GK

उतराखण्ड | सामान्य ज्ञान | सभी महत्वपूर्ण तथ्य

1149
0

उतराखण्ड | सामान्य ज्ञान | सभी महत्वपूर्ण तथ्य

  • स्थापना -9 नवम्बर 2000
  • क्षेत्रफल -53483 वर्ग किमी.
  • लिंगानुपात -963
  • भाषा -हिन्दी, अंग्रेजी, गढ़वाली, कुमाऊँनी
  • राजधानी -देहरादून
  • जनसंख्या -1091675
  • साक्षरता -79.63%
  • जनसंख्या घनत्व -189
  • जिलों की संख्या -13

इतिहास

  • उत्तराखण्ड पर कुषाणों, कुनिन्दों, कनिष्क, समुद्रगुप्त, कौरवों, पालों और ब्रिटिश शासकों ने राज्य किया ।
  • इसे देवभूमि भी कहा जाता है ।
  • प्रारम्भ में उत्तराखण्ड, उत्तर प्रदेश का भाग था । 9 नवम्बर,2000 को इसे भारत का 27 वाँ राज्य बनाया गया ।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • इसकी सीमाएँ उत्तर में चीन तथा पूर्व में नेपाल उत्तर-पश्चिम में हिमाचल प्रदेश व दक्षिण में उत्तर प्रदेश से मिलती हैं ।
  • राष्ट्रीय उद्यान – जिम कार्बेट राष्ट्रीय उद्यान
  • नदियाँ -अलकनन्दा, भागीरथी, धौली, विष्णु गंगा, मन्दाकिनी, गंगा, यमुना, रामगंगा, कोसी, गोमती, टोंस इत्यादि|
  • हिमशिखर -गंगोत्री, बन्दरपूँछ, दूनगिरि, केदारनाथ, चौखम्बा, कामेट, सतोपन्थ, नीलकण्ठ, गोरी पर्वत, हाथी पर्वत. नन्दाधुरी, नन्दाकोर, देव वन इत्यादि|
  • झीलें -नैनीताल, भीमताल, सातताल, नौकुचिया ताल, सूखा ताल इत्यादि|
  • त्यौहार -उत्तरायणी मेला (बागेश्वर), देवीधुरा मेला (चम्पावत), पूर्णागिरि मेला (चम्पावत), विशु मेला (जौनसार बाबर), नन्दादेवी मेला (अल्मोड़ा), हरेला (कुमाऊँ), गौचर मेला (चमौली), गंगा दशहरा, बैशाखी (उत्तरकाशी), माघ मेला (उत्तरकाशी), पीरान-कलियार (रुड़की), कुम्भ मेला (बारहवें वर्ष),अर्द्धकुम्भ (छठे वर्ष), नन्दादेवी राजा जाट यात्रा (बारहवें वर्ष)|
  • उद्योग धन्धे -इण्डियन ड्रग एण्ड फार्मास्युटिकल लिमिटेड (ऋषिकेश), बीएचईएल (हरिद्वार), बीईएल (कोटद्वार), एचएमटी (रानीबाग)|
  • लोकनृत्य -गढ़वाल के लोकनृत्य लांगवीर, बारदा नाती, पाण्डवा, सोयिपा, कुमाऊँ के लोकनृत्य रमोला, जगरास, झोरा, छीलिया, थाली जद्‌दा|
  • पर्यटन स्थल -गंगोत्री, यमुनोत्री, बद्रीनाथ, केदारनाथ, हरिद्वार, ऋषिकेश, हेमकुण्ड साहिब, नानकमत्ता, कैलाश मानसरोवर, फूलों की घाटी, औली, मसूरी, देहरादून, नैनीताल, रानीखेत, लैंसडाउन, कौसानी इत्यादि|
  • जनजातियाँ – जौनसारी, थारू, बुक्सा, भूटिया, राजी इत्यादि|
  • संस्थान -यन्त्र अनुसंधान एवं विकास संस्थान (देहरादून), इण्डियन इंस्टीट्‌यूट ऑफ टेक्नोलोजी (रुड़की),विवेकानन्द पर्वतीय कृषि अनुसंधानशाला (अल्मोड़ा), भारतीय वन अनुसंधान संस्थान (देहरादून)


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here