क्या होता है सिकल सेल रोग ?

सिकल सेल रोग (Sickle Cell Disease)

  • सिकल सेल रोग (SCD) या सिकल सेल एनीमिया (रक्ताल्पता) लाल रक्त कोशिकाओं से जुडी एक प्रमुख वंशानुगत विकार है।
  • जिसमें इन लाल रक्त कोशिकाओं का आकार अर्द्धचंद्र/हसिया (Sickle) जैसा हो जाता है।
  • ये असामान्य आकार की लाल रक्त कोशिकाएँ कठोर तथा चिपचिपी हो जाती हैं और रक्त वाहिकाओं में फंस जाती हैं, जिससे शरीर के कई हिस्सों में रक्त एवं ऑक्सीजन का प्रवाह या तो कम हो जाता है या रुक जाता है।
  • यह आसामान्य आकार RBCs के जीवनकाल को भी कम करता है तथा एनीमिया (रक्ताल्पता) का कारण बनता है, जिसे सिकल सेल एनीमिया के नाम से जाना जाता है।

मुख्य बिंदु

  • यह एक अनुवांशिक रोग है, इसमें लाल रक्त कोशिकाएं गोलाकार के बजाय दरांती (sickle) के आकार की होती हैं।
  • इस रोग से पीड़ित व्यक्ति को बार-बार ब्लड ट्रांसफ्यूजन की जरुरत पड़ती है।
  • इस रोग के लक्षण इस प्रकार हैं- सांस लेने में तकलीफ,कमजोर प्रतिरक्षण क्षमता, बार-बार संक्रमण होना, शरीर का कम विकास, देखने में कठिनाई तथा हाथ व पैर में सूजन
  • विश्व सिकल सेल दिवस हर साल 19 जून को मनाया जाता है।
  • संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 22 दिसंबर, 2008 को सिकल सेल रोग को एक सार्वजनिक स्वास्थ्य समस्या के रूप में मान्यता देने के लिए एक प्रस्ताव अपनाया।