मुस्लिम लीग की स्थापना (Muslim League)

  • ‘दयानंद सरस्वती’ द्वारा 1882 ई० में ‘गोरक्षिणी सभाओं’ का गठन किया गया। तब से 1893 ई० तक पश्चिम भारत में अनेक दंगे हुए।
  • कांग्रेस के कई सदस्य इन गोरक्षिणी सभाओं के सदस्य थे जिनको अनुशासित करने में कांग्रेस विफल रही तथा कांग्रेस की धर्मनिरपेक्ष छवि को इससे धक्का पहुंचा।
  • प्रो० जॉन मैक्लेन ने अपनी पुस्तक इंडियन नेशनलिज्म एंड अर्ली कांग्रेस में इन दंगों की वजह से कांग्रेस अधिवेशनों में मुसलमान प्रतिनिधियों की घटती संख्या की ओर संकेत किया।
  • 30 दिसंबर 1906 को ढाका में आयोजित मुहम्मडन एजुकेशनल कान्फ्रेंस की बैठक में मुसलमानों के लिए एक अलग राजनीतिक दल की आवश्यकता महसूस की गई।
  • 30 दिसंबर, 1906 ई० को ही उपरोक्त बैठक में मुस्लिम लीग की स्थापना हुई।
  • ढाका के नवाब सलीमुल्ला खाँ लीग के संस्थापक अध्यक्ष बने तथा प्रथम अधिवेशन की अध्यक्षता वकार-उल-मुल्क ने की।
  • 1908 ई० में मुस्लिम लीग का पहला स्थाई अध्यक्ष आगा खाँ को बनाया गया तथा इसी वर्ष अलीगढ़ में एक 40 सदस्यीय केंद्रीय समिति की स्थापना हुई।
  • 1911 ई० के बाद की कुछ अंतरराष्ट्रीय घटनाओं जैसे-बाल्कन युद्ध, युवा तुर्क आंदोलन आदि ने भारतीय मुसलमानों में अंग्रेजों के प्रति राजभक्ति का भाव कम किया।
  • 1913 ई० में लीग ने अपने संविधान में संशोधन करके अपना उद्देश्य भारत में ‘औपनिवेशिक स्वशासन’ की मांग करना निश्चित किया।
Total
0
Shares
Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Posts
Read More

मराठा राज्य | शिवाजी के नेतृत्व में मराठों का उदय

Table of Contents Hide मराठों का उत्थानमराठा राज्य के संस्थापकशिवाजी का पालन पोषणशिवाजी का राजनैतिक जीवनबीजापुर की घटनासूरत…
Read More

मुहम्मद बिन तुगलक की 5 विफल योजनाएं, जिनकी वजह से उसे बुद्धिमान मूर्ख राजा कहा जाता है |

मुहम्मद बिन तुगलक की योजनाएं (Schemes of Muhammad bin Tughluq) बरनी ने मोहम्मद बिन तुगलक की 5 योजनाओं…
हमारा Android App (GuideBook-The Most Powerful Preparation App) डाउनलोड कीजिये !
Download