जवाहर लाल नेहरू का संक्षिप्त परिचय

संक्षिप्त परिचय

  • जवाहर लाल नेहरू का जन्म 14 नवंबर, 1889 को इलाहाबाद(उत्तर प्रदेश) में हुआ था।
  • उनके पिता का नाम मोतीलाल नेहरू और मां का नाम स्वरूप रानी था।
  • उनके पिता,  मोतीलाल नेहरू(1861–1931), एक धनी बैरिस्टर जो कश्मीरी पंडित थे।
  • स्वरूप रानी ,मोतीलाल की दूसरी पत्नी थी व पहली पत्नी की प्रसव के दौरान मृत्यु हो गई थी। 
  • जवाहरलाल तीन बच्चों में से सबसे बड़े थे, जिनमें बाकी दो लड़कियां थी।
  • जवाहर लाल नेहरू की बड़ी बहन विजया लक्ष्मी, बाद में संयुक्त राष्ट्र महासभा की पहली महिला अध्यक्ष बनी।
  • जवाहर लाल नेहरू की सबसे छोटी बहन कृष्णा हठीसिंग एक उल्लेखनीय लेखिका बनी और उन्होंने अपने परिवार-जनों से संबंधित कई पुस्तकें लिखीं।
  • जवाहरलाल नेहरू ने दुनिया के कुछ बेहतरीन स्कूलों और विश्वविद्यालयों में शिक्षा प्राप्त की थी।
  • उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा हैरो से और कॉलेज की शिक्षा ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज (लंदन) से पूरी की थी।
  • उन्होंने अपनी लॉ की डिग्रीकैम्ब्रिज विश्वविद्यालय से पूरी की।
  • जवाहरलाल नेहरू 1912 में भारत लौटे और वकालत शुरू की।
  • 1916 में जवाहरलाल नेहरू की शादी कमला नेहरू से हुई।
  • 1917 में जवाहर लाल नेहरू होम रूल लीग में शामिल हो गए। राजनीति में उनकी असली दीक्षा दो साल बाद 1919 में हुई जब वे महात्मा गांधी के संपर्क में आए।
  • नेहरू ने 1920 में उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ ज़िले में पहले किसान मार्च का आयोजन किया।
  • 1923 में वह अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के महासचिव चुने गए।
  • नेहरू 1929 में कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष चुने गए।
  • वर्ष 1929 उन्होंने लाहौर में कांग्रेस के ऐतिहासिक सत्र की अध्यक्षता की, जिसमें भारत का राजनीतिक लक्ष्य ‘पूर्ण स्वतंत्रता’ निर्धारित किया गया।
  • नेहरू ने कांग्रेस के लखनऊ अधिवेशन 1936 और फैजपुर अधिवेशन 1937 की अध्यक्षता भी की थी।
  • नेहरू व्यक्तिगत सत्याग्रह के द्वितीय अध्यक्ष चुने गए।
  • 7 अगस्त 1942 को मुंबई में हुई अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की बैठक में पंडित नेहरू ने ऐतिहासिक संकल्प ‘भारत छोड़ो’ को कार्यान्वित करने का लक्ष्य निर्धारित किया।
  • इसके बाद उन्हें 8 अगस्त 1942 को उन्हें अन्य नेताओं के साथ गिरफ्तार कर अहमदनगर किले में बंद कर दिया गया।
  • जवाहरलाल नेहरू ने आजादी के लिए पूर्ण स्वराज का नारा दिया।
  • 1947 में वे स्वतंत्र भारत के पहले प्रधानमन्त्री बने।
  • नेहरु संविधान सभा की विभिन्न समितियों संघ शक्ति समिति,संघीय संविधान समिति,राज्य के लिए समिति के अध्यक्ष भी रहे हैं
  • उनकी मौत 27 मई 1964 (उम्र 74) नयी दिल्ली में हुई थी
  •  देश भर में 14 नवंबर को पंडित जवाहर लाल नेहरू के जन्मदिन को बाल दिवस के रूम में मनाया जाता है
  • आराम हराम है का नारा जवाहरलाल नेहरू ने दिया था
  • उनकी आत्मकथा मेरी कहानी ( ऐन ऑटो बायोग्राफी) हैं।
  • 1955 में नेहरु जी को देश का सर्वोच्च सम्मान ‘भारत-रत्न’ दिया गया।
  • नेहरू एक अच्छे नेता और वक्ता के साथ ही एक अच्छे लेखक भी थे।
  • उन्होंने ‘द डिस्कवरी ऑफ इंडिया’, ‘ग्लिमप्स ऑफ वर्ल्ड हिस्टरी’ ,बायोग्राफी ‘टुवर्ड फ्रीडम’,राजनीति से दूरऔर इतिहास के महापुरुष लिखी।