भारत में क्रांतिकारी गतिविधियां | एक सवाल सदैव पूछा जाता है !

  • बंगाल की अनुशीलन समिति पहली क्रांतिकारी संस्था थी। इसकी स्थापना बारीन्द्र कुमार घोष ने 1907 ई० में की थी !
  • भवानी मंदिर नामक पुस्तक में क्रांतिकारी संस्थाओं की स्थापना से संबंधित जानकारी प्राप्त होती है।
  • क्रांतिकारियों ने वर्तमान रणनीति (पुस्तक), युगांतर तथा संध्या (पत्रिकाएँ) के माध्यम से सशस्त्र विद्रोह का प्रचार किया।
  • खुदीराम बोस एवं प्रफुल्ल चाकी ने 30 अप्रैल, 1908 को मुजफ्फरपुर में प्रेसीडेंसी मजिस्ट्रेट किंग्सफोर्ड की गाड़ी से मिलती-जुलती गाड़ी पर बम फेंका। दोनों को मृत्युदंड दिया गया।
  • आतंकवादी घटनाओं को रोकने के उद्देश्य से सरकार ने विस्फोटक पदार्थ अधिनियम-1908 एवं समाचार-पत्र (अपराध-प्रेरक) अधिनियम-1908 पारित किया।
  • महाराष्ट्र में क्रांतिकारी आंदोलन उभारने का श्रेय तिलक के पत्र केसरी को जाता है।
  • 1893 ई० में दामोदर चापेकर एवं बालकृण चापेकर (दोनों भाई थे) ने हिंदू धर्म संरक्षिणी सभा का गठन किया।
  • 1895 ई० में पूना के प्लेग कमिश्नर राण्ड एवं आयरेस्ट की हत्या कर दी गई।
  • 1906 ई० में विनायक दामोदर सावरकर ने लंदन में एक संगठन अभिनव भारत की स्थापना की।
  • श्यामजी कृष्ण वर्मा ने लंदन से तथा मैडम कामा ने फ्रांस से क्रांतिकारियों के लिए शस्त्र भिजवाने के इंतजाम किये।
  • 23 दिसंबर, 1912 ई० को दिल्ली में तत्कालीन वायसराय लॉर्ड हार्डिंज पर रास बिहारी बोस के नेतृत्व में क्रांतिकारियों ने बम फेंका।
  • लॉर्ड हार्डिज पर बम फेंकने के अपराध में जो मुकदमा चला उसे दिल्ली षड्यंत्र केस कहा गया।
  • विनायक दामोदर सावरकर ने द इंडियन वार ऑफ इंडिपेंडेंस नामक पुस्तक लिखी जिसको अंग्रेजी सरकार ने प्रकाशन से पूर्व ही जब्त कर लिया।
  • वी०डी० सावरकर द्वारा लिखित पुस्तक द इंडियन वार ऑफ इंडिपेंडेंस को अंग्रेजी सरकार ने वितरित होने से पूर्व ही जब्त कर लिया।
  • सावरकर ने 1901 ई० में महारानी विक्टोरिया के निधन पर शोक सभा करने का विरोध किया।
  • सावरकर ने श्यामजी कृष्ण वर्मा द्वारा लंदन में स्थापित इंडिया हाउस में 10 मई 1907 को 1857 ई० की क्रांति का वर्षगांठ बनाने का निश्चय किया तथा 1857 ई० के विद्रोह को भारत का प्रथम स्वतंत्रता संग्राम बताया।
  • अंग्रेजी सरकार ने वी० डी० सावरकर को कालापानी की सजा देकर अंडमान भेज दिया।
  • 21 दिसंबर, 1909 ई० को अभिनव भारत संगठन के अनंत कन्हेरे ने गणेश सावरकर पर राजद्रोह लगाये जाने के विरोध में जैक्सन की हत्या कर दी। कन्हेरे पर नासिक षड्यंत्र केस चलाया गया।
  • 1 जुलाई 1909 को अमृतसर से लंदन गये एक इंजीनियरिंग के विद्यार्थी मदन लाल ढींगरा ने भारतीय मामलों के तत्कालीन सेक्रेट्री ऑफ स्टेट कर्जन वायली की गोली मारकर हत्या कर दी।
  • लाला हरदयाल (1884-1938 ई०) ने अमेरिका में 1913 ई० में एक क्रांतिकारी संगठन गदर पार्टी की स्थापना की तथा गदर आंदोलन चलाया जो पंजाब में काफी लोकप्रिय हुआ। सोहन सिंह भाखना को इस पार्टी का प्रथम अध्यक्ष बनाया गया।
  • 1914 ई० में कोमागातामारु नामक एक जहाज कनाडा से गदरवादियों को लेकर बज-बज बंदरगाह पर पहुँचा जिसपर सरकारी हमला हुआ। 18 व्यक्ति मारे गये एवं 25 घायल हुए। इस घटना से क्रांति की भावना और भड़की।
  • 1926 ई० में भगत सिंह ने छबीलदास और यशपाल आदि नवयुवकों के साथ नौजवान सभा (पंजाब) की स्थापना की।
  • भगत सिंह ने चंद्रशेखर आजाद, शचीन्द्र नाथ सान्याल, जोगेश चंद्र चटर्जी, एवं राम प्रसाद बिस्मिल के साथ मिलकर 1928 ई० में हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएसन की स्थापना की।
  • 9 अगस्त, 1925 ई० को सरकारी खजाना लेकर सहारनपुर से लखनऊ जा रही एक रेलगाड़ी को काकोरी नामक स्थान पर लूट लिया गया।
  • काकोरी षड्यंत्र के नाम से प्रसिद्ध इस घटना में दिसंबर, 1927 ई० को बिस्मिल, लाहिरी, रोशन सिंह एवं अशफाकउल्ला को फांसी एवं शचीन्द्र नाथ सान्याल को आजीवन कारावास की सजा हुई।
  • हिंदुस्तान सोशलिस्ट रिपब्लिकन एसोसिएसन ने लाला लाजपत राय’ की मौत को राष्ट्रीय अपमान मानते हुए 17 दिसंबर, 1928 ई० को ब्रिटिश पुलिस अधिकारी सांडर्स की हत्या कर दी।
  • 8 अप्रैल, 1929 को भगत सिंह एवं बटुकेश्वर दत्त ने केन्द्रीय एसेम्बली में बम फेंका।
  • 23 मार्च, 1931 को भगत सिंह, राज गुरु तथा सुखदेव को फांसी दी गई।
  • 27 फरवरी, 1931 को चंद्रशेखर आजाद की एक ब्रिटिश अधिकारी नॉट बाबर के साथ इलाहाबाद के अल्फ्रेड पार्क में हुई मुठभेड़ में मृत्यु हो गई।
  • 18 अप्रैल, 1930 को क्रांतिकारियों ने सूर्य सेन के नेतृत्व में चटगाँव शस्त्रागार को लूट लिया। सूर्य सेन को फांसी की सजा दी गई।