जीवाणु जनित पशु रोग (Bacterial animal disease)

Table of Contents

जीवाणु जनित पशु रोग (Bacterial animal disease)

क्र.स. रोग प्रभावित पशु रोग कारक रोग के लक्षण बचाव और चिकित्सा
1 तितली ज्वर एवं गिल्टी रोग गौ-पशु, भेड़, बकरी, घोड़े, खच्चर, सूअर एवं कुत्ता बैसिलस एंथ्रेसिस अतितीव्र-प्रायः भेड़ में अचानक मृत्यु, मुंह, नाक, गुदा एवं भग द्वार से झाग युक्त काला रुधिर स्त्राव, मांसपेशियों में कंपन, दांत किटकिटाना, आंखों का घूमना, सांस लेने में कठिनाई एंटी एन्थैक्स सीरम, एन्थ्रैक्स स्पोर वैक्सीन, इंट्राडरमिक स्पोरवैक्सीन, एन्थ्रैक्स बैसिलस वैक्सीन

एंटी एन्थैक्स सीरम-अंतशिरा विधि से जीवाणुनाशक जैसे-पैनिसिलिन, टेरामाइसीन, आरियोमाइसीन

2 जोहनीस रोग गौ-पशु, भेड़, बकरी माइक्रोबैक्टीरि

पैराट्यूबरकुलोसिस

रोग का ऊष्मायनकाल2-6वर्ष, कमजोरी, बदबूदार गैस के बुलबुले युक्त दस्त, मृत्यु, यह प्राय: पशुओं के झुंडों में दिखाई पड़ता है जोहनीस रोग के जीवित दंडाणुओं से निर्मित टीके लेनोलिन में घोलकर अधोत्वचा
3 गलघोटू, शिपिंग ज्वर,पाश्चरेलोसिस, घुर्रका, एच.एस. गौ-पशु, भैंस, वन्य रोमान्थी, भेड़, बकरियां एवं सूअर पाश्चुरेला मल्टोसीडा अति तीव्र 10-24 घंटों में मृत्यु, तीव्र श्वास में कष्ट, तीव्र ज्वर से सिर, ग्रीवा, गला,ड्यूलप और वक्ष में अधोत्वचीय शोध के कारण सूजन, श्वसन में विशिष्ट घुर्र-धुर्र की ध्वनि एवं मृत्यु एच.एस.ब्राथ वैक्सीन, एच.एस.अगर ब्राथ वैक्सीन एच.एस.आयल एडजुबैन्ट वैक्सीन

सल्फा मैथाजीन, स्ट्रैपटोमाइसीन, पेनिसिलीन, ट्राइसाइक्लीन्स और क्लोर एम्फेनिकाल

4 मैमाइटिन संक्रमण, थनैला रोग गौ-पशु, भैंस, बकरी, भेड़, सूअर, एवं घोड़ा (सभी मादा) स्ट्रैप्टोकोकस पायोजेनिस, स्ट्रैफाइलोकोकस आरियस, स्ट्रैप्टोकोकस एग्लैक्सीआदि फाइब्रिन के थक्के, दूध के रंग में परिवर्तन,अयन गर्म होना व सूजन, सूजन, कठोरता, कभी-कभी बुखार आना, दोहन में रोगी को कष्ट एवं थन का बेकार होना कोई भी टीका उपलब्ध नहीं है ग्राम धनात्मक जीवाणुओं के लिए पेनिसिलिन तथा ऋणात्मक के लिए स्ट्रेप्टोमाइसन, ओरियोमाइसन, टेरामाइसिन और सल्फा औषधियां
5 क्षय रोग स्तनधारी माइक्रोबैक्टीरियम ट्यूबरकुलोसिस रोगी पशु में कमजोरी, भोजन के प्रति अरुचि, दुर्बलता का निरंतर बढ़ना, ज्वर, लसन ग्रंथियों में सूजन, पाचन विकार, श्वसन विकार, गर्भपात एवं बांझपन, मस्तिष्कावरण शोथ, दूध उत्पादन रुकना बी.सी.जी.

आर्थिक दृष्टिकोण के आधार पर सिफारिश नहीं की जाती

 

Share on facebook
Facebook
Share on twitter
Twitter
Share on whatsapp
WhatsApp

Leave a Comment