कांग्रेस का कलकत्ता अधिवेशन

Calcutta Convention of Congress – 1906 ई०

कुछ सबसे महत्वपूर्ण तथ्य जो हर बार परीक्षाओं में पूछे जाते हैं –

  • कांग्रेस का कलकत्ता अधिवेशन 1906 ई. में कलकत्ता में सम्पन्न हुआ।
  • उग्रवादी बाल गंगाधर तिलक को अध्यक्ष बनाना चाहते थे जबकि उदारवादियों ने दादा भाई नौरोजी को अध्यक्ष बना दिया।
  • इस अधिवेशन की प्रमुख बात ये थी कि इस अधिवेशन में नरम दल तथा गरम दल के बीच जो मतभेद थे, वह उभरकर सामने आ गये।
  • दादा भाई नौरोजी ने अपने अध्यक्षीय भाषण में पहली बार कांग्रेस के मंच से कहा कि “स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है” तथा इसे हासिल करना ही कांग्रेस का लक्ष्य है।
  • यद्यपि यहाँ ‘स्वराज‘ शब्द से उनका तात्पर्य ऑस्ट्रेलिया एवं कनाडा के ब्रिटिश उपनिवेशों की तर्ज पर ब्रिटिश प्रभुसत्ता के अंदर ‘स्वशासन’ (Dominion Status) से था।
  • इस स्थिति में उदारवादीयों ने दादाभाई नौरोजी को इंग्लैण्ड से वापस बुला कर कांग्रेस के ‘कलकत्ता अधिवेशन‘ का अध्यक्ष बना दिया।
  • उग्रवादी दल इस अधिवेशन में चार प्रस्तावों को पास करवाने में सफल रहा- स्वराज्य की प्राप्ति राष्ट्रीय शिक्षा को अपनाना स्वदेशी आन्दोलन को प्रोत्साहन देना विदेशी वस्त्रों का बहिष्कार करना
Total
1
Shares
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
Read More

स्वतंत्र प्रांतीय राज्य (INDEPENDENT PROVINCIAL STATES)

Table of Contents Hide बंगाल जौनपुर मालवाकश्मीर गुजरात सिन्ध राजस्थान खान देश  बंगाल  ग्याशुद्दीन तुगलक ने बंगाल को तीन भागों लखनौती (उत्तर बंगाल), सोनारगाँव…
Read More

ईरानी एवं यूनानी आक्रमण | क्यों और कैसे | परिणाम और प्रभाव

पश्चिमोत्तर भारत में ईरानी आक्रमण के समय भारत में विकेन्द्रीकरण एवं राजनीतिक अस्थिरता व्याप्त थी। राज्यों में परस्पर…
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download