क्या है विश्व स्वर्ण परिषद?

विश्व स्वर्ण परिषद (World Gold Council)

  • विश्व स्वर्ण परिषद स्वर्ण उद्योग बाजार विकास के लिए एक संगठन है।
  • यह सोने के खनन से लेकर निवेश तक उद्योग के सभी हिस्सों में काम करता है
  • विश्व स्वर्ण परिषद एक ऐसा संघ है जिसके सदस्यों में विश्व की अग्रणी स्वर्ण खनन कंपनियां शामिल हैं।
  • यह अपने सदस्यों को समर्थन करने में मदद करता है और संघर्ष मुक्त स्वर्ण मानक विकसित करता है।

उद्देश्य

  • इसका उद्देश्य सोने की मांग को प्रोत्साहित करना और बनाए रखना है।
  • इसका उद्देश्य स्वर्ण उद्योग को वैश्विक नेतृत्व प्रदान करना है।
  • इसके अलावा यह अंतर्राष्ट्रीय स्वर्ण बाज़ारों के संबंध में अंतर्दृष्टि प्रदान करती है ।
  • समाज की सामाजिक और पर्यावरणीय आवश्यकताओं को पूरा करने में सोने की उपयोगिता समझने में लोगों की मदद करती है।

मुख्यालय/कार्यालय

  • विश्व स्वर्ण परिषद का मुख्यालय लंदन,यूनाइटेड किंगडम में है
  • विश्व स्वर्ण परिषद के भारत, चीन, सिंगापुर और संयुक्त राज्य अमेरिका में कार्यालय हैं

कार्य

  • नीतियों का विकास करना और स्वर्ण उद्योग के मानकों को स्थापित करना,
  • स्वर्ण बाजार के बुनियादी ढाँचे को मजबूत करना।
  • स्वर्ण उद्योग से जुड़े वैश्विक डेटा और अंतर्दृष्टि को बढ़ाना।
  • नए निवेशकों को स्वर्ण उद्योग में आने के लिये प्रोत्साहित करना।
  • केंद्रीय बैंकों को सलाह देना।
  • वैश्विक संवाद को बढ़ावा देना।

विश्व स्वर्ण परिषद के मुताबिक दुनिया में निम्नलिखित 10 देशों के पास सबसे ज्यादा स्वर्ण भंडार है

  1. अमेरिका
  2. जर्मनी
  3. इटली
  4. फ्रांस
  5. रूस
  6. चीन
  7. स्विट्जरलैंड
  8. जापान
  9. भारत
  10. नीदरलैंड