1857 ई० के पूर्व के सिपाही विद्रोह

  • 1764ई०-हैक्टर मुनरो की एक बटालियन बक्सर के युद्ध में विद्रोह कर मीर कासिम से जा मिली। –
  • 1806 ई०-सैनिकों ने अपने सामाजिक-धार्मिक रीति-निवाज में हस्तक्षेप के विरोध में वेलौर में विद्रोह किया।
  • 1824ई०-47वीं पदाति टुकड़ी ने पर्याप्त भत्ते के बिना बर्मा युद्ध पर जाने के आदेश के विरोध में विद्रोह कर दिया।
  • 1825 ई०-असम के तोपखाने में विद्रोह हुआ।
  • 1838 ई०-पूरा भत्ता न मिलने के कारण शोलापुर स्थित एक भारतीय टुकड़ी ने विद्रोह कर दिया।
  • 1844ई०-34वीं नेटिव इन्फैन्ट्री तथा 64वीं रेजिमेंट ने कुछ अन्य लोगों के साथ मिलकर पुराना भत्ता न मिलने तक सिंध के अभियान में भाग लेना स्वीकार नहीं किया।
  • 1849-50 ई०-कंपनी की पंजाब पर अधिकार करने वाली सेना में विद्रोह की भावना जाग रही थी तथा अंत में 1850 ई० में गोविंद गढ़ में रेजीमेंट ने विद्रोह कर दिया।