अविश्वास एवं निंदा प्रस्ताव में अंतर (Differences in disbelief and condemnation motion)

Table of Contents

अविश्वास एवं निंदा प्रस्ताव में अंतर (Differences in disbelief and condemnation motion)

अविश्वास प्रस्ताव

निंदा प्रस्ताव

1लोकसभा में इसे स्वीकार करने का कारण बताना आवश्यक नहीं है |लोकसभा में इसे स्वीकारने के कारण बताना अनिवार्य है |
2यह सिर्फ पूरे मंत्रिपरिषद के विरुद्ध ही लाया जा सकता है |यह किसी एक मंत्री या मंत्रियों के समूह या पूरे मंत्रिपरिषद के विरुद्ध लाया जा सकता है |
3यह मंत्रिपरिषद में लोकसभा विश्वास के निर्धारण हेतु लाया जाता है |यह मंत्रिपरिषद की कुछ नीतियों या कार्यों के खिलाफ निंदा के लिए लाया जाता है |
4इसके लोकसभा में पारित हो जाने के बाद मंत्रिपरिषद को त्यागपत्र देना ही पड़ता है |यदि यह लोकसभा में पारित हो जाए तो मंत्रिपरिषद को त्यागपत्र देना आवश्यक नहीं है |

 

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Comment