डेनिस का भारत आगमन- Audio Notes

डेनिस का भारत आगमन

  •  ईस्ट इण्डिया कम्पनी के बाद 1616 ई. में डेनिस कम्पनी का भारत आगमन हुआ

डेनिसों की पहली फैक्ट्री

  • इसकी पहली फैक्ट्री तंजौर के त्रावन कौर में 1620 ई. में स्थापित हुई

अन्य फैक्ट्रियां

  •  इसके बाद बंगाल के श्रीरामपुर या सीरापुर में 1676 ई. में इनकी फैक्ट्री स्थापित हुयी
  •  यही सीरापुर डेनिस कम्पनी की गतिविधियों का प्रमुख केंद्र था

डेनिस की असफलता का कारण

  • डेनिस भारत में अपनी आर्थिक स्थिति सुदृढ नहीं कर पाये और अंतत: अपनी भारतीय बस्तियों को अंग्रेजो को 1845 ई. में इन्होंने बेच दिया
  •  इन्होंने व्यापार की तुलना में धर्म प्रचार सम्बधी कार्यो में अधिक ध्यान दिया यहीं इनकी असफलता का कारण बना

ऑडियो नोट्स सुनें

[media-downloader media_id=”1622″]

 

अतिरिक्त जानकारी

 

  • तमिलनाडु स्थित “ट्रांकेबार”(वर्तमान तरंगमबाडी) 1620 से 1845 तक डेनिश बस्ती हुआ करता था, ट्रांकेबार जो कि तमिल शब्द तरंगमबाडी से बना है जिसका अर्थ होता है, “एक स्थान जहॉं तरंगें गाती हैं” , ये स्थान 1845 में श्रीरामपुर(वर्तमान में पश्चिम बंगाल में स्थित) और कुछ अन्य स्थानों के साथ अंग्रेजों को बेच दिया गया
  • निकोबार द्वीप भी पहले डेनिश लोगों द्वारा ही बसाया गया था जो कि 1868 में अंग्रेजों को बेच दिया गया
  • आजादी के बाद सन 1957 में निवर्तमान प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरु द्वारा डेनमार्क यात्रा करके भारत और डेनमार्क के बीच दोस्ती की नींव डाली, जो अभी भी कायम है

#danish #India #modern-history

Total
0
Shares
1 comment
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
British Land Revenue Policy in Hindi
Read More

अंग्रेजो की भूराजस्व नीति- British Land Revenue Policy

Table of Contents Hide बिट्रिश लैंड रैवेन्यू पॉलिसी(British Land Revenue Policy in Hindi)रैयतवाडी व्यवस्थास्थाई बंदोबस्तमहालवाडी व्यवस्थारैयतवाडी व्यवस्थातीन कठिया…
delhi saltnat
Read More

दिल्ली सल्तनत – सभी वंश

Table of Contents Hide कुतुबुद्दीन ऐबकइल्तुतमिशरुकनुद्दीन फिरोजरजिया सुल्तानअलाउद्दीन शाहबलबनखिलजी वंश – जलालुद्दीन खिलजीअलाउद्दीन खिलजी कुतुबुद्दीन मुबारक खिलजीतुगलक वंश…
Read More

प्राचीन काल के प्रमुख राजवंश संस्थापक एवं राजधानी

राजवंश संस्थापक राजधानी हर्यक वंश बिंबिसार राजगृह, पाटलिपुत्र शिशुनागवंश शिशुनाग पाटिलपुत्र नंद वंश महापद्मनंद पाटिलपुत्र मौर्य वंश चंद्रगुप्त…
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download