विटामिनों के रासायनिक नाम व स्त्रोत व उनकी कमी से होने वाले रोग

Table of Contents

विटामिनों के रासायनिक नाम व स्त्रोत व उनकी कमी से होने वाले रोग

विटामिन का नाम रासायनिक नाम स्त्रोत विटामिन की कमी से उत्तपन्न होने वाले रोग व लक्षण
विटामिन ‘ए’ रेटिनॉल अंडा, पनीर, हरी सब्जी, दूध, मछली का तेल रतौंधी, त्वचा का शुष्क पड़ जाना
विटामिन ‘बी’1 थाइमीन अनाज के छिलके, दाल, तिल, सब्जियां   बेरी-बेरी, भूख न लगना
विटामिन ‘बी’ 2 राइबोफ्लेविन दूध, हरी सब्जियां, खमीर, मांस जीभ में सूजन,मुख की त्वचा और होठों का फटना तथा आंखों का लाल हो जाना
विटामिन ‘बी’3 पेंटोंथेनीक अम्ल मांस, हरी सब्जी, दूध, अंडे,गन्ना, टमाटर त्वचा का सूख जाना, डायरिया, मानसिक असंतुलन
विटामिन ‘बी’ 5 नियासिन आलू टमाटर मूंगफली, पत्ति वाली सब्जियां बाल सफेद होना, मंदबुद्धि
विटामिन ‘बी’6 पायरीडॉक्सिन दूध, कलेजी, हरी सब्जियां एनीमिया, वृद्धि कम होना, चिड़चिड़ापन,  त्वचा संबंधी समस्याएं, शिशु के शरीर में ऐंठन
विटामिन ‘बी’ 7 निकोटिनिक अम्ल दूध, मांस, यकृत, अंडा पैलाग्रा
विटामिन ‘बी’12 कोवालमिन यकृत, मांस, दूध सांघातिक अरक्तता
विटामिन ‘सी’ एस्कार्बिक अम्ल टमाटर, संतरा, खट्टे पदार्थ, मिर्च,  अंकुरित अनाज, आलू स्कर्वी रोग, हड्डियों का कम विकास, घावों का देर से भरना, मसूड़ों से खून बहना
विटामिन ‘डी’ कैल्सिफेरॉल मक्खन, मांस-मछली, यकृत, अंडे की जर्दी, सूर्य का प्रकाश रिकेट्स, अस्थियों की कोमलता तथा टेढ़ापन, दांतों का विकास न होना, दंतक्षय
विटामिन ‘ई’ टेकोफेरॉल दूध मक्खन हरी सब्जियां तेल कलेजी आदि बांझपन, एनीमिया
विटामिन ‘के’ नेफ़्थोक्विनोन टमाटर हरी सब्जियां रक्त स्कंदन
फोलिक अम्ल तेरोईल ग्लूटेमिक दाल, अंडा, यकृत, सेम, सब्जियां
Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Comment