कहां है सारंगैसो सागर तथा इसकी विशेषता क्या है?

सारंगैसो सागर

  • उत्तरी अटलांटिक महासागर में 20° से 40° उत्तरी अक्षांशों तथा 35° से 75° पश्चिमी देशान्तरों के मध्य चारों ओर प्रवाहित होने वाली जलधाराओं के मध्य स्थित शान्त एवं स्थिर जल के क्षेत्र को सारगैसो सागर के नाम से जाना जाता है ।
  • यह गल्फ स्ट्रीम, कनारी तथा उत्तरी विषुवतीय धाराओं के चक्र बीच स्थित शांत जल क्षेत्र है ।
  • सारंगैसो सागर की एक अन्य खासियत यह है कि यहां जमीन नहीं होने की बावजूद यहां बड़ी मात्रा में सारंगैसो घास पैदा होती है।
  • इस सागर की सतह पर घास को तैरते हुए देखा जा सकता है।
  • घास को पुर्तगाली भाषा में सारगैसम कहते हैं, जिसके नाम पर ही इसका नाम सारगैसो सागर रखा गया है।
  • यहां के जलीय जीवों के लिए यह एक खाद्य संपदा है।
  • इस घास के सहारे ही कछुए के बच्चे तैरते हुए बड़ी मछलियों से खुद की रक्षा करते हैं।
  • सारगासो घास कई तरह की मछलियों और केकड़ों का भी घऱ है।
  • इस समुद्र के पानी की खासियत यह है कि अटलांटिक सागर में भीषण ठंड रहती है, इसके बावजूद सारगासो सागर का पानी गर्म रहता है।
  • अटलांटिक महासागर में समाया हुआ सारगासो सागर दुनिया का एक मात्र ऐसा सागर है, जिसका कोई किनारा नहीं है।
  • भौगोलिक मानचित्र के अनुसार इस सागर का अथाह जल भंडार कहीं से भी जमीन को नहीं छूता है।
  • यह सागर रहस्यमयी बरमूडा ट्रायंगल के बिल्कुल नजदीक है।
  • बरमूडा ट्रायंगल वह त्रिकोणीय समुद्री क्षेत्र है, जहां से जहाज, हवाई जहाज आदि गायब हो जाते हैं और ये किस तरह से लापता हो जाते हैं यह आज भी एक रहस्य बना हुआ है।