history is very good

Reet Malhotra
Guest
Reet Malhotra

Neat and clean Hindi..

Kainat parveen fatma
Guest
Kainat parveen fatma

Nice….I liked this notes …..I took lots of help with this notes…….Thanks👌👌👌👍👍👍

mahendra
Guest
mahendra

Nice notes