मैग्नीशियम (Magnesium), मैग्नीशियम के यौगिक (Magnesium compounds)

1881
0

मैग्नीशियम (Magnesium)

  • मैग्नीशियम चांदी के समान उजली एवं चमकीली धातु है इसका निष्कर्षण कार्नेलाइट अयस्क (KCI ⋅ MgCl2 ⋅ 6H2O) द्वारा किया जाता है |
  • मैग्नीशियम एक धातु है। मैग्नीशियम सामान्य रक्तचाप, मजबूत हड्डियों और स्थिर हृदय धड़कन को बनाए रखने में मदद करता है।
  • पौधों को हरा रंग प्रदान करने वाले वर्णक क्लोरोफिल में पाई जाती है |
  • मैग्नीशियम का उपयोग फ्लैश लाइट रिबन बनाने में, फोटोग्राफी एवं आतिशबाजी में मिश्र धातु बनाने में किया जाता है |
  • फ्लैश बल्बों में नाइट्रोजन गैस की वायुमंडल में मैग्नीशियम का तार रखा रहता है |

मैग्नीशियम के यौगिक (Magnesium compounds)


मैग्नीशियम ऑक्साइड (Magnesium oxide)

  • यह मिल्क ऑफ मैग्नीशिया के नाम से भी जाना जाता है इसका रासायनिक MgO सूत्र है इसका उपयोग दवा के रूप में पेट की अम्लता दूर करने में किया जाता है |

मैग्नीशियम सल्फेट (Magnesium sulphate)

  • प्रकृति में इप्सोमाइट के रूप में  इप्सम के गर्म झरनों में पाया जाता है, इप्सम लवण का रासायनिक सूत्र MgSo4 ⋅ 7H2O) है यह एक प्रस्वेद्य यौगिक है इसका उपयोग दस्तावर के रूप में होता है |

मैग्नीशियम एल्वा (Magnesium elva)

  • मैग्नीशियम एल्वा [Mg(OH)2 ⋅ MgCo3 ⋅ 3H2O]  का प्रयोग पेट की अम्लीयता दूर करने में किया जाता है यह एक एंटिएसिड (प्रति अम्ल) है |

सोरेल सीमेंट (Sorrel cement)

  • MgCl2 ⋅ 5MgO ⋅ xH2O को सोरेल सीमेंट कहते हैं |

मैग्नीशियम के स्रोत (Sources of magnesium)

मैग्नीशियम के प्राकृतिक खाद्य स्रोत निम्नलिखित हैं – हरी पौधों और पत्तेदार सब्जियां, जैसे – साबुत अनाज, मछली, हरी और पत्‍तेदार सब्जियों, सूरजमुखी के बीज, कद्दू के बीज, ब्राउन राइस, बादाम, पालक, दलिया, आलू, दही, बींस, डेयरी उत्‍पाद, चॉकलेट कॉफी। पॉलिशिंग और विनिर्माण के दौरान मैग्नीशियम पाया जाता है।


मैग्नीशियम की कमी से होने वाली समस्याएं(Problems with the lack of magnesium deficiency)

  • मैग्‍नीशियम रक्‍तचाप को विनियमित करने में महत्‍वपूर्ण भूमिका निभाता है, यह हाइपरटेंशन से बचाव करता है।
  • खाने में मैग्‍नीशियम की कमी होने पर याद्दाशत कमज़ोर हो जाती है। याददाश्‍त की क्षमता को बढ़ाने के लिए मैग्‍नीशियम का सेवन भरपूर मात्रा में करना चाहिए।
  • गर्भवती महिला और उसके भ्रूण के लिए मैग्‍नीशियम बहुत जरूरी है। गर्भवती महिला के शरीर में पल रहे बच्‍चे के ऊतकों की मरम्‍मत के लिए 350-400 मिग्रा अतिरिक्‍त मैग्‍नीशियम की जरूरत होती है।
  • हड्डियों में मैग्‍नीशियम की कमी होने से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और ऑस्टियोपोरोसिस की संभावना भी बढ़ जाती है। पूरे शरीर का आधे से अधिक मैग्नीशियम हमारी हड्डियों में पाया जाता है।
  • मैग्‍नीशियम की भरपूर मात्रा न लेने से सिरदर्द, अनिद्रा, तनाव आदि की शिकायत हो सकती है।
  •  शरीर में मैग्‍नीशियम की कमी हो जाये तो दिल के दौरे का खतरा अधिक होता है। इसलिए दिल को मजबूत बनाने के लिए मैग्‍नीशियम का सेवन भरपूर मात्रा में करना चाहिए।
  • शरीर में मैग्‍नीशियम की कमी हो जाये तो इसके कारण टाइप-2 डायबिटीज होने की संभावना अधिक होती है |

tags -: Magnesium Kya Hai, Problems with the lack of magnesium deficiency,  

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here