लखनऊ समझौता (Lucknow Pact) 1916 ई०

  • 1914 ई० में मांडले जेल से रिहा होने के पश्चात बाल गंगाधर तिलक कांग्रेस के दोनों गुटों तथा कांग्रेस-मुस्लिम लीग समझौता कराने के प्रयास में जुट गये।
  • कांग्रेस के दोनों घड़े पुनः एक हो गये तथा कांग्रेस एवं मुस्लिम लीग में भी समझौता हुआ, इसे ही लखनऊ समझौता कहते हैं।
  • कांग्नेस ने पहली बार साम्प्रदायिक निर्वाचन को स्वीकार किया।
  • अब कांग्रेस एवं मुस्लिम लीग के बीच अगले. 3-4 वर्षों के लिए एकता स्थापित हो गई तथा दोनों पक्षों ने संयुक्त रूप से औपनिवेशिक स्वशासन की मांग की।
  • इस योजना के अंतर्गत कांग्रेस लीग समझौते से मुसलमानों के लिए अलग निर्वाचन क्षेत्रों तथा जिन प्रान्तों में वे अल्पसंख्यक थे, वहाँ पर उन्हें अनुपात से अधिक प्रतिनिधित्व देने की व्यवस्था की गई। इसी समझौते को ‘लखनऊ समझौता’ कहते हैं।
  • लखनऊ की बैठक में भारतीय राष्ट्रीय काँग्रेस के उदारवादी और अनुदारवादी गुटों का फिर से मेल हुआ। इस समझौते में भारत सरकार के ढांचे और हिन्दू तथा मुसलमान समुदायों के बीच सम्बन्धों के बारे में प्रावधान था।
  • मोहम्मद अली जिन्नाह और बाल गंगाधर तिलक इस समझौते के प्रमुख निर्माता थे।
  • बाल गंगाधर तिलक को देश लखनऊ समझौता और केसरी अखबार के लिए याद करता है।
Total
1
Shares
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
Read More

स्वतंत्र प्रांतीय राज्य (INDEPENDENT PROVINCIAL STATES)

Table of Contents Hide बंगाल जौनपुर मालवाकश्मीर गुजरात सिन्ध राजस्थान खान देश  बंगाल  ग्याशुद्दीन तुगलक ने बंगाल को तीन भागों लखनौती (उत्तर बंगाल), सोनारगाँव…
Read More

मराठा राज्य | शिवाजी के नेतृत्व में मराठों का उदय

Table of Contents Hide मराठों का उत्थानमराठा राज्य के संस्थापकशिवाजी का पालन पोषणशिवाजी का राजनैतिक जीवनबीजापुर की घटनासूरत…
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download