ऐलुमिनियम तथा उसके यौगिक

ऐलुमिनियम (Aluminum)

  • यह चांदी के समान सफेद धातु है किंतु अपद्रव्यों की उपस्थिति के कारण इसका रंग कुछ नीला होता है एलुमिनियम का निष्कर्षण बॉक्साइट से किया जाता है
  • इसका प्रयोग बर्तनों के निर्माण, विद्युत तार के उत्पादन में अपचायक के रूप में होता है स्टील उद्योग में इसका उपयोग डीऑक्सीडाइजर के रूप में किया जाता है क्योंकि यह इस्पात में मौजूद नाइट्रोजन एवं ऑक्सीजन का अवशोषण कर लेती है |

ऐलुमिनियम के यौगिक (Aluminum compounds)


फिटकरी

  • फिटकरी का रासायनिक नाम पोटेशियम अमोनियम सल्फेट है इसका रासायनिक सूत्र K2SO4 ⋅ (SO4)3 ⋅ 24H2O होता है यहां एक द्विक लवण है यह रंगहीन क्रिस्टलीय पदार्थ है गर्म करने पर यह पिघल जाती है एवं 100॰ सेल्सियस पर निर्जलित हो जाती है |
  • फिटकरी समाकृतिक का गुण प्रदर्शित करती है पोटेशियम सल्फेट एवं ऐलुमिनियम सल्फेट के विलियनों का वाष्पन करने पर फिटकरी के क्रिस्टल प्राप्त होते हैं |
  • इसका प्रयोग रक्त प्रवाह रोकने में, कागज एवम चमड़ा उद्योग में, जल को मृदु बनाने में किया जाता है |

ऐलुमिना

  • यह प्रकृति में बॉक्साइट कोरण्डम, नीलम आदि के रूप में पाया जाता है यह एक उभयधर्मी ऑक्साइड है अतः यह अम्ल और क्षार दोनों से अभिक्रिया करता है इसका प्रयोग कृत्रिम रत्न बनाने में ऐलुमिनियम धातु बनाने में, ऐलुमिनियम के अन्य लवणों के निर्माण में उत्प्रेरक के रूप में तथा भट्टियों में अस्तर लगाने में होता है |

ऐलुमिनियम सल्फेट

  • Al2(SO4)3 ⋅ 18H2O को हेयर साल्ट कहते है इसका उपयोग कपड़ो की छपाई और रंगाई में रंग बंधक के रूप में तथा आग बुझाने में किया जाता है इसका उपयोग फिटकरी बनाने में भी होता है |

  • ऐलुमिनियम कार्बाइड को मेथेनाइट कहते हैं |
  • ऐलुमिनियम को बर्तनों पर जब एक विशेष प्रक्रिया द्वारा ऐलुमिनियम ऑक्साइड की परत चढ़ाई जाती है तो इसे ऐलुमिनियम की परत चढ़ाना कहते हैं इस प्रकार का बर्तन जंग रहित एवं विद्युत का कुचालक बन जाता है |

 

Leave a Comment