क्या है विदेशी मुद्रा भंडार तथा SDR?

विदेशी मुद्रा भंडार (Foreign Exchange Reserves)

  • किसी देश/अर्थव्यवस्था के पास उपलब्ध कुल विदेशी मुद्रा उसकी विदेशी मुद्रा संपत्ति/भंडार कहलाती है। 
  • किसी भी देश के विदेशी मुद्रा भंडार में निम्नलिखित 4 तत्त्व शामिल होते हैं-
  1. विदेशी परिसंपत्तियाँ (विदेशी कंपनियों के शेयर, डिबेंचर, बाॅण्ड इत्यादि विदेशी मुद्रा में)
  2. स्वर्ण भंडार
  3. IMF के पास रिज़र्व कोष (रिज़र्व ट्रैंच)
  4. विशेष आहरण अधिकार (SDR)

विशेष आहरण अधिकार(Special Drawing Rights-SDR)

  • विशेष आहरण अधिकार, अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष(IMF) की मुद्रा है।
  • IMF ने इसे वर्ष 1969 में अपनाने का निर्णय लिया और वर्ष 1970 से मुद्रा के रूप में अपनाया।
  • व्यवहार में SDR के सिक्के या नोट चलन में नहीं होते, IMF इसे केवल अपने हिसाब-किताब के बही खाते में रखता है।
  • SDR को लेखा मुद्रा, पेपर मुद्रा या कृत्रिम मुद्रा भी कहते हैं।
  • SDR का मूल्य, बास्केट ऑफ करेंसी में शामिल मुद्राओं के औसत भार के आधार पर किया जाता है।
  • वर्तमान में बास्केट ऑफ करेंसी में 5 मुद्राएँ शामिल हैं-
  1. अमेरिकी डॉलर 
  2. जापानी येन 
  3. यूरो
  4. ब्रिटिश पाउंड स्टर्लिंग 
  5. चीनी रेमिंबी (RMB)