तृतीय आंग्ल मैसूर युध्द – Angl Mysore War – Audio Notes

Table of Contents

तृतीय आंग्ल मैसूर युध्द

  • तृतीय अंग्ल मैसूर युध्द 1790 से 1792 तक चला

त्रिदलीय संगठन 

  • गवर्नर जनरल लॉर्ड कॉर्नवालिस ने निजाम तथा मराठों के टीपू भावनाओं से प्रेरित हो कर 1790 ई. में टीपू के विरुध्द त्रिदलीय संगठन की रचना की
  • टीपू ने भी 1784 से 1785 में तुर्को का सहयोग हासिल करने के लिए कुतुस्तूनिया में एक राजदूत भेजा
  •  टीपू ने 1787 में एक द्वीप मण्डल फ्रांस भेजा त्रावणकोण के राजा ने डचों से कोचीन रियासत जिसे टीपू अपने अधिकार क्षेत्र में समझता था में स्थित जयगोट और क्रगालूर खरीदने का प्रयास किया

टीपू का त्रावणकोण पर आक्रमण

  • इसे अपने राज्य में हस्तक्षेप मानते हुये अप्रैल 1790में टीपू ने त्रावणकोण पर आक्रमण कर दिया
  • त्रावणकोण के राजा की ओर से लडते हुए कॉर्नवालिस ने मार्च 1791में बंगलौर जीत लिया और श्रीरंगपट्टनम तक पहुँच गया

श्रीरंगपट्टनम की संधि 

  • टीपू ने अंग्रेजों के साथ मार्च 1792 में श्रीरंगपट्टनम की संधि की यह संधि टीपू के लिए बहुत अपमानजनक संधि थी
  • इसके तहत टीपू को अपना आधा राज्य अंग्रेजों और उसके मित्रों को देना पडा
  • उपरोक्त संधि के तहत टीपू को जमानत के तौर पर अपने दो पुत्रों को भी कॉर्नवालिस को दे दिया

ऑडियो नोट्स सुनें

[media-downloader media_id=”1629″]

 

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp