Press ESC to close

Or check our Popular Categories...

history

73   Articles
73
17 Min Read
234

SOCIO-RELIGIOUS MOVEMENTS IN MODERN INDIA 19वीं शताब्दी में भारत में यूरोपीय तर्ज पर हुए पुर्णजागरण (सुधार आंदोलनों) को प्रकृति के आधार पर दो वर्गों में बांटा जा सकता है – 2. पुनर्नवीकरण आंदोलन (Revivalist movements) – आर्य समाज, रामकृष्ण मिशन…

Continue Reading
25 Min Read
36

पुनर्जागरण पुनर्जागरण (फ्रांसीसी भाषा का शब्द है) जिसका अर्थ होता है- ‘फिर से जागना’। पुनर्जागरण का प्रारंभ इटली ( यूरोप) के फ्लोरेंस नगर से माना जाता है। यह एक बौद्धिक आंदोलन था। पुनर्जागरण के दौरान कला (Art) के क्षेत्र में…

Continue Reading
3 Min Read
112

कौन-सा इस्लामिक विवरण ऐतिहासिक दृष्टि से महत्वपूर्ण है? अबुरिहान मुहम्मद बिन अलबरूनी के ‘तहकीक-ए-हिन्द’ नामक ग्रन्थ में विवरण।  मध्यकालीन भारतीय इतिहास की जानकारी के कौन-से चार प्रमुख स्त्रोत हैं?- ऐतिहासिक अभिलेख, साहित्य, विवेशी विवरण, मुद्रा  मध्यकालीन भारत को कितने खण्डों…

Continue Reading
8 Min Read
108

प्राचीन भारतीय इतिहास के सन्दर्भ में स्रोतों को कितने भागों में विभक्त किया जा सकता है। – साहित्यिक स्रोत, पुरातात्विक स्त्रोत व विदेशी विवरण ऐतिहासिक दृष्टि पर आधारित पहला भारतीय ग्रन्थ कौन-सा है? कल्हणकृत ‘राजतरंगिणी’  भारतीय समाज मुख्य रूप से…

Continue Reading
2 Min Read
509

1914 ई० में मांडले जेल से रिहा होने के पश्चात बाल गंगाधर तिलक कांग्रेस के दोनों गुटों तथा कांग्रेस-मुस्लिम लीग समझौता कराने के प्रयास में जुट गये। कांग्रेस के दोनों घड़े पुनः एक हो गये तथा कांग्रेस एवं मुस्लिम लीग…

Continue Reading
4 Min Read
602

अखिल भारत हिन्दू महासभा भारत का एक राजनीतिक दल है। जिसकी स्थापना 9 अप्रैल, 1915 ई० को हुई। इसकी स्थापना पंडित मदन मोहन मालवीय ने हरिद्वार (प्रयाग) के कुंभ मेले में की। इस संस्था में बी०एस०मुंजे एवं लाला लाजपतराय जैसे…

Continue Reading
2 Min Read
185

1911 ई० में एक भव्य दरबार का आयोजन ‘दिल्ली’ में इंगलैंड के सम्राट जॉर्ज-V एवं महारानी मेरी के स्वागत के लिए आयोजित किया गया। इस दरबार का आयोजन तत्कालीन वायसराय लॉर्ड हार्डिज ने करवाया। इस दरबार में बंगाल-विभाजन का निर्णय…

Continue Reading
5 Min Read
446

तत्कालीन वायसराय ‘लॉर्ड मिंटो’ तथा इंडिया सचिव ‘मार्ले’ ने उदारवादियों को पुचकारने एवं हिंदू मुस्लिम संबंधों में कटुता उत्पन्न करने के उद्देश्य से इंडिया काउंसिल एक्ट-1909 पारित कराया। इस एक्ट के द्वारा प्रांतीय विधान मंडलों के आकार एवं शक्ति में…

Continue Reading
1 Min Read
307

कांग्रेस का बनारस अधिवेशन (Benaras Convention of Congress) 1905 ई० बनारस अधिवेशन में प्रिंस ऑफ वेल्स के 1906 ई० में संभावित भारत आगमन से संबंधित एक प्रस्ताव को उग्रवादियों के विरोध के बावजूद उदारवादियों ने पारित करा लिया। तिलक द्वारा…

Continue Reading
2 Min Read
677

काल कोठरी नामक घटना पश्चिम बंगाल की एक घटना है, जो स्वतंत्रता पूर्व काल की है। ब्लैक होल दुर्घटना युद्ध की आम प्रणाली के अनुसार फोर्ट विलियम के 146 बंदियों को 20 जून, 1756 की रात 18 फुट लंबे एवं 14 फुट 10…

Continue Reading
3 Min Read
104

उद्देश्य इस घोषणा पत्र को भारत में अंग्रेज़ी शिक्षा का मैग्ना कार्टा भी कहा जाता है। उनके इस आदेश पत्र के अनुसार लोक शिक्षा विभाग की स्थापना 1855 ईसवी में की गई। प्रस्ताव में पाश्चात्य शिक्षा के प्रसार को सरकार ने अपना…

Continue Reading
1 Min Read
317

(Cornwallis Code) 1793 ई० में लॉर्ड कार्नवालिस ने अपने न्यायिक सुधारों को इस नाम से प्रस्तुत किया। यह संहिता शक्तियों के पृथक्करण (Separation of Powers) के प्रसिद्ध सिद्धांत पर आधारित है। उस समय तक जिले में कलक्टरों के पास भू-राजस्व,…

Continue Reading
2 Min Read
143

‘दयानंद सरस्वती’ द्वारा 1882 ई० में ‘गोरक्षिणी सभाओं’ का गठन किया गया। तब से 1893 ई० तक पश्चिम भारत में अनेक दंगे हुए। कांग्रेस के कई सदस्य इन गोरक्षिणी सभाओं के सदस्य थे जिनको अनुशासित करने में कांग्रेस विफल रही…

Continue Reading
2 Min Read
138

संस्था/संगठन/आंदोलन  –  वर्ष   –  संस्थापक/प्रवर्तक रॉयल एशियाटिक सोसायटी  – 1784 ई. –  विलियम जोंस आत्मीय सभा – 1814 ई०  – राजा राम मोहन राय वेदांत कॉलेज  – 1825 – राजा राम मोहन राय यंग बंगाल आंदोलन  – 1826 ई० –…

Continue Reading
1 Min Read
81

1764ई०-हैक्टर मुनरो की एक बटालियन बक्सर के युद्ध में विद्रोह कर मीर कासिम से जा मिली। – 1806 ई०-सैनिकों ने अपने सामाजिक-धार्मिक रीति-निवाज में हस्तक्षेप के विरोध में वेलौर में विद्रोह किया। 1824ई०-47वीं पदाति टुकड़ी ने पर्याप्त भत्ते के बिना…

Continue Reading
Close Subscribe Card