कैसे मिलता है ‘महारत्न’ का दर्जा?

‘महारत्न’ का दर्जा

  • महारत्न’ व्यवस्था की शुरुआत वर्ष 2010 में सार्वजनिक क्षेत्र के बड़े उद्यमों को वैश्विक दिग्गज बनाने के उद्देश्य से की गई थी।
  • ‘केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों’ का आशय उन कंपनियों से है, जिनमें केंद्र सरकार की प्रत्यक्ष हिस्सेदारी 51% या उससे अधिक होती है।
  • ‘महारत्न’ का दर्जा उस कंपनी को दिया जाता है जिसने लगातार बीते तीन वर्षों में 5,000 करोड़ रुपए से अधिक का शुद्ध लाभ प्राप्त किया है।
  • बीते तीन वर्षों के लिये उसका औसत वार्षिक कारोबार 25,000 करोड़ रुपए राह हो।
  • बीते तीन वर्षों के लिये उसका औसत वार्षिक शुद्ध मूल्य 15,000 करोड़ रुपए है।
  • केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों’ के लिये भारतीय स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध होने हेतु ‘नवरत्न’ का दर्जा प्राप्त करना अनिवार्य है।
  • सरकार ने ‘केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र के उद्यमों’ को महारत्न, नवरत्न और मिनीरत्न का दर्जा देने के लिये मानदंड निर्धारित किये हैं।

भारत में महारत्न PSUs की संख्या

  1. भारत हेवी इलेक्ट्रिकल्‍स लिमिटेड
  2. भारत पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड
  3. कोल इंडिया लिमिटेड
  4. गेल इंडिया लिमिटेड
  5. हिंदुस्तान पेट्रोलियम कॉर्पोरेशन लिमिटेड
  6. इंडियन आयल कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया
  7. राष्ट्रीय ताप विद्युत निगम लिमिटेड
  8. ऑयल एंड नेचुरल गैस कॉर्पोरेशन लिमिटेड
  9. स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड
  10. पॉवर ग्रिड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड
  11. ‘पावर फाइनेंस कॉरपोरेशन’