एम विश्वेश्वरैया का जीवन परिचय

जीवन परिचय

  • मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया का जन्म वर्ष 1861 में कर्नाटक के चिक्कबल्लापुरा जिले के मुददेहहल्ली गांव में एक तेलुगु ब्राह्मण परिवार में हुआ था
  • उन्होंने सेंट्रल कॉलेज, बैंगलोर से कला स्नातक की डिग्री के साथ स्नातक की पढ़ाई पूरी की
  • उन्होंने पुणे में विज्ञान कॉलेज से सिविल इंजीनियरिंग की पढ़ाई की तथा वर्ष 1881 में सिविल इंजीनियरिंग में लाइसेंस प्राप्त किया ।
  • वह भारत के एक अग्रणी इंजीनियर थे जिनकी प्रतिभा जल संसाधनों के दोहन और देश भर में बाँधों के निर्माण और समेकन में परिलक्षित होती थी।
  •  भारत सरकार ने उनका काम की लोकप्रियता को देखते हुए 1906-07 में जल आपूर्ति और जल निकासी व्यवस्था का अध्ययन करने के लिये अदन (यमन) भेजा।
  • अदन (यमन) में अपने अध्ययन के आधार पर एक परियोजना तैयार की जिसे अदन में लागू किया गया।
  • सर एम वी ने वर्ष 1909 में मैसूर राज्य के मुख्य अभियंता और 1912 में मैसूर रियासत के दीवान के पद पर सात वर्षों तक कार्य किया।
  • दीवान के रूप में उन्होंने राज्य के समग्र विकास में बहुत बड़ा योगदान दिया।
  • वर्ष 1915 में जनता की भलाई में उनके योगदान के लिये किंग जॉर्ज पंचम द्वारा उन्हें ब्रिटिश भारतीय साम्राज्य के नाइट कमांडर के रूप में नाइट की उपाधि दी गई थी।
  • वह एक इंजीनियर थे जिन्होंने वर्ष 1934 में भारतीय अर्थव्यवस्था की योजना बनाई थी।
  • लंदन इंस्टीट्यूशन ऑफ सिविल इंजीनियर्स ने उन्हें 50 वर्षों के लिये मानद सदस्यता से सम्मानित किया गया था।
  • भारत सरकार ने उन्हें 1955 में अपने सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से सम्मानित किया था।
  • वर्ष 1962 में बंगलूरू, कर्नाटक में उनका निधन हो गया।
  • उनके द्वारा लिखित पुस्तकें रिकंस्ट्रक्टिंग इंडिया’ और प्लान्ड इकॉनमी फॉर इंडिया है।

योगदान

  • अपने व्यावसायिक जीवन के दौरान मैसूर, हैदराबाद, ओडिशा और महाराष्ट्र में कई उल्लेखनीय निर्माण परियोजनाओं का हिस्सा बनकर उन्होंने समाज के प्रति बहुत योगदान दिया है।
  • वह मैसूर में कृष्णा राजा सागर बाँध के निर्माण के लिये मुख्य कार्यकारी अभियंता थे।इससे बंजर भूमि को खेती के लिये उपजाऊ भूमि में परिवर्तित करने में सहायता मिली।
  • वर्ष 1903 में पुणे में खड़कवासला जलाशय में स्वचालित वियर फ्लडगेट की एक प्रणाली को डिज़ाइन और पेटेंट कराने में उनका महत्त्वपूर्ण योगदान था।
  • वर्ष 1908 में हैदराबाद में आई विनाशकारी बाढ़ (मुसी नदी) के बाद उन्होंने भविष्य में शहर को बाढ़ से बचाने के लिये एक जल निकासी व्यवस्था तैयार की।
  • उन्होंने ही तिरुमाला और तिरुपति के बीच सड़क निर्माण की योजना तैयार की थी।
  • विशाखापत्तनम बंदरगाह को समुद्री कटाव से बचाने के लिये उन्होंने एक प्रणाली विकसित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • मैसूर राज्य में कई नई रेलवे लाइनों को भी उन्होंने चालू किया।
  • उन्होंने 1895 में सुक्कुर नगर पालिका के लिये वाटरवर्क्स का डिज़ाइन और संचालन किया था।
  • उन्हें बाँधों में अवरोधक प्रणाली के विकास का भी श्रेय दिया जाता है जो बाँधों में पानी के व्यर्थ प्रवाह को रोकता है।
  • उन्होंने मैसूर साबुन कारखाना, मैसूर आयरन एंड स्टील वर्क्स (भद्रावती), श्री जयचामाराजेंद्र पॉलिटेक्निक संस्थान, बैंगलोर (बंगलूरू) कृषि विश्वविद्यालय और स्टेट बैंक ऑफ मैसूर की स्थापना की ज़िम्मेदारी भी निभाई।

राष्ट्रीय अभियंता दिवस (National Engineer’s Day)

  • प्रत्येक वर्ष 15 सितंबर को भारत महान इंजीनियर मोक्षगुंडम विश्वेश्वरैया की उपलब्धियों को मान्यता देने और उनका सम्मान करने के लिये राष्ट्रीय अभियंता दिवस (National Engineer’s Day) मनाता है।
  • भारत के साथ-साथ श्रीलंका और तंजानिया में भी यह दिवस मनाया जाता है।
  • यह दिन अभियंताओं के महान कार्य को याद करने और उनमें सुधार तथा नवाचार के लिये प्रोत्साहित करने हेतु मनाया जाता है।
  • यह यूनेस्को द्वारा प्रतिवर्ष 4 मार्च को मनाए जाने वाले विश्व इंजीनियर दिवस से भिन्न है।